https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

नक्षत्र – पूर्वाभाद्रपद

रंगः सुनहरा, सिल्वर
भाग्यशाली अक्षर ः स और ड

पूर्वा भाद्रपद का प्रतीक अंतिम संस्कार के खाट(अर्थी) के सामने दो पैर (या दो चेहरे वाला आदमी) होता हैं | कुछ इसकी व्याख्या ‘शुभ पैर’ के तौर पर करते हैं | इसके इष्टदेव अजोपाद हैं , गोरखनाथ या रुद्र भी माना जाता हैं | पुष्य नक्षत्र की तरह, पूर्वा भाद्रपद के लोग भी महान आध्यात्मिक क्षमता वाले होते हैं | यह आत्मा को अंतर्दृष्टि, धारणा, अनुदान और उच्च आध्यात्मिक शक्ति देता हैं | जो जातक इस नक्षत्र के अंतर्गत पैदा होते हैं वो गंभीर, बेचैन , अनुभूत व्यक्ति, जो दिल पर टकराव लेने वाले होते हैं | ये आग, गर्मी, जुनून, क्रोध, लालच और सनक के साथ जुड़े हुए रहते हैं | इनका भाषण और क्रोध विनाशकारी होता हैं | बुराई और जादू के लिए इनका आकर्षण इन्हे सनकी और विद्रोही बना देता हैं |ये जोखिम लेने से डरते नहीं हैं | इस नक्षत्र के प्रभाव के तहत किए गए कार्य से पश्चाताप उत्पन्न होता हैं | इस नक्षत्र के तहत पैदा हुए लोग आध्यात्मिक आकांक्षी और स्वार्थ से प्रेरित नहीं होते हैं | वास्तव में, ये स्वयं का बलिदान करके दुनिया को बदलना चाहते हैं |ये गुरु और भगवान का अत्यधिक सम्मान करते हैं, और संस्कार और अनुष्ठानों के बारे में विशेष रूप से जानकार होते हैं | ये प्रसिद्धि और सम्मान पाने के लिए संतुलित दृष्टिकोण और उदारवादी जीवन शैली अपनाते हैं |ये शायद ही कभी हड़ताल पर जाते हैं | ये आसानी से जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए हाथ का विस्तार कर सकते हैं, लेकिन इसका बदला शायद ही कभी इन्हे मिलता हैं | पूर्वा भाद्रपद में जन्में व्यक्ति के पिता उस में गर्व करते हैं और संतोष की भावना रखते हैं जबकि ये अपनी माँ की ममता से महरूम हो सकते हैं | वास्तव में, इनके कम उम्र में अपनी मां से अलग होने की संभावना होती हैं | इन्हे खाना पसंद होता हैं और ये पेटू होते हैं और अत्यधिक भक्षण करते हैं | पुर्वाभाद्रपद के लोगों को अम्लता, मधुमेह, और पसलियों और पैरों के तलवों से संबंधित समस्या उत्पन्न हो सकती हैं | पेशे से ये क्रूर कार्य करने वाले बनते हैं जैसे मौत, हत्या, कट्टरता, आतंकवाद, आत्मनिग्रह, काला जादू, जल्लाद आदि |

गणेशजी के आशीर्वाद सहित
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us