होम » चौघड़िया
animated-deepak

चौघड़िया मुहूर्त अहमदाबाद के लिए

animated-deepak

चौघड़िया मुहूर्त वैदिक हिंदू कैलेंडर, पंचांग का एक हिस्सा है। ‘चो’ शब्द का अर्थ है चार और ‘घड़ी’ का अर्थ हिंदी में घड़ी और चौघड़िया का कुल आरोह 96 मिनट है। चौघड़िया भारत में समय की गणना के लिए एक प्राचीन उपाय है जो लगभग प्रत्येक मंडल में 24 मिनट के बराबर है।

चौघड़िया Sat, 18 May 2024

Ahmedabad
शुभ
अशुभ
सामान्य
Rahu kaal राहु काल
Full Sun दिन चौघड़िया
Half sun काल- हानि 05:56 – 07:36
Half sun शुभ- अच्छा 07:36 – 09:16
Half sun रोग- अमंगल watch 09:16 – 10:56
Half sun उद्वेग- अशुभ 10:56 – 12:36
Half sun चल- सामान्य 12:36 – 14:16
Half sun लाभ- उन्नति 14:16 – 15:56
Half sun अमृत- सर्वोत्तम 15:56 – 17:36
Half sun काल- हानि 17:36 – 19:16
Full Sun रात चौघड़िया
Half sun लाभ- उन्नति 19:16 – 20:35
Half sun उद्वेग- अशुभ 20:35 – 21:55
Half sun शुभ- अच्छा 21:55 – 23:15
Half sun अमृत- सर्वोत्तम 23:15 – 00:35
Half sun चल- सामान्य 00:35 – 01:55
Half sun रोग- अमंगल 01:55 – 03:15
Half sun काल- हानि 03:15 – 04:35
Half sun लाभ- उन्नति 04:35 – 05:54

चौघड़िया के बारे में

चौघड़िया या चोगड़िया का प्रयोग नया काम शुरू करने के लिए शुभ मुहूर्त की जांच के लिए किया जाता है। परंपरागत रूप से चौघड़िया का उपयोग यात्रा मुहूर्त के लिए किया जाता है लेकिन इसकी सादगी के कारण इसका उपयोग किसी भी मुहूर्त के लिए किया जाता है। शुभ काम शुरू करने के लिए चार अच्छे चौघड़िया, अमृत, शुभ, लाभ और चार हैं। तीन खराब चौघड़िया, रोग, काल और उदवेग से बचना चाहिए। सूर्योदय और सूर्यास्त के बीच के समय को दिन चौघड़िया और सूर्यास्त और अगले दिन सूर्योदय के बीच के समय को रात चौघड़िया कहा जाता है।

वार वेला, काल वेला और काल रात्रि के बारे में

ऐसा माना जाता है कि वार वेला, काल वेला और काल रात्रि के दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। वार वेला और काल वेला दिन के समय प्रबल होते हैं जबकि काल रात्री रात के समय प्रबल होती है। ऐसा माना जाता है कि इस समय में किए गए सभी मांगलिक कार्य फलदायी नहीं होते हैं।

चौघड़िया को अच्छा या बुरा कैसे चिह्नित करें?

प्रत्येक सप्ताह के दिन पहले मुहूर्त पर सप्ताह के स्वामी का शासन होता है। उदाहरण के लिए, रविवार को पहला चौघड़िया मुहूर्त सूर्य द्वारा शासित होता है, उसके बाद क्रमशः शुक्र, बुध, चंद्रमा, शनि, बृहस्पति और मंगल का शासन होता है। दिन का अंतिम मुहूर्त भी दिन के स्वामी द्वारा शासित होता है।

इसलिए प्रत्येक विभाजन का प्रभाव, चाहे वह बुरा हो या अच्छा, शासक ग्रह की प्रकृति के आधार पर चिह्नित किया जाता है। वैदिक ज्योतिष में, शुक्र, बुध, चंद्रमा और बृहस्पति के प्रभाव में आने वाली अवधि को आमतौर पर शुभ माना जाता है जबकि सूर्य, मंगल और शनि के प्रभाव में आने वाली अवधि को आमतौर पर अशुभ माना जाता है। उपरोक्त जानकारी के आधार पर, हम प्रत्येक चौघड़िया मुहूर्त को बुरा या अच्छा के रूप में चिह्नित कर सकते हैं। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि वांछित कार्य के आधार पर बुरा चौघड़िया भी उपयुक्त हो सकता है जिसे पूरा करने की आवश्यकता है।

महत्वपूर्ण शुभ मुहूर्त

उद्वेग मुहूर्त
ज्योतिष में सूर्य के प्रभाव को आमतौर पर अशुभ माना गया है इसीलिए इसे उद्वेग के रूप में चिह्नित किया जाता है। हालांकि, इस चौघड़िया में सरकारी कार्यों को किया जा सकता है।
चर मुहूर्त
शुक्र को एक शुभ और लाभकारी ग्रह माना जाता है। इसलिए इसे चर या चंचल रूप में चिह्नित किया गया है। शुक्र की चर प्रकृति के कारण, चर चौघड़िया को यात्रा उद्देश्य के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है।
लाभ मुहूर्त
बुध ग्रह भी शुभ और लाभदायक ग्रह है इसलिए इसे लाभ के रूप में चिह्नित किया गया है। लाभ के चौघड़िया में शिक्षा या किसी विद्या को सिखने का कार्य प्रारंभ किया जाता है तो वह फलदायी होता है।
अमृता मुहूर्त
चंद्र ग्रह अति शुभ और लाभकारी ग्रह है। इसीलिए इसे अमृत के रूप में चिह्नित किया गया है। अमृत चौघड़िया को सभी प्रकार के कार्यों के लिए अच्छा माना जाता है।
काल मुहूर्त
शनि एक पापी ग्रह है इसीलिए इसे काल के रूप में चिह्नित किया गया है। काल चौघड़िया के दौरान कोई शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। हालांकि, कुछ मामलों में धनोपार्जन हेतु की जाने वाली गतिविधियों के लिए यह लाभदायक सिद्ध हो सकता है।
शुभ मुहूर्त
बृहस्पति अत्यंत ही शुभ ग्रह है और यह लाभकारी ग्रह माना गया है। इसलिए इसे शुभ के रूप में चिह्नित किया जाता है। शुभ चौघड़िया को विशेष रूप से विवाह समारोह आयोजित करने के लिए उपयुक्त माना जाता है।
रोग मुहूर्त
मंगल एक क्रूर और अनिष्टकारी ग्रह है। इसलिए इसे रोग के रूप में चिह्नित किया गया है। रोग चौघड़िया के दौरान कोई शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। लेकिन युद्ध में शुत्र को हराने के लिए रोग चौघड़िया की अनुशंसा की जाती है।

Swastikज्योतिषीय गोचर और देखें

May 2024

The 6th House, 8th House and the 12th House: Problematic Houses?
The 6th House, 8th House and the 12th House: Problematic Houses?

Explanation of the Negative Houses in Astrology: In Astrology, the 6th House, the 8th House and the 12th House are…

महादशा और अंतर्दशा – क्या वे आपको प्रभावित कर रही हैं?
महादशा और अंतर्दशा – क्या वे आपको प्रभावित कर रही हैं?

ज्योतिषीय भविष्यवाणियों में ग्रह, उनकी स्थिति और चाल या स्थानान्तरण हमेशा महत्वपूर्ण रहे हैं। प्रत्येक ग्रह का जातक के जीवन…

रामायण की प्रमुख घटनाओं पर है ग्रह नक्षत्रों का प्रभाव, पढ़िए यहां विशेष बातें
रामायण की प्रमुख घटनाओं पर है ग्रह नक्षत्रों का प्रभाव, पढ़िए यहां विशेष बातें

देश में राम मंदिर के उद्घाटन के शुभ अवसर की प्रतीक्षा अब लगभग पूरी हो गई है। 22 जनवरी को…

राष्ट्रीय युवा दिवस (भारत) विशेष में युवाओं के लिए ज्योतिष भविष्यवाणी
राष्ट्रीय युवा दिवस (भारत) विशेष में युवाओं के लिए ज्योतिष भविष्यवाणी

यूथ मीन्स ऊर्जा गतिशीलता उमंग और उत्साह यदि आप युवा को उल्टा करे तो वायु होता है अर्थात गतिशीलता ,…

जन्म तारीख से जानें कैसा होगा नया साल 2024 – जन्मतिथि के अनुसार अंकज्योतिष भविष्यवाणियाँ
जन्म तारीख से जानें कैसा होगा नया साल 2024 – जन्मतिथि के अनुसार अंकज्योतिष भविष्यवाणियाँ

उसी ऊर्जा का प्रभाव व्यक्ति के ऊपर पढ़ता है। जो की हमारे जीवन को बाहरी और आंतरिक दोनों तरह से…

शुक्र और मंगल की धनु राशि में युति
शुक्र और मंगल की धनु राशि में युति

ग्रह मंडल के महत्वपूर्ण ग्रह शुक्र और मंगल 18 जनवरी 2024 के दिन धनु राशि  में प्रवेश करेंगे इस परिभ्रमण…

सूर्य का मकर राशि में गोचर
सूर्य का मकर राशि में गोचर

सूर्य का मकर राशि में गोचर जनवरी 14, 2024, रविवार को 16:24 बजे होने जा रहा है। सूर्य का यह…

रिंग समारोह मुहूर्त 2024: तिथियां, समय और महत्व
रिंग समारोह मुहूर्त 2024: तिथियां, समय और महत्व

शादी करना और घर बसाना हर व्यक्ति के जीवन की सबसे बड़ी घटनाओं में से एक है। परिवार न केवल…

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों

चौघड़िया क्या है

चौघड़िया शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – चो, यानी चार, और घड़िया, यानी घडी। हिंदू समय के अनुसार प्रत्येक घड़ी 24 मिनट के बराबर होती है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक 30 घड़ियाँ होती हैं जो 8 से विभाजित होती हैं। तो, 8 दिन चौघड़िया मुहूर्त और 8 रात चौघड़िया मुहूर्त हैं। एक चौघड़िया 4 घडि़यों (लगभग 96 मिनट) के बराबर होती है। तो, एक चौघड़िया लगभग 1.5 घंटे तक रहता है।

चौघड़िया मुहूर्त के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

चौघड़िया शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – चो, यानी चार, और घड़िया, यानी घडी। हिंदू समय के अनुसार प्रत्येक घड़ी 24 मिनट के बराबर होती है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक 30 घड़ियाँ होती हैं जो 8 से विभाजित होती हैं। तो, 8 दिन चौघड़िया मुहूर्त और 8 रात चौघड़िया मुहूर्त हैं। एक चौघड़िया 4 घडि़यों (लगभग 96 मिनट) के बराबर होती है। तो, एक चौघड़िया लगभग 1.5 घंटे तक रहता है।

वार वेला, काल वेला, काल रात्रि क्या हैं?

चौघड़िया शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – चो, यानी चार, और घड़िया, यानी घडी। हिंदू समय के अनुसार प्रत्येक घड़ी 24 मिनट के बराबर होती है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक 30 घड़ियाँ होती हैं जो 8 से विभाजित होती हैं

क्या होगा यदि एक शुभ चौघड़िया मुहूर्त वेला, काल या रात्री के अशुभ समय के साथ मेल खाता है?

चौघड़िया शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – चो, यानी चार, और घड़िया, यानी घडी। हिंदू समय के अनुसार प्रत्येक घड़ी 24 मिनट के बराबर होती है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक 30 घड़ियाँ होती हैं जो 8 से विभाजित होती हैं। तो, 8 दिन चौघड़िया मुहूर्त और 8 रात चौघड़िया मुहूर्त हैं। एक चौघड़िया 4 घडि़यों (लगभग 96 मिनट) के बराबर होती है। तो, एक चौघड़िया लगभग 1.5 घंटे तक रहता है।