Deepak

Choghadiya

Deepak

Choghadiya Muhurat is a part of the Vedic Hindu calendar, Panchang. The words ‘Cho’ means four and ‘Ghadi’ mean clock in Hindi and Choghadiya in total mounts to 96 minutes. Choghadiya is an ancient measure for calculations of time in India roughly equivalent to 24 minutes in each division.

Ok

Today’s Choghadiya Mon, 28 Nov 2022

Ahmedabad
Auspicious
Inauspicious
Normal
Rahu KaalaRahu Kaal
Day Choghadiya दिन चौघड़िया
Lampअमृत - सर्वश्रेष्ठ Taurus Horoscope 2022 07:01 - 08:22
Lampकाल - हानि Taurus Horoscope 2022 08:22 - 09:44
Lampशुभ - अच्छा Taurus Horoscope 2022 09:44 - 11:05
Lampरोग - बुराई Taurus Horoscope 2022 11:05 - 12:27
Lampउद्वेग - बीएड Taurus Horoscope 2022 12:27 - 13:48
Lampचल - नेचरल Taurus Horoscope 2022 13:48 - 15:10
Lampलाभ - गेन Taurus Horoscope 2022 15:10 - 16:31
Lampअमृत - सर्वश्रेष्ठ Taurus Horoscope 2022 16:31 - 17:53
Night Choghadiya रात चौघड़िया
Lampचल - नेचरल Taurus Horoscope 2022 17:53 - 19:31
Lampरोग - बुराई Taurus Horoscope 2022 19:31 - 21:10
Lampकाल - हानि Taurus Horoscope 2022 21:10 - 22:48
Lampलाभ - गेन Taurus Horoscope 2022 22:48 - 00:27
Lampउद्वेग - बीएड Taurus Horoscope 2022 00:27 - 02:06
Lampशुभ - अच्छा Taurus Horoscope 2022 02:06 - 03:44
Lampअमृत - सर्वश्रेष्ठ Taurus Horoscope 2022 03:44 - 05:23
Lampचल - नेचरल Taurus Horoscope 2022 05:23 - 07:01

More Expert Astrologers

astrologers
Acharya Angad
Rating
4935
₹30.00/Min
astrologers
Acharya Angad
Rating
4935
₹30.00/Min
astrologers
Acharya Angad
Rating
4935
₹30.00/Min
astrologers
Acharya Angad
Rating
4935
₹30.00/Min
astrologers
Acharya Angad
Rating
4935
₹30.00/Min
astrologers
Acharya Angad
Rating
4935
₹30.00/Min

चौघड़िया के बारे में

चौघड़िया या चोगड़िया का प्रयोग नया काम शुरू करने के लिए शुभ मुहूर्त की जांच के लिए किया जाता है। परंपरागत रूप से चौघड़िया का उपयोग यात्रा मुहूर्त के लिए किया जाता है लेकिन इसकी सादगी के कारण इसका उपयोग किसी भी मुहूर्त के लिए किया जाता है। शुभ काम शुरू करने के लिए चार अच्छे चौघड़िया, अमृत, शुभ, लाभ और चार हैं। तीन खराब चौघड़िया, रोग, काल और उदवेग से बचना चाहिए। सूर्योदय और सूर्यास्त के बीच के समय को दिन चौघड़िया और सूर्यास्त और अगले दिन सूर्योदय के बीच के समय को रात चौघड़िया कहा जाता है।

वार वेला, काल वेला और काल रात्रि के बारे में

ऐसा माना जाता है कि वार वेला, काल वेला और काल रात्रि के दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। वार वेला और काल वेला दिन के समय प्रबल होते हैं जबकि काल रात्री रात के समय प्रबल होती है। ऐसा माना जाता है कि इस समय में किए गए सभी मांगलिक कार्य फलदायी नहीं होते हैं।

चौघड़िया को अच्छा या बुरा कैसे चिह्नित करें?

प्रत्येक सप्ताह के दिन पहले मुहूर्त पर सप्ताह के स्वामी का शासन होता है। उदाहरण के लिए, रविवार को पहला चौघड़िया मुहूर्त सूर्य द्वारा शासित होता है, उसके बाद क्रमशः शुक्र, बुध, चंद्रमा, शनि, बृहस्पति और मंगल का शासन होता है। दिन का अंतिम मुहूर्त भी दिन के स्वामी द्वारा शासित होता है।

इसलिए प्रत्येक विभाजन का प्रभाव, चाहे वह बुरा हो या अच्छा, शासक ग्रह की प्रकृति के आधार पर चिह्नित किया जाता है। वैदिक ज्योतिष में, शुक्र, बुध, चंद्रमा और बृहस्पति के प्रभाव में आने वाली अवधि को आमतौर पर शुभ माना जाता है जबकि सूर्य, मंगल और शनि के प्रभाव में आने वाली अवधि को आमतौर पर अशुभ माना जाता है। उपरोक्त जानकारी के आधार पर, हम प्रत्येक चौघड़िया मुहूर्त को बुरा या अच्छा के रूप में चिह्नित कर सकते हैं। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि वांछित कार्य के आधार पर बुरा चौघड़िया भी उपयुक्त हो सकता है जिसे पूरा करने की आवश्यकता है।

Important Auspicious Muhurat

ज्योतिष में सूर्य के प्रभाव को आमतौर पर अशुभ माना गया है इसीलिए इसे उद्वेग के रूप में चिह्नित किया जाता है। हालांकि, इस चौघड़िया में सरकारी कार्यों को किया जा सकता है।

शुक्र को एक शुभ और लाभकारी ग्रह माना जाता है। इसलिए इसे चर या चंचल रूप में चिह्नित किया गया है। शुक्र की चर प्रकृति के कारण, चर चौघड़िया को यात्रा उद्देश्य के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है।

बुध ग्रह भी शुभ और लाभदायक ग्रह है इसलिए इसे लाभ के रूप में चिह्नित किया गया है। लाभ के चौघड़िया में शिक्षा या किसी विद्या को सिखने का कार्य प्रारंभ किया जाता है तो वह फलदायी होता है।

चंद्र ग्रह अति शुभ और लाभकारी ग्रह है। इसीलिए इसे अमृत के रूप में चिह्नित किया गया है। अमृत चौघड़िया को सभी प्रकार के कार्यों के लिए अच्छा माना जाता है।

शनि एक पापी ग्रह है इसीलिए इसे काल के रूप में चिह्नित किया गया है। काल चौघड़िया के दौरान कोई शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। हालांकि, कुछ मामलों में धनोपार्जन हेतु की जाने वाली गतिविधियों के लिए यह लाभदायक सिद्ध हो सकता है।

बृहस्पति अत्यंत ही शुभ ग्रह है और यह लाभकारी ग्रह माना गया है। इसलिए इसे शुभ के रूप में चिह्नित किया जाता है। शुभ चौघड़िया को विशेष रूप से विवाह समारोह आयोजित करने के लिए उपयुक्त माना जाता है।

मंगल एक क्रूर और अनिष्टकारी ग्रह है। इसलिए इसे रोग के रूप में चिह्नित किया गया है। रोग चौघड़िया के दौरान कोई शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। लेकिन युद्ध में शुत्र को हराने के लिए रोग चौघड़िया की अनुशंसा की जाती है।

Location Location Wise Chogadiya

View All

festival Festival Calendar

View All
November 2022
दीवाली मनाएं और जीवन में सुख, शांति व कामयाबी लाएं !

4November

दीवाली मनाएं और जीवन में सुख, शांति व कामयाबी लाएं !

वस्तुतः दीपावली एक एेसा त्यौहार है जो ...

तुलसी विवाह : आइए मनाते हैं वृंदा और शालिग्राम विवाहोत्सव

5November

तुलसी विवाह : आइए मनाते हैं वृंदा और शालिग्राम विवाहोत्सव

तुलसी विवाह (tulsi vivah) श्री कृष्ण के पौराण...

उत्पन्ना एकादशी 2021: वरदान और मोक्ष का मार्ग

30November

उत्पन्ना एकादशी 2021: वरदान और मोक्ष का मार्ग

उत्पन्ना एकादशी (Utpanna Ekadashi) को कभी-कभी उत्...

upcoming Upcoming Transit

View All
November 2022
हिन्दू पंचांग के अनुसार 2023 में विवाह के शुभ मुहूर्त

28November

हिन्दू पंचांग के अनुसार 2023 में विवाह के शुभ मुहूर्त

विवाह की शुभ तिथियों का क्या महत्व है? ...

इस साल नए घर में गृह प्रवेश करने जा रहे हैं, तो जान लें शुभ मुहूर्त और तिथियां

25November

इस साल नए घर में गृह प्रवेश करने जा रहे हैं, तो जान लें शुभ मुहूर्त और तिथियां

दुनिया का हर इंसान अपने जीवन में एक सप...

उपनयन संस्कार मुहूर्त 2023 में उत्तम जनेऊ संस्कार संस्कार के लिए

13November

उपनयन संस्कार मुहूर्त 2023 में उत्तम जनेऊ संस्कार संस्कार के लिए

हिंदू धर्म में कई परंपराओं का पालन करन...

Frequently Asked Question

चौघड़िया क्या है

चौघड़िया शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है - चो, यानी चार, और घड़िया, यानी घडी। हिंदू समय के अनुसार प्रत्येक घड़ी 24 मिनट के बराबर होती है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक 30 घड़ियाँ होती हैं जो 8 से विभाजित होती हैं। तो, 8 दिन चौघड़िया मुहूर्त और 8 रात चौघड़िया मुहूर्त हैं। एक चौघड़िया 4 घडि़यों (लगभग 96 मिनट) के बराबर होती है। तो, एक चौघड़िया लगभग 1.5 घंटे तक रहता है।

चौघड़िया मुहूर्त के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

चौघड़िया शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है - चो, यानी चार, और घड़िया, यानी घडी। हिंदू समय के अनुसार प्रत्येक घड़ी 24 मिनट के बराबर होती है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक 30 घड़ियाँ होती हैं जो 8 से विभाजित होती हैं। तो, 8 दिन चौघड़िया मुहूर्त और 8 रात चौघड़िया मुहूर्त हैं। एक चौघड़िया 4 घडि़यों (लगभग 96 मिनट) के बराबर होती है। तो, एक चौघड़िया लगभग 1.5 घंटे तक रहता है।

वार वेला, काल वेला, काल रात्रि क्या हैं?

चौघड़िया शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है - चो, यानी चार, और घड़िया, यानी घडी। हिंदू समय के अनुसार प्रत्येक घड़ी 24 मिनट के बराबर होती है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक 30 घड़ियाँ होती हैं जो 8 से विभाजित होती हैं

क्या होगा यदि एक शुभ चौघड़िया मुहूर्त वेला, काल या रात्री के अशुभ समय के साथ मेल खाता है?

चौघड़िया शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है - चो, यानी चार, और घड़िया, यानी घडी। हिंदू समय के अनुसार प्रत्येक घड़ी 24 मिनट के बराबर होती है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक 30 घड़ियाँ होती हैं जो 8 से विभाजित होती हैं। तो, 8 दिन चौघड़िया मुहूर्त और 8 रात चौघड़िया मुहूर्त हैं। एक चौघड़िया 4 घडि़यों (लगभग 96 मिनट) के बराबर होती है। तो, एक चौघड़िया लगभग 1.5 घंटे तक रहता है।