https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

नक्षत्र – कृतिका

कृतिका मेष राशि के पहले 30 डिग्री में आता है

रंग: सफेद
भाग्यशाली अक्षरः अ , ई, उ, व
खगोलीय नाम: एटा तउरी

कृतिका राशि चक्र में तीसरा सितारा है। इसके अंतर्गत पैदा हुए लोग काफी प्रभावशाली विशेषताओं के साथ बलवान होते हैं। वे जिम्मेदारियों को काफी गैर जिम्मेदाराना तरीके से संभालते हैं तथा अक्सर उससे ऊब जाते हैं। वे अपने प्रयासों को बीच में ही छोड़ देते हैं तथा एक ट्रैक से दूसरे ट्रैक पर कुछ प्राप्त किए बिना चले जाते हैं। लेकिन इस नक्षत्र के जातक को आमतौर पर आज्ञाकारी और जिम्मेदार जीवन साथी मिलते हैं वे स्वयं को जो उपदेश देना चाहते हैं उसके लिए शायद ही कभी अभ्यास करते हैं। वे स्थिति को शासन करने की अनुमति देते हैं तथा जरूरत के अनुसार उनके आदर्शों को बदलते हैं। ये लोग शायद ही कभी अपने कार्य के संबंध में समीक्षा के रुप में देख पाते हैं। आमतौर पर वे अपने दायित्वों के संबंध में काफी संशययुक्त होते हैं लेकिन अपनी सभी प्रतिबद्धताओं को काफी आदर के साथ सम्मान करते हैं। यद्यपि जीवन के प्रति उनकी दृष्टिकोण काफी शांत होती है लेकिन जिस समय वे अपन इन लोगों को शायद ही अपने स्वयं के समीक्षकों कार्यों में लग रहे हैं. आमतौर पर वे दायित्वों के बारे में गड़बड़ कर रहे हैं लेकिन उच्च सम्मान के साथ सभी प्रतिबद्धताओं का सम्मान करेंगे. हालांकि वे जीवन में लेकिन कई बार एक शांत बनाए रखने के दृष्टिकोण जब उनका मिजाज बिगडता है तो वे सबसे डरावने लोगों में से एक हो सकते हैं। अधिकांश समय ये लोग कृतघ्न होते हैं। कृतिका के अंतर्गत जन्म लेने वाले जातक का जीवन 50 वर्ष की उम्र तक आमतौर पर परीक्षण से भरा होता है। 25 साल से 35 साल की उम्र तक तथा 50 साल के 56 साल के बीच की अवधि उनके जीवन में सबसे अच्छा समय है। अक्सर इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक को उनकी संतान के समय में समस्याएं हो सकती हैं। इस नक्षत्र के अंतर्गत जन्में पुरुषों को दांत की समस्या, कमजोर दृष्टि, तपेदिक, वायु और बवासीर, मस्तिष्क ज्वर, दुर्घटना, घाव, मलेरिया या मस्तिष्क मैनिंजाइटिस का खतरा है। इस नक्षत्र की महिलाएं ग्रंथिल तपेदिक के प्रति संवेदनशील होते हैं।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम