राहु और केतु - ज्योतिष में छाया ग्रहों का महत्व जानिए

वैदिक ज्योतिष की बात करें तो हमारे प्रत्येक ग्रह और तारे में एक भौतिक समानता है। उनकी उपस्थिति भौतिक और स्पष्ट रूप में है। लेकिन हिंदू ज्योतिष शास्त्र में ऐसे दो ग्रह हैं जो वास्तव में भौतिक रूप से मौजूद नहीं हैं- ये हैं राहु और केतु। ज्योतिष में राहु और केतु को आमतौर पर अशुभ ग्रह माना जाता है। राहु को एक अमूर्त इकाई भी कहा जाता है और यह ग्रहण का कारण बनता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, राहु और केतु दो छायाएं हैं। उन्हें पाप ग्रह माना जाता है, और राहु काल किसी भी अच्छे कार्य को शुरू करने के लिए अशुभ माना जाता है।

राहु और केतु 18 साल में अपनी यात्रा पूरी करते हैं और हमेशा एक दूसरे से 180 डिग्री दूर होते हैं। यह पृथ्वी के ग्रहण तल पर ये दोनों आरोही और अवरोही नोड्स के साथ मेल खा सकते हैं। तकनीकी रूप से राहु और केतु सूर्य और चंद्रमा के पथ के प्रतिच्छेदन बिंदु (intersect point) का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्हें उत्तरी और दक्षिणी चंद्र नोड भी कहा जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, ग्रहण तब होता है जब सूर्य और चंद्रमा इनमें से एक नोड पर होते हैं। यह सूर्य और चंद्रमा को सांप द्वारा निगले जाने की तस्वीर से दर्शाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि सूर्य ग्रहण का कारण राहु है।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार कुंडली में राहु भय, निराशा, भ्रम और जुनून का स्वामी है। राहु का संबंध गूढ़ विज्ञान से भी है और केतु की तरह राहु भी सूर्य और चंद्रमा का शत्रु है। ज्योतिष में इसे अशुभ ग्रह माना गया है। आइए जानते हैं राहु और केतु के बारे में विस्तार से।

ज्योतिष में राहु और केतु ग्रह: सामान्य लक्षण

हालांकि ज्योतिष में राहु और केतु को एक इकाई के रूप में माना जाता है, हम उन्हें अलग-अलग भागों के रूप में मानते हैं। सबसे पहले बात करते हैं राहु की। राहु मनुष्य के तामसिक मोह से जुड़ा है। यह भौतिक सुख और सांसारिक इच्छा से भी जुड़ा है। यह आत्मा को भौतिकता के प्रति समर्पित कर देता है। इसे अक्सर प्रसिद्धि, लालच, जुनून, हेरफेर, रोग और जड़ता का कारक कहा जाता है। राहु वात प्रकृति का है। राहु से प्रभावित व्यक्ति बहिष्कृत, कठोर वाणी वाला, झूठ, कपट में मग्न रहने वाला और वक्ष और पेट के संक्रमण से पीड़ित होगा। हालांकि, इसे बहुत शक्तिशाली माना जाता है और इसमें दोस्तों को दुश्मन में बदलने और इसके विपरीत करने की भी क्षमता होती है। बौद्ध संस्कृति में, राहु को क्रोध के देवताओं में से एक माना जाता है जो जातक को भयभीत करता है। राहु अशुभ ग्रह है। हालांकि, एक अनुकूल राहु राजनेताओं और अपराधियों को लाभान्वित करेगा। यह उन्हें अनुचित साधनों के माध्यम से ऊपर उठने की शक्ति और अधिकार देता है। राहु चोरों, जेल, सांप, जहर और प्रेतवाधित स्थान पर शासन करता है। यह इतना सम्मोहक है कि राहु से प्रभावित होने पर लोग आसानी से गलत कामों में पड़ जाते हैं। हालाँकि, यह जातक को अचानक धन भी प्रदान कर सकता है। यदि राहु को सांसारिक कामनाओं का ग्रह माना जाए तो केतु का संबंध अध्यात्म से हो सकता है। यह विकास की आध्यात्मिक प्रक्रिया और आत्मा में भौतिककरण के शोधन का प्रतिनिधित्व करता है। केतु सांसारिक रूप से हानिकारक है लेकिन आध्यात्मिक रूप से लाभकारी है। केतु अध्यात्म, ज्ञान, कल्पना, अजेयता और मानसिक क्षमताओं का कारक है। केतु पित्त तत्व से संबंधित है। केतु आम तौर पर 48 साल की उम्र में परिपक्व हो जाता है, तब, जब आत्माएं मोक्ष की ओर मुड़ने लगती है।

केतु राहु का वक्ष और निचला धड़ है। केतु ग्रह को कभी-कभी आधा ग्रह कहा जाता है जो आपके ज्ञान और बुद्धिमत्ता के लिए जिम्मेदार होता है। यह जातक को मानसिक क्षमता प्रदान करता है, और जातक आमतौर पर उपचार की कला में महारत हासिल करता है। केतु की राशि मीन है और राहु की राशि कन्या है। केतु को अक्सर अपने सिर पर एक रत्न या तारे के साथ देखा जाता है जो कुछ रहस्यमय प्रकाश का उत्सर्जन करता है। राहु और केतु की किंवदंतियां दिलचस्प हैं। आइए इनके बारे में और जानें।

राहु और केतु की पौराणिक कथा

प्राचीन ग्रंथों के अनुसार, राहु और केतु की उत्पत्ति के पीछे की पौराणिक कथा हमें समुद्र मंथन की कहानी पर ले जाती है। मंथन के दौरान समुद्र के आवरण से अमृत का एक पात्र (अमरता का रस) निकला। जिसे भगवान विष्णु के महिला अवतार मोहिनी ने अमृत लिया और देवताओं को वितरित करना शुरू कर दिया, देवों के बीच स्वरभानु नाम का एक राक्षस खड़ा था। हालाँकि, सूर्य और चंद्रमा ने मोहिनी को इस बात के लिए सूचित किया, लेकिन, तब तक, स्वरभानु पहले ही अमृत पी चुका था। इस बात से क्रोधित विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से राक्षस स्वरभानु का सिर काट दिया। चूंकि उस दानव ने अमृतपान कर लिया था, अब वह मर नहीं सकता था, लेकिन सुदर्शन के प्रभाव ने उसके सिर और धड़ के हिस्सों को अलग कर दिया गया था। इसीलिए सिर को राहु कहा जाता है, जबकि शेष शरीर को केतु कहा जाता है। इन दोनों को ज्योतिष में एक महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। ऐसा कहा जाता है कि चूँकि सूर्य और चंद्र ने ही मोहिनी रूपी विष्णु को स्वरभानु के बारे में बताया था इसीलिए वे सूर्य और चंद्र ग्रहण को प्रभावित करते हैं।

ज्योतिष में राहु और केतु की भूमिका

तो अब आप जान गए राहु और केतु आपकी जन्म कुंडली को कैसे प्रभावित करते हैं? राहु विश्वासघात का स्वामी है और चोरों, राजनेताओं और अपराधियों पर अपना आशीर्वाद बरसाता है। इसे दुख और शोक का ग्रह भी माना जाता है। अशुभ राहु जातक को आत्महत्या की प्रवृत्ति, असुरक्षा, भय देगा, और उसे सांप के काटने का डर भी हो सकता है। राहु से पीड़ित जातकों के मोहल्ले या जान पहचान में हत्या या चोरी होती रहेगी। उनके हैजा, पेचिश और कब्ज जैसी बीमारियों से पीड़ित होने की संभावना है। राहु मिथुन, कन्या, तुला, मीन और धनु राशियों के मित्र हो सकते हैं। इसके विपरीत कर्क और सिंह को इनकी शत्रु राशि माना जाता है। ग्रहों की युति की बात करें तो ये बुध, शनि और शुक्र के साथ अच्छी तरह से मेल खाते हैं। लेकिन किंवदंती के अनुसार, वे सूर्य, चंद्रमा और मंगल के कट्टर दुश्मन हैं। वृष और तुला राशि के जातकों के लिए राहु शुभ फल देता है। यदि जन्म कुण्डली में राहु बली हो तो यह प्रसिद्धि, धन और सफलता देता है।

राहु, उसके व्यवहार में, शनि के समान है। राहु सुख का ग्रह है, और यह जातक को सांसारिक सुखों की ओर आकर्षित करता है। हालांकि यह किसी राशि का स्वामी नहीं है, लेकिन कभी-कभी इसका संबंध कन्या राशि से भी होता है। गोमेद (शहद के रंग का हेसोनाइट) राहु का रत्न है। वात तत्व होने के कारण इसकी दिशा दक्षिण-पश्चिम है। यह 42 वर्ष की आयु में परिपक्वता तक पहुँचता है।

केतु जहां बुध, शुक्र और शनि का मित्र है, वहीं बृहस्पति को तटस्थ माना जाता है जबकि यह सूर्य, चंद्रमा और मंगल का शत्रु है। नक्षत्रों की बात करें तो केतु के तीन नक्षत्र हैं, जिनके नाम अश्विनी, मूल और माघ हैं। केतु कन्या, धनु, मकर और मीन राशि के लिए अनुकूल है, जबकि यह कर्क और सिंह का शत्रु है। केतु आध्यात्मिकता के लिए जिम्मेदार है, और यह भक्त के परिवार में समृद्धि लाता है। यह जातक को धन, अच्छा स्वास्थ्य और चारों ओर समृद्धि प्रदान करता है। केतु की आध्यात्मिकता का गहरा अर्थ है, और इसे सबसे आध्यात्मिक ग्रह माना जाता है। इसे ज्ञान और मुक्ति का ग्रह माना जाता है। तो चलिए हम राहु और केतु की दशाओं को जानते हैं।

राहु और केतु की दशा क्या है?

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि ज्योतिष में राहु ग्रह एक अशुभ ग्रह है। लेकिन कई बार यह अच्छे परिणाम भी दे सकता है। राहु की महादशा के दौरान यदि ग्रह वृष और मिथुन राशि में उच्च का हो तो यह अच्छे परिणाम लाएगा। व्यक्ति धन, ज्ञान में ओतप्रोत रहेगा, सामाजिक प्रतिष्ठा के साथ अप्रत्याशित लाभ प्राप्त करेगा, आत्मविश्वास से समृद्ध होगा। वह जीवन की विलासिता का आनंद लेगा। यदि जन्म कुंडली के तीसरे, छठें और 10वें भाव में राहु स्थित हो तो यह जातक के लिए सभी लाभकारी परिणाम लाएगा। राहु की दशा 18 वर्ष तक रहती है।

राहु अशुभ हो तो यह राहु की महादशा में जातक को हानि पहुँचा सकता है। यदि यह किसी भी भाव में शनि के साथ युति करता है तो कुंडली में एक श्रापित योग बनता है। ये दोनों जातक के लिए बुरे परिणाम लेकर आएंगे। ऐसा व्यक्ति चंद्र दोष से शापित होता है। सूर्य और राहु ग्रह भी किसी भी भाव में एक साथ रहकर ग्रहण दोष पैदा करते हैं।

महादशा के दौरान यह किसी भी घर में मंगल के साथ मिलकर अंगारक योग बनाता है। जातक को अपने जीवन में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। यह जीवन, कॅरियर और स्वास्थ्य के लिए बेहद खतरनाक है। केतु की महादशा सात वर्ष की होती है। यदि कुंडली में केतु अशुभ हो तो जातक का जीवन संकट में पड़ सकता है। जातक ज्यादातर क्रोध में रहेगा और झगड़ालू हो जाएगा। उसके और उसके प्रियजनों के बीच अनावश्यक अनबन होगी। शनि, मंगल और सूर्य को प्रभावित करने वाला केतु भाईयों के बीच के विवाद को बढ़ाएगा। उसके भाई-बहनों की मृत्यु हो सकती है। जीवन के हर क्षेत्र में उसको पराजय और अपमान का सामना करना पड़ेगा। लाभकारी केतु तीसरे, छठें और 11 वें भाव में शुभ होता है और यह केतु सकारात्मकता, खुशी, धन और समृद्धि ला सकता है। केतु गुरु, शुक्र, मंगल और बुध के साथ युति करने पर लाभकारी परिणाम देता है। यह बृहस्पति के साथ मिलकर एक लाभकारी गणेश योग बनाता है। शक्तिशाली केतु व्यक्ति को कई गुना अमीर बनाता है। आइए देखें कि यह अन्य ग्रहों के साथ कैसे युति करता है। केतु ग्रह शांति पूजा के लिए हमारे विशेषज्ञों से परामर्श करें।

विभिन्न ग्रहों से युति

सूर्य के साथ राहु ग्रहण दोष को जन्म देता है। यह साल में एक बार होता है। इस युति को आमतौर पर अशुभ और बुरी माना जाता है। चंद्रमा के साथ भी राहु ग्रहण दोष देता है। कुण्डली में इनकी पहले, तीसरे और 9वें भाव में युति अच्छी नहीं है। जातक मानसिक रोग से पीड़ित हो सकता है। राहु मंगल के साथ 18 महीने में एक बार युति करता है। राहु का शत्रु होने के कारण यह अंगारक ग्रहण योग बनाता है। कुंडली के पहले, तीसरे, छठें और 10वें भाव में इनकी युति का प्रभाव कमजोर होगा। व्यक्ति को कई समस्याओं से गुजरना पड़ता है और परिवार में कई दुर्घटनाओं और मृत्यु का सामना करना पड़ता है। केतु सूर्य का शत्रु है। यदि दोनों एक साथ स्थित हों तो यह जातक के बच्चे, चाचा और अन्य रिश्तेदारों को बुरा परिणाम देता है। केतु के साथ मंगल जातक को आक्रामक, क्रोधी और चालाक स्वभाव का बना देगा। हालांकि, बृहस्पति के साथ केतु को एक अनुकूल युति माना जाता है, और यह जातक को ज्ञान, बुद्धिमत्ता और धन प्रदान करता है।

हालाँकि, जब कुंडली में अन्य सभी ग्रह राहु और केतु के बीच बैठते हैं, तो यह कालसर्प योग को जन्म देते है। यह जातक के लिए बहुत ही अशुभ संकेत माना जाता है।

कमजोर राहु और केतु को बढ़ाने के उपाय

राहु के उपाय : अमावस्या के दिन मंदिर में जल और नारियल का दान करें। बृहस्पति वह ग्रह है जो राहु को नियंत्रित करता है, इसलिए जातक को बृहस्पति की पूजा करने की सलाह दी जाती है। 8 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से राहु के अशुभ प्रभाव कम होते हैं। केतु के उपाय : पूजा के बाद केसर का तिलक लगाएं। गरीबों और जरूरतमंदों को दो रंग के कंबल दान करें। भगवान गणेश की पूजा करें, क्योंकि इससे केतु की सारी नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाएगी। गुरुवार के दिन काली सरसों का दान करें।

ज्योतिष में राहु और केतु के दुष्प्रभाव को कम करने के लिए बताए गए कुछ उपाय इस प्रकार हैं। अब आप राहु और केतु और आपके जीवन पर उनके प्रभावों के बारे में अधिक जानते हैं। हमारे विशेषज्ञों से अपनी जन्मपत्री का व्यक्तिगत विश्लेषण करवाएं और जानें कि क्या आपके जीवन में राहु और केतु का कोई दोष है।

Planet in Vedic Astrology

स्टार गाइड

दैनिक गाइड

संभावित घटनाओं का संकलन, प्रति घंटा मार्गदर्शन, सटीक समय-सीमा और क्या करें और क्या न करें

लाइफ मीटर

जानिए अपनी शारीरिक और मानसिक स्थिति के विभिन्न पहलुओं का प्रतिशत

अनुकूलता

जानिए दूसरों से आपकी तरंगे कितनी मेल खाती है

Rahu - Ketu Transit