ज्योतिषशास्त्र के ग्रह: शनि

खगोलशास्त्रीय विवरण

शनि 886 लाख मील सूर्य से दूर है। यह बृहस्पति से छोटा है और इसका व्यास 75,000 मील है। यह नौ ज्ञात उपग्रह में से है। विस्तार के अनुसार यह पृथ्वी से 700 गुणा बड़ा है। लेकिन इसका द्रव्यमान पृथ्वी से सौ गुणा कम है। शनि सूर्य की एक परिक्रमा पूरी करने में 29 वर्ष का समय लगाता है और इसलिए औसतन यह प्रत्येक राशि में दो साल का समय बीताता है।
शनि तीन संकेन्द्रीत छल्ले की प्रणाली से घिरा हुआ है। ये छल्ले अलग हैं और वहाँ ही किसी भी दो छल्ले के बीच काला खाली स्थान है। शनि तीन पीले रंग के छल्लों के साथ एक नीले रंग की गेंद की तरह दिखाई देता है।

पौराणिक कथाः

शनि सूर्य और छाया का बेटा है। शनि एक ग्रह है, जिसके साथ बहुत गलत हुआ और उसकी अपनी पत्नी और दिव्य माता पार्वती ने श्राप दिया। अपनी गलती का एहसास होने के बाद मां पार्वती ने शनि को एक वरदान दिया कि किसी भी व्यक्ति के जीवन में कोई महत्वपूर्ण घटना है तब होगी शनि पारगमन (गोचर) के द्वारा या संबंधित घर से उस काम के लिए अपनी दिव्य पवित्रता देगा।
वह यम (मृत्यु के देवता) का बड़ा भाई है, इसलिए वह यम की भूमिका निभाता है और जीवन का अंत ला सकता है। इसलिए, अगर एक खराब दशा चल रही है और उसी समय में शनि की खराब गोचर है और मौत की उम्र आए तो शनि निश्चित रूप से मार देगा। शनि अनासक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। इसका महान आध्यात्मिक मूल्य है। कोई भी संत शनि की एक अच्छी और मजबूत स्थिति के बिना जन्म नहीं ले सकता है।

ज्योतिषीय महत्व:

उत्तरा कालमित्रा के अनुसार शनि के निम्नलिखित विशेषताएं है-
1. खराब स्वास्थ्य 2. अवरोध 3. रोग 4. शत्रुता 5. दुःख 6. मृत्यु 7.घरेलू नौकर 8. गधे 9. बहिष्कृत 10. दीर्घायु 11. हिजड़ा 12. पवन 13. बुढ़ापा 14. गंदे कपड़े 15. काला रंग 16.रात को पैदा होने वालों के लिए पिता का द्योतक 17. शुद्र 18. ब्राह्मण जो तामसिक गुण रखते हैं 19. बदसूरत बाल 20. यम की पूजा 21नीचे की तरफ देखना 22.झूठ बोलना 23. चोरी और कठोर हर्दय 24. तेल 25. शिकार 26. लंगड़ापन उच्च का या मजबूत शनि उपर्युक्त विषयों में शुभ फल देता है लेकिन यदि शनि कमजोर हो तो इन मामलों में दुर्बलता का द्योतक है।

अन्य ज्योतिषीय बातें:

शनि दो राशि मकर व कुंभ का मालिक है। यह तुला राशि में 20 डिग्री उच्च का है और मेष राशि में 20 डिग्री पर नीच का है। इसकी मूलत्रिकोना राशि कुंभ है। यह गहरे आघात का कारक माना जाता है। ग्रहों के मंत्रिमंडल में शनि नौकरों का प्रतिनिधित्व करता है। इसका रंग काला है और इसका लिंग नपुंसक है। यह पंचभूत या पांच तत्वों में हवा का प्रतिनिधित्व करता है। यह शूद्र वर्ण के अंतर्गत आता है और इसमें तामसिक गुणों की प्रबलता है।
शनि की दुर्बल व लंबी काया तथा मधु जैसे रंग की आंखें है, स्वभाव तूफानी है और बड़े दाँत हैं, अकर्मण्य, लंगड़ा है तथा रुखे व खुरदरे बाल हैं। शनि एक साल का प्रतिनिधित्व करता है। यह कसैले स्वाद का प्रतिनिधित्व करता है यह पश्चिमी दिशा में मजबूत है। यह बुध और शुक्र के लिए अनुकूल है तथा सूर्य, चन्द्रमा और मंगल ग्रह के लिए प्रतिकूल है। यह बृहस्पति को तटस्थ मानता है। राहू और केतु दोनों शनि को मित्र के रूप में मानते हैं।
वैदिक ज्योतिष में ग्रह

स्टार गाइड

दैनिक गाइड

संभावित घटनाओं का संकलन, प्रति घंटा मार्गदर्शन, सटीक समय-सीमा और क्या करें और क्या न करें

लाइफ मीटर

जानिए अपनी शारीरिक और मानसिक स्थिति के विभिन्न पहलुओं का प्रतिशत

अनुकूलता

जानिए दूसरों से आपकी तरंगे कितनी मेल खाती है

Banner Title