सूर्य - उग्र, आक्रामक और बलशाली ग्रह!

जैसा कि सब जानते हैं कि यह सृष्टि सूर्य के प्रकाश से ही प्रकाशवान होती है। पूरी दुनिया सूर्य की आभारी है, जो हमें प्रकाशमय जीवन देता है। सूर्य की ऊर्जा के बिना पृथ्वी पर जीवन असंभव है। यह सकारात्मकता और सफलता का प्रतीक है। सूर्य वैज्ञानिक रूप से कोई ग्रह नहीं है, लेकिन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, कोई भी खगोलीय पिंड जो मानव शरीर को सीधे प्रभावित करता है, उसे ग्रह कहा जाता है।

वैदिक ज्योतिष में सूर्य ग्रह मनुष्य की आत्मा को परिभाषित करता है। सूर्य की ऊर्जा का चैनलिंग व्यक्ति के जीवन को परिभाषित करता है, चाहे वह तारे की तरह चमकेगा या राख की तरह जलेगा। सूर्य साहस, आत्मविश्वास और सकारात्मकता का प्रतीक है।

यह हमारे सौर मंडल में सबसे बड़ा ज्ञात खगोलीय पिंड है और वैदिक ज्योतिष में एक उच्च महत्व रखता है। सूर्य अपनी स्थिति में स्थिर होते हुए भी अन्य वस्तुओं को अपने चारों ओर घुमाता है। सूर्य कभी भी वक्री नहीं होता है, क्योंकि सूर्य के चारों ओर सब कुछ घूमता है। ज्योतिषीय महत्व में, सूर्य को अपनी यात्रा पूरी करने में 12 महीने लगते हैं और प्रत्येक ज्योतिषीय राशि में लगभग एक महीने का समय गुजारता है।

ज्योतिष शास्त्र में सूर्य ग्रह को सभी ग्रहों में से एक ग्रह माना गया है। यह व्यक्ति की आत्मा और पितृत्व चरित्र को नियंत्रित करता है। सूर्य और अन्य ग्रहों की दूरी ग्रहों की ताकत और व्यक्तियों पर उनके प्रभाव को निर्धारित करती है। कुंडली के अनुसार सूर्य पितरों को भी नियंत्रित करता है। यही कारण है कि यदि सूर्य का सामना एक से अधिक हानिकारक या अशुभ ग्रहों से होता है, तो कुंडली में पितृ दोष बन जाता है। आइए सूर्य को एक ग्रह के रूप में विस्तार से जानते हैं…

ज्योतिष शास्त्र में सूर्य ग्रह के सामान्य लक्षण

ज्योतिष शास्त्र में सूर्य को रवि या सूर्यदेव कहा जाता है। सूर्य एक पुरुष चरित्र है। इससे उत्पन्न होने वाली गर्मी के कारण इसे कुछ हानिकारक माना जाता है। आधुनिक ज्योतिष में, यह सिंह राशि पर शासन करता है। वह मेष राशि में उच्च का होता है, जबकि वह तुला राशि में नीचस्थ होता है। संस्कृत में, सूर्य को आत्मकारक कहा जाता है, जिसका अर्थ है आत्मा का सूचक। सूर्य पितृत्व लक्षणों जैसे अहंकार, सम्मान, स्थिति, समृद्धि, जीवन शक्ति और आत्मबल का सूचक है।

जन्म कुंडली के दसवें भाव में स्थित होने पर सूर्य सबसे प्रबल होता है। हालांकि, सूर्य पहले, चौथे और सातवें घर में और भी मजबूत होता है। मेष, सिंह और धनु जैसी अग्नि राशियों के लिए सूर्य अत्यंत लाभकारी है। अपने उग्र स्वभाव के कारण सूर्य पित्त तत्व का होता है। सूर्य को प्रसन्न रखने के लिए अपनी अंगुली में लाल माणिक धारण करने की सलाह दी जाती है।

सूर्य हमें किसी भी प्रतिकूल घटना से जीवन शक्ति, आत्मबल और प्रतिरक्षा प्रदान करता है। यह भौतिक चरित्रों के विकास के लिए प्रत्यक्ष रूप से उत्तरदायी है। कुंडली में सूर्य की मजबूत स्थिति व्यक्ति को अच्छी बुद्धि, समृद्धि, धन, सौभाग्य, ज्ञान, महत्वाकांक्षा और चिकित्सा के ज्ञान जैसे गुण प्रदान करती है। यह मंदिरों और अन्य पवित्र स्थानों के साथ व्यक्ति के आध्यात्मिक संबंधों को भी नियंत्रित करता है।

चिकित्सा ज्योतिष के अनुसार, सूर्य मानव रीढ़ को प्रभावित करता है। पिंगला नाड़ी का प्रतिनिधित्व सूर्य करता है, जो वास्तव में रीढ़ के आधार पर दाई ओर से निकलकर ऊपर की ओर जाती है और दाहिने नथुने में समाप्त होती है।

सूर्य की पौराणिक कथा

वैदिक ज्योतिष में सूर्य को नवग्रहों का प्रमुख देवता माना गया है। वैदिक ज्योतिष में सूर्यदेव को 7 घोड़ों के रथ पर सवार एक पुरुष के रूप में दर्शाया गया है। ये सात घोड़े मानव शरीर में 7 चक्रों का प्रतिनिधित्व करते हैं। सूर्य को एक देवता के रूप में भी देखा जाता है, जिसके दोनों हाथ में कमल हैं और जब यह 4 हाथों के साथ होते हैं, तो उन हाथों में कमल, शंख, चक्र और गदा धारण करते हैं। उन्हें भगवान कृष्ण की वीरता या विश्वरूप का नेत्र भी कहा जाता है। भगवान सूर्य की उपासना न केवल देव, मानव व दानव सभी करते हैं। उदाहरण के लिए, हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार यातुधान सूर्य के अनुयायी थे।

सूर्य का एक परिवार है, जिसमें तीन रानियां हैं। जिनके नाम शरण्या, रागी और प्रभा हैं। शरण्या सत्यव्रत और जुड़वां यम व यामी की मां थीं। बाद में शरण्या ने जुड़वाँ बच्चों अश्विनकुमार को जन्म दिया, जिन्होंने देवताओं के चिकित्सकों और दिव्य घुड़सवारों के रूप में सेवा दी। ऐसा माना जाता है कि शरण्या सूर्य की अत्यधिक गर्मी को सहन नहीं कर सकी और उन्होंने स्वयं की एक सतही छाया बनाई जिसे छाया कहा जाता है। इसके बाद उन्होंने छाया को सूर्यदेव की पत्नी के रूप में सेवा करने के लिए कहा। छाया ने बाद में 2 पुत्रों को जन्म दिया, जिनका नाम मनु व शनि और दो पुत्रियाँ, ताप्ती और विष्ठी थीं। बाद में शनि कर्म के स्वामी बने जबकि यम मृत्यु के स्वामी बने।

ज्योतिष में सूर्य की भूमिका

सूर्य चंद्रमा, मंगल और बृहस्पति का मित्र है, जबकि शनि और शुक्र का शत्रु है। हालांकि, बुध तटस्थ व्यवहार करता है। सूर्य मेष राशि में 10 अंश उच्च का और तुला राशि में 10 अंश नीच का होता है। इसका मुख आमतौर पर पूर्व दिशा की ओर होता है। सूर्य के जातक के लिए भाग्यशाली रंग नारंगी, केसरिया और हल्का लाल है। सूर्य आमतौर पर भगवान शिव, रुद्र, नारायण और सच्चिदानंद से जुड़ा होता है।

सिंह, मेष और धनु जैसी अग्नि राशियों के लिए सूर्य अत्यंत लाभकारी और बलवान है। यह मेष राशि में बढ़ता है, जबकि सिंह को मूल त्रिकोण या मूलत्रिकोना चिन्ह माना जाता है। सूर्य के मजबूत होने पर जातक को सफलता और समृद्धि की प्राप्ति होती है। स्वास्थ्य स्थिर रहता है और जातक जीवन भर मजबूत स्थिति में रहता है। लग्न का मजबूत सूर्य व्यक्ति को ऊर्जावान और फिट रखता है। लग्न में सूर्य का सकारात्मक प्रभाव जातक को बलवान और प्रबल बनाता है। ऐसा व्यक्ति किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले अपनी भावनाओं को थामे रखना और स्थिति का आकलन करना अच्छी तरह से जानता है। यह व्यक्ति दृढ़ और जिम्मेदार होगा। हालांकि, उसके आसपास के लोग उसे अहंकारी या घमंडी कह सकते हैं, लेकिन ये सच नहीं है।

सूर्य के प्रभाव से जातक को सरकारी क्षेत्र में स्थान मिलने की संभावना है। यह एक व्यक्ति को राजसी, अनुशासित, प्रभावशाली, अच्छा आयोजन कर्ता, निर्माता और एक प्रगतिशील व्यक्ति के रूप में मदद करता है।

आपकी जन्म कुंडली में सूर्य कहां विराजमान है? निःशुल्क जन्मपत्री विश्लेषण के साथ अभी पता करें।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार तुला राशि में सूर्य सबसे कमजोर माना गया है। यह कुंडली में स्थित अन्य पाप ग्रहों के साथ संयोजन में नकारात्मक प्रभाव भी दिखा सकता है। लग्न में कमजोर सूर्य जातक के खराब स्वास्थ्य से संबंधित हो सकता है। इसके कारण अन्य ग्रह भी खराब प्रदर्शन करते हैं। साथी ग्रहों के साथ सूर्य का संबंध महत्वपूर्ण है। हालांकि, यह जांचने की आवश्यकता है कि सूर्य अन्य ग्रहों पर आरोही या अवरोही है या नहीं। सूर्य व्यक्ति के संपूर्ण व्यक्तित्व को प्रभावित करता है। इसके शुभ या अशुभ फल कुंडली में सूर्य की स्थिति पर निर्भर करता है।

सूर्य की दशा और अंतर्दशा क्या हैं?

अन्य ग्रहों की तरह, सूर्य की भी अपनी महादशा है जो छह साल तक चलती है। यह सूर्य की सबसे शक्तिशाली विंशोत्तरी महादशा मानी जाती है। सूर्य सौरमंडल का सबसे शक्तिशाली पिंड है, इसलिए यह अन्य सभी ग्रहों को नियंत्रित करता है। कुंडली में सूर्य की महादशा हानिकारक और लाभकारी दोनों हो सकती है।

सूर्य की शुभ महादशा धन, यश, प्रतिष्ठा और राजा के समान जीवन लेकर आती है। जातक को पुत्र की प्राप्ति होगी और वह सभी पारिवारिक सुखों का आनंद ले सकता है। जातक को शक्ति, अधिकार और उच्च प्रशासनिक पद प्राप्त होगा।

लेकिन, सूर्य कमजोर हो तो महादशा अशुभ होती है। यह शनि, राहु, केतु और मंगल के साथ छठे, आठवें और बारहवें घर में सूर्य की स्थिति के कारण होती है। जातक को धन हानि का अनुभव होने की संभावना है, साथ ही अशुभ कार्यों में फंस सकता है। पिता के साथ संबंधों में दरार और प्रतिष्ठा में कमी आएगी। जीवन दर्द से भरा रहने की संभावना है।

अपनी स्वयं की महादशा के दौरान सूर्य की अंतर्दशा सूर्य की महादशा का पहला चरण है। इससे व्यक्ति को प्रभुत्व और अधिकार की प्राप्ति होती है। यह अवधि जातक को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी। सूर्य की स्थिति मजबूत होने पर व्यक्ति को उपहार और लाभ भी प्राप्त होगा। जातक को अपने जीवन में सफलता तो मिलेगी ही, लेकिन इससे जातक बेचैन भी रहेगा।

विभिन्न ग्रहों के साथ सूर्य की युति

सूर्य अलग-अलग ग्रहों की युति से अलग-अलग फल देता है। आइए हम तीन सबसे आम सूर्य संयोजनों पर चर्चा करते हैं।

बुध के साथ सूर्य सबसे आम युति है, क्योंकि बुध सूर्य के सबसे निकट है। इससे बुध आदित्य योग बनता है। जातक नए कौशल सीखेगा, और बौद्धिक शक्ति उच्च पर होगी। ऐसे व्यक्तियों का संचार कौशल बहुत अच्छा होगा, और उन्हें परामर्श, प्रबंधन सहायता और सलाहकार के क्षेत्र में पाया जा सकता है। जब सूर्य और बुध दूसरे, ग्यारहवें भाव या केंद्र में हों तो यह युति शुभ फल देती है।

वैदिक ज्योतिष में सूर्य और बृहस्पति की युति को एक शुभ संयोग माना जाता है। दोनों ग्रह पुरुष मूल के हैं। इस युति के दौरान व्यक्ति का झुकाव जीवन की आध्यात्मिकता की ओर अधिक होता है। यह योग धनवान व्यक्ति को भी लाभ देता है और प्रसिद्धि, पहचान और नाम देता है।

सूर्य-चंद्र की युति उनकी ऊर्जा में अंतर के कारण विभिन्न प्रकार की होती है। सूर्य गर्म और उग्र है, जबकि चंद्रमा शांत और रचित है। जब उनकी ऊर्जा दसवें घर में या सिंह, मेष और कर्क जैसी अपनी राशियों में मिलती है, तो प्रभाव आमतौर पर सकारात्मक होता है। ऐसा व्यक्ति साहसी और आत्मविश्वासी होगा, लेकिन साथ ही उसकी वाणी कठोर और अत्यधिक कूटनीतिक होगी।

कमजोर सूर्य को मजबूत कैसे करें?

आप अपनी कुंडली में कमजोर सूर्य को कैसे ठीक कर सकते हैं? यहां कुछ उपाय दिए गए हैं।

  1. रविवार के दिन लाल रंग का माणिक धातु के साथ धारण करें।
  2. घर से बाहर निकलने से पहले एक गिलास पानी में चीनी मिलाकर पिएं।
  3. अच्छे स्वास्थ्य और जीवन शक्ति के लिए हर सुबह सूर्य नमस्कार करें।
  4. सूर्योदय के समय पूर्व दिशा की ओर मुख करके सूर्य को जल अर्पित करें।
  5. सूर्य का पितृ प्रभाव होता है, इसलिए यदि कोई सूर्य के अशुभ प्रभाव को कम करना चाहता है, तो उसे अपने पिता, शिक्षक और बड़े भाई-बहनों की सेवा करनी चाहिए।
  6. अधिकतम अनुकूल परिणामों के लिए गायत्री मंत्र या ओम सूर्याय नमः (108 बार) का पाठ करें।
  7. गायों को गेहूं और गुड़ खिलाएं।
  8. हालांकि, ये सभी उपाय किसी विशेषज्ञ ज्योतिषी से सलाह लेने के बाद ही करना चाहिए।

    सूर्य ग्रह जीवन की प्रारंभिक शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है, और वह अक्सर आपको इसके बारे में अवगत कराता है। यह जीवन की भावना, रचनात्मकता, ऊर्जा जीवन शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। सूर्य की शक्ति गर्मजोशी, आत्मविश्वास से भरे व्यक्तित्व का निर्माण करती है। हालांकि, यदि सूर्य अशुभ या प्रतिकूल है, तो ये गुण उलट जाएंगे, और यह जातक के जीवन को बर्बाद कर सकता है।

    वैदिक ज्योतिष में ग्रह

स्टार गाइड

दैनिक गाइड

संभावित घटनाओं का संकलन, प्रति घंटा मार्गदर्शन, सटीक समय-सीमा और क्या करें और क्या न करें

लाइफ मीटर

जानिए अपनी शारीरिक और मानसिक स्थिति के विभिन्न पहलुओं का प्रतिशत

अनुकूलता

जानिए दूसरों से आपकी तरंगे कितनी मेल खाती है

Rahu - Ketu Transit