https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

काल सर्प दोष (kaal sarp dosh) क्या है, इसका जीवन पर कैसे प्रभाव पड़ता है ?

kaal sarp dosh क्या है, इसका जीवन पर कैसे प्रभाव पड़ता है ?

काल का अर्थ है समय और सर्प का अर्थ है सर्प यानी काल सर्प का अर्थ हुआ समय का सर्प। कई ज्योतिषी इसे अशुभ योग कहते हैं। काल सर्प दोष (kaal sarp dosh) किसी व्यक्ति के ऊंचे पद से गिरने का मुख्य कारण माना जाता है। काल सर्प दोष (kaal sarp dosh) हमेशा बुरा नहीं होता है। जन्म कुण्डली में कोई अन्य युति होने से यह अनुकूल फल देती है। वहीं दूसरी ओर जब सभी ग्रह अशुभ ग्रहों राहु और केतु के बीच में आ जाते हैं, तो काल सर्प दोष बनता है। संपूर्ण काल सर्प दोष (kaal sarp dosh) तब बनता है, जब कुंडली का आधा भाग ग्रहों से खाली होता है। अगर एक ग्रह भी राहु केतु अक्ष के बाहर होता है, तो भी काल सर्प दोष (kaal sarp dosh) नहीं होता है। काल सर्प दोष का कोई भी उपाय करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि सभी ग्रह राहु और केतु के बीच में हों। राहु केतु अक्ष के बाहर एक भी ग्रह होने पर भी काल सर्प दोष नहीं होता है।

काल सर्प दोष (kaal sarp dosh) कई प्रकार का होता है, लेकिन 12वें प्रकार का काल सर्प दोष सबसे ज्यादा असर डालता है, जो नीचे दिया गया है:

  • अनंत काल सर्प दोष: इस योग के होने से पति-पत्नी के बीच मतभेद से वैवाहिक जीवन बर्बाद हो जाएगा।
  • कुलिक काल सर्प दोष: यह योग जीवन में कुछ हासिल करने के लिए संघर्ष का प्रतीक है
  • वासुकी काल सर्प दोष: यह नौकरी और व्यापार में उतार-चढ़ाव देता है।
  • शंखपाल काल सर्प दोष : यह संपत्ति से जुड़ी दिक्कतें पैदा करता है। ठगी की संभावना बन जाती है।
  • पदम काल सर्प दोष: जातक को संतान संबंधी परेशानी होगी।
  • महापदम काल सर्प दोष: यह योग स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है
  • तक्षक काल सर्प दोष: यह साझेदारी और वैवाहिक जीवन में कठिनाई को दर्शाता है।
  • कर्कोटक काल सर्प दोष: यह अचानक स्वास्थ्य संबंधी गड़बड़ी को दर्शाता है।
  • शंखचूड़ काल सर्प दोष: यह योग उच्च अधिकारियों से समस्याओं का संकेत देता है।
  • घटक काल सर्प दोष: यह योग व्यापार में उतार-चढ़ाव देता है। यह संयोजन शारीरिक समस्याएं जैसे दिल की परेशानी, अनिद्रा आदि देता है।
  • विशधर काल सर्प दोष: यह शारीरिक परेशानी दे सकता है, जैसे दिल की परेशानी या दिल से संबंधित अन्य दिक्कतें।
  • शेषनाग काल सर्प दोष : यह अज्ञात-रहस्यमय शत्रुओं से कष्ट देता है।

कुल मिलाकर जब सभी ग्रह राहु और केतु के बीच में हों तो यह शक्तिशाली अशुभ प्रभाव दे सकता है। इसे निरवाण का सबसे प्रभावी उपाय है, काल सर्प दोष निवारण पूजा। दोष निवारण संबंधित पूजा के लिए विशेषज्ञों से बात करें…

12वां कालसर्प दोष (kaal sarp dosh) अशुभ

12वां कालसर्प दोष अशुभ है। जन्मकुंडली में इस योग की उपस्थिति व्यक्ति के जीवन को दुखी और तेज बना सकती है। यह योग सामान्य रूप से चिंता और कठिनाई देता है। इस योग के प्रभाव में आने वाला व्यक्ति कष्टपूर्ण जीवन जीता है। इसका मतलब यह नहीं है कि कालसर्प योग व्यक्ति के पूरे जीवन को खराब कर देता है। कुछ मामलों में विभिन्न प्रकार की ग्रह स्थिति होने पर, यह अशुभ योग निष्फल हो जाता है। कालसर्प योग के इस दुष्परिणाम को कम करने के लिए व्यक्ति को अभिषेक या मंत्र जाप से भगवान शिव की आराधना करनी चाहिए।

क्या आपको भी काल सर्प दोष के कारण समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, तो अभी हमारे ज्योतिषीय विशेषज्ञों से बात करें…

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
निकुंज सुथारो
गणेशास्पीक्स टीम

Follow Us