https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

शनि के प्रभाव और उन्हें दूर करने के उपाय

the effects of saturn: जानिए शनि की कुदृष्टि से कैसे बचें- Ganeshaspeaks.com

शनि, जिसे अंग्रेजी में सैटर्न कहा जाता है, सौर मंडल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रह है और अंतरिक्ष में सबसे धीमी गति से चलने वाला ग्रह भी है। हालांकि, इसका मनुष्यों और उनकी कुंडलियों पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। यह हमारे काम के अनुसार हम पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभाव डालता है। इसकी उपस्थिति दूसरे, सातवें, तीसरे, दसवें और ग्यारहवें भाव में शुभ मानी जाती है, लेकिन चौथे, पांचवें और आठवें भाव में अशुभ मानी जाती है। यह न केवल जीवन, मृत्यु, धन, घर और बच्चों को नियंत्रित करता है, बल्कि कानूनी मुकदमे, चोरी, आंतों से संबंधित बीमारी, वित्तीय मामलों आदि के परिणामों को भी नियंत्रित करता है। इस प्रकार शनि ग्रह चमत्कार कर सकता है, यदि यह अनुकूल हो, लेकिन कुछ पहलुओं में नकारात्मक होने से यह बहुत बुरा असर दिखा सकता है।

शुभ शनि की दशा में व्यक्ति भाषा पर अच्छा अधिकार रखने वाला बड़ा विद्वान बनता है। शनि सोने को राख में बदल सकता है, लेकिन जब यह दयालु होता है, तो यह अत्यधिक लाभ देता है। जिन लोगों पर शनि का प्रभाव होता है, उनके लिए मशीनरी, भट्टी, चमड़ा, सीमेंट, लकड़ी, लोहा, तेल, परिवहन, ज्योतिष, रबर आदि के व्यापार में संलग्न होने की उच्च संभावनाएं होती हैं।

हालांकि शनि अशुभ होने पर जातक को जीवन में बहुत सारे संघर्षों का सामना करना पड़ता है। पेट से संबंधित रोग भी हो सकते हैं। इस बात की प्रबल संभावना रहती है कि वह अपना धन भी खो सकता है या कारावास का शिकार हो सकता है। साथ ही शनि गोचर का प्रभाव सभी 12 राशियों पर पड़ने वाला है। 12 चंद्र राशियों पर शनि के गोचर के प्रभाव से संबंधित लेख में और अधिक रोचक तथ्य प्राप्त करें।

शनि और उसके प्रमुख प्रभाव (the effects of saturn)

शनि के सभी संभावित प्रभावों को ध्यान में रखते हुए विभिन्न योगों और संयोग में इस ग्रह के कुछ प्रभाव इस प्रकार हैं: –

  1. चूंकि शनि आठवें भाव का स्वामी है, यह किसी भी अन्य भाव पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगा, चाहे वह कहीं भी स्थित हो।
  2. शराब पीना, जुआ खेलना, झूठ बोलना या फिजूलखर्ची करना शनि के सकारात्मक प्रभावों को दबा देता है।
  3. यदि शनि राहु और केतु के साथ स्थित हो तो यह महत्वहीन हो जाता है।
  4. यदि शनि सूर्य की दृष्टि में आ जाए तो यह शुक्र को हानि पहुंचाता है।
  5. यदि शनि शुक्र के प्रभाव में हो तो जातक को आर्थिक नुकसान हो सकता है, लेकिन इसके विपरीत यदि शुक्र शनि के प्रभाव में हो तो लाभप्रद सिद्ध हो सकता है।
  6. यदि जन्म के समय शनि नीच का हो और वार्षिक कुंडली में नीच भाव में आ जाए तो यह जीवन के 9वें, 18वें, 27वें और 36वें वर्ष में बहुत नुकसान करता है।
  7. हमारे विशेषज्ञों के अनुसार शनि का लाभकारी प्रभाव आमतौर पर जन्म के 36वें वर्ष के बाद शुरू होता है।
  8. शनि अकेले होने पर या चंद्रमा के साथ स्थित होने पर या कुंडली के 12 वें घर में राहु के साथ होने पर एक बुरा प्रभाव देता है। इसके अलावा यदि द्वितीय भाव और मंगल में मित्र ग्रह हो तो शुक्र ग्रह स्थापित होता है। ऐसे में व्यक्ति लंबी बीमारी से उबर सकता है और उसके बाद स्वस्थ जीवन जी सकता है।
  9. दूसरे, 9वें और 12वें भाव में शनि अपनी राशि में कभी नीच का फल नहीं देते, लेकिन जब यह तीसरे या 8वें भाव में हो तो जातक मांगलिक होता है। यह चतुर्थ भाव में चन्द्रमा को कष्ट देता है और अष्टम भाव में दुर्घटना का कारण बनता है।
  10. नौवें भाव में स्थित होने पर शनि बहुत लाभकारी प्रभाव देता है बशर्ते दूसरे भाव में भी मित्र ग्रह हों।
  11. जब शनि और चंद्रमा आपस में टकराते हैं तो व्यक्ति को नेत्र शल्य चिकित्सा के लिए जाना पड़ सकता है।
  12. जब सूर्य और शुक्र एक दूसरे की दृष्टि में हों तो यह धन हानि का संकेत देता है। साथ ही, ऐसी स्थिति में पत्नी के भी कष्ट सहने की संभावना बनती है।

जन्म तिथि के आधार पर अपनी नि:शुल्क कुंडली जानिए और शनि की स्थिति के बारे में पता कीजिए..

शनि के अशुभ प्रभाव को दूर करने के उपाय

जैसा कि पहले चर्चा की गई है, शनि का प्रभाव ऐसा है कि इसमें आशावादी और निराशावादी दोनों तत्व हैं। हालांकि, ऐसे कई उपाय हैं, जिनका पालन करने पर शनि ग्रह के नकारात्मक प्रभावों को कम किया जा सकता है। लाल किताब के अनुसार सभी घरों में शनि के प्रतिकूल प्रभावों के लिए यहां कुछ उपाय दिए गए हैं। साथ ही, हमारी शनि गोचर रिपोर्ट के साथ शनि गोचर के दुष्प्रभावों के बारे में विस्तार से जानें, जो आपके व्यवसाय, वित्त, करियर, स्वास्थ्य, शिक्षा, प्रेम और रिश्तों के मामलों से जुड़ी समस्याओं से निपटने में मदद करेगा।

पहला घर

यदि शनि प्रथम भाव में है, तो नीचे दिए गए उपाय आपके जीवन में इस ग्रह के दुष्प्रभावों को दूर करने के लिए अद्भुत काम करेंगे:

  1. शराब और मांसाहारी भोजन के सेवन से परहेज।
  2. काम में पदोन्नति के लिए सूरमे को जमीन में गाड़ देना फायदेमंद रहेगा।
  3. बंदरों को खिलाने से भी समृद्धि मिल सकती है।
  4. बरगद के पेड़ की जड़ों में मीठा दूध चढ़ाने से शिक्षा और स्वास्थ्य में अच्छे परिणाम मिलते हैं।

दूसरा घर

यदि शनि ग्रह द्वितीय भाव में हो तो :

  1. प्रतिदिन 43 दिवस नंगे पांव मंदिर जाना भी बहुत फलदायी हो सकता है।
  2. माथे पर दही या दूध का तिलक लगाना।
  3. सांप को दूध पिलाना।

तीसरा घर

यदि शनि ग्रह तीसरे भाव में हो तो:

  1. तीन कुत्तों को खिलाने से आपको शनि के बुरे चरण से गुजरने में मदद मिल सकती है।
  2. आंखों के लिए दवा दान करना या आंखों के लिए मुफ्त दवाएं बांटना।
  3. घर में अंधेरा रखना भी लाभदायक सिद्ध हो सकता है।

चौथा घर

शनि चतुर्थ भाव में होने पर उसके प्रतिकूल प्रभाव को दूर करने के लिए:

  1. सांपों को दूध पिलाना और कौवे या भैंस को दूध या चावल खिलाना आपको शनि के बुरे प्रभाव से लड़ने में मदद कर सकता है।
  2. कुएं में दूध डालना
  3. बहते पानी में रम डालने से भी मदद मिल सकती है।

पांचवां घर

पंचम भाव में शनि ग्रह के साथ

  1. पुत्र का जन्मदिन पर नमकीन चीजें बांटने से भी शनि के नकारात्मक प्रभावों को दूर करने में मदद मिल सकती है।
  2. बादाम को मंदिर में चढ़ाकर आधा घर में रखने से लाभ होता है।

छठा घर

यदि शनि का ग्रह छठे भाव में हो तो नीचे दी गई प्रक्रियाओं का पालन करें:

  1. काले कुत्ते को भोजन देना।
  2. बहते जल में नारियल और बादाम डालना।
  3. सांपों को दूध पिलाना बच्चों के कल्याण के लिए लाभदायक सिद्ध होगा।

सप्तम भाव

जिस व्यक्ति का शनि सप्तम भाव में हो तो उसके लिए :

  1. चीनी से भरी बांसुरी को सुनसान जगह पर गाड़ दें।
  2. काली गाय को खिलाने से भी शनि के निराशावादी पहलुओं का मुकाबला करने में मदद मिल सकती है।

आठवां घर

यदि शनि अष्टम भाव में हो तो :

  1. चांदी का एक चौकोर टुकड़ा पास रखने से मदद मिलेगी।
  2. नहाने के पानी में दूध डालना; नहाते समय पत्थर या लकड़ी के तख्त पर बैठना भी लाभकारी सिद्ध होता है।

नौवां घर

जिस व्यक्ति के लिए शनि नवम भाव में है, तो:

  1. बहते पानी में चावल या बादाम डालने से लाभ होगा।
  2. इसके अलावा, बृहस्पति से जुड़े कार्य के लिए सोना और केसर का दान करना और चंद्रमा से जुड़े कार्य के लिए चांदी और कपड़े का दान करना भी फल देने वाला होगा।

10 वां घर

यदि शनि ग्रह दशम भाव में हो तो

  1. मंदिर जाना सहायक होगा।
  2. मांस, शराब और अंडे से परहेज भी प्रभावी होगा।
  3. दस दृष्टिबाधित लोगों को भोजन देना आपके लिए बहुत उपयोगी हो सकता है।

11 वां घर

यदि शनि एकादश भाव में है, तो नीचे दिए गए बिंदुओं का पालन करना रचनात्मक होगा:

  1. महत्वपूर्ण कार्य पर जाने से पूर्व जल से भरा पात्र भूमि पर एक स्थान पर रख दें और उसमें तेल या वाइन की कुछ बूंदें 43 दिन तक डालें।
  2. शराब के सेवन से परहेज और अच्छे नैतिक चरित्र को बनाए रखने की कोशिश करना सार्थक होगा।

12वां घर

और अंत में, यदि शनि बारहवें भाव में है, तो:

  1. बारह बादाम को काले कपड़े में बांधकर लोहे के बर्तन में रखकर अंधेरे कमरे में रखने से अच्छा फल मिलता है, ऐसा गणेशजी कहते हैं।

इसलिए, शनि जिस घर में रहता है, उसके अनुसार इन उपायों / समाधानों का पालन करने से निश्चित रूप से शनि के नकारात्मक प्रभावों का मुकाबला करने में आपकी मदद मिलेगी।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, अभी किसी ज्योतिषी से बात करें!

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

नीचे शनि गोचर पर अधिक मनोरंजक लेख प्राप्त करें जो आपके स्वास्थ्य, धन, कॅरियर और रिश्तों को प्रभावित करता है:

धनु राशि पर शनि के गोचर का प्रभाव।
कुंभ राशि पर शनि के गोचर का प्रभाव।
मेष राशि पर शनि के गोचर का प्रभाव।
मकर राशि पर शनि के गोचर का प्रभाव।

Follow Us