ग्रहों की युति को समझें


ग्रहों की युति

ज्योतिष में, ग्रहों की युति तब होती है जब दो या दो से अधिक ग्रह पृथ्वी पर हमारे दृष्टिकोण से आकाश में एक दूसरे के बहुत करीब दिखाई देते हैं।

संयोजनों को शक्तिशाली ज्योतिषीय घटनाएं माना जाता है जो किसी व्यक्ति के जीवन को प्रभावित कर सकती हैं, जिसके आधार पर ग्रह शामिल होते हैं और संयोजन के संकेत और घर की स्थिति होती है। संयोजन का विशिष्ट अर्थ शामिल ग्रहों की प्रकृति और विशेषताओं पर निर्भर करता है।

उदाहरण के लिए, सूर्य और चंद्रमा के बीच संयोजन को नया चंद्रमा कहा जाता है, जो एक नए चंद्र चक्र की शुरुआत को चिह्नित करता है और नई शुरुआत और नई शुरुआत से जुड़ा होता है। शनि और प्लूटो के बीच एक संयोजन को एक महत्वपूर्ण संयोजन माना जाता है जो हर 34 साल में एक बार होता है, और यह गहरे परिवर्तन और परिवर्तन से जुड़ा होता है।

ज्योतिषी अक्सर किसी व्यक्ति के जीवन में ऊर्जावान प्रभावों की अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए ग्रहों के बीच संयोजनों का विश्लेषण करते हैं और अपने वांछित परिणामों को प्राप्त करने के लिए इन प्रभावों को कैसे नेविगेट करें, इस पर मार्गदर्शन प्रदान करते हैं।


कौन सा ग्रह युति में शक्तिशाली है?

एक संयोजन की शक्ति विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है जैसे कि इसमें शामिल ग्रह, संकेत और संयोजन का गृह स्थान, और ग्रहों के बीच बने अन्य पहलू या कोण।

ज्योतिष में कुछ ग्रहों को दूसरों की तुलना में अधिक शक्तिशाली माना जाता है। उदाहरण के लिए, बृहस्पति और शुक्र शुभ ग्रह माने जाते हैं जो भाग्य, विकास और सद्भाव लाते हैं, जबकि मंगल और शनि को अशुभ ग्रह माना जाता है जो चुनौतियां, बाधाएं और देरी ला सकते हैं।

जब युति की बात आती है, तो किसी ग्रह की युति की शक्ति उसकी प्रकृति और अन्य ग्रहों की प्रकृति पर निर्भर करती है। उदाहरण के लिए, बृहस्पति और शुक्र की युति को एक शक्तिशाली और सामंजस्यपूर्ण संयोजन माना जाता है जो विकास, प्रचुरता और आनंद ला सकता है।

दूसरी ओर, मंगल और शनि की युति चुनौतीपूर्ण और तीव्र हो सकती है, क्योंकि यह दो पाप ग्रहों की ऊर्जाओं को जोड़ती है। यह संयोजन संघर्ष, असफलता और विलंब ला सकता है।

अंततः, संयोजन की शक्ति किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली के समग्र संदर्भ और इसमें शामिल विशिष्ट पहलुओं और प्लेसमेंट पर निर्भर करती है।


क्या होता है जब दो ग्रहों की युति होती है?

जब दो ग्रह युति में होते हैं, तो वे पृथ्वी पर हमारे दृष्टिकोण से आकाश में एक-दूसरे के बहुत करीब दिखाई देते हैं। ज्योतिष शास्त्र में, युति को शक्तिशाली और महत्वपूर्ण घटनाओं के रूप में माना जाता है जो कि शामिल ग्रहों की प्रकृति और विशेषताओं के आधार पर किसी व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव डाल सकती हैं।

एक संयोजन के विशिष्ट प्रभाव शामिल ग्रहों की प्रकृति, संयोजन के संकेत और गृह स्थान, और ग्रहों के बीच बने अन्य पहलुओं या कोणों पर निर्भर करते हैं। यहाँ कुछ सामान्य प्रभाव हैं जो संयोजन के दौरान हो सकते हैं।

1. ऊर्जाओं का प्रवर्धन:

जब दो ग्रह संयोजन में होते हैं, तो उनकी ऊर्जा संयुक्त और प्रवर्धित होती है, जो एक शक्तिशाली और तीव्र ऊर्जा पैदा कर सकती है जो सकारात्मक या नकारात्मक दोनों हो सकती है।

2. नई शुरुआत:

संयोजन किसी व्यक्ति के जीवन में एक नए चक्र या चरण की शुरुआत का संकेत दे सकता है। उदाहरण के लिए, सूर्य और चंद्रमा के संयोजन को नया चंद्रमा कहा जाता है, जो एक नए चंद्र चक्र की शुरुआत को चिह्नित करता है और नई शुरुआत और नई शुरुआत से जुड़ा होता है।

3. बढ़ी हुई तीव्रता:

एक संयोजन शामिल ग्रहों की ऊर्जा को तेज कर सकता है, जो महत्वपूर्ण परिवर्तन या चुनौतियां ला सकता है। उदाहरण के लिए, मंगल और शनि की युति तीव्र और चुनौतीपूर्ण हो सकती है, क्योंकि यह दो अशुभ ग्रहों की ऊर्जाओं को जोड़ती है।

4. परिवर्तन:

एक संयोजन किसी व्यक्ति के जीवन में परिवर्तन या परिवर्तन के समय का संकेत दे सकता है। उदाहरण के लिए, प्लूटो और शनि का संयोजन गहरा परिवर्तन और परिवर्तन ला सकता है, क्योंकि ये ग्रह अंत और नई शुरुआत से जुड़े हैं।


कुल मिलाकर, युति के प्रभाव विशिष्ट ग्रह संयोजन और किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली के संदर्भ पर निर्भर करते हैं। ज्योतिषी अक्सर किसी व्यक्ति के ऊर्जावान प्रभावों में अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए संयोजनों का विश्लेषण करते हैं और वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए उन्हें नेविगेट करने पर मार्गदर्शन प्रदान करते हैं।

सूर्य युति :-

सूर्य चंद्र प्रथम भाव में | सूर्य मंगल प्रथम भाव में | सूर्य शनि प्रथम भाव में | सूर्य राहु प्रथम भाव में | सूर्य केतु प्रथम भाव में | सूर्य बृहस्पति प्रथम भाव में | सूर्य बुध प्रथम भाव में | सूर्य शुक्र प्रथम भाव में

सूर्य युति का महत्व :-

सूर्य बृहस्पति संयोजन | सूर्य केतु संयोजन | सूर्य मंगल संयोजन | सन मर्करी कंजंक्शन | सूर्य चंद्र युति | सूर्य राहु संयोजन | सूर्य शनि संयोजन | सूर्य शुक्र संयोजन

चंद्र युति :-

शुक्र प्रथम भाव में चंद्रमा | चंद्र मंगल प्रथम भाव में | चंद्र गुरु प्रथम भाव में | चंद्र राहु प्रथम भाव में | केतु प्रथम भाव में चंद्रमा | बुध प्रथम भाव में चंद्रमा |शनि प्रथम भाव में चंद्रमा



Continue With...

Chrome Chrome