https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

यूपी इलेक्शन 2017 में मायावती फैक्टर असर दिखाएगा

यूपी इलेक्शन 2017 में मायावती फैक्टर असर दिखाएगा

राजनीति की पेचीदगियों और आम जनता के मूड को भलीभांति जानने वाली मायावती यूपी की राजनीति में एक बड़ी ताकत मानी जाती हैं, जिसने चार बार यूपी के सीएम पद पर राज किया। जैसे-जैसे यूपी के चुनाव की तारीख नजदीक आती जा रही है, वैसे-वैसे लोगों के जेहन में यही सवाल चल रहे हैं कि कैसे मायावती एक बार फिर से सबके सामने खुद को साबित कर पाएंगी और क्या इस बड़ी लड़ार्इ में उनकी जीत की संभावना है? गणेशजी ने जब मायावती की कुंडली का विश्लेषण किया तो ये बात सामने आर्इ कि गुरू का पारगमन उसे उपयुक्त मुकाबला करने और चुनावी दौड़ में बने रहने में मदद करेगा। हालांकि,अन्य प्रतिकूल ग्रहों की स्थिति उनकी उम्मीदों के मुताबित परिणाम प्राप्त नहीं करने देंगे।

मायावती- बसपा प्रमुख
जन्म दिनांकः 15 जनवरी 1956
जन्म समयः 08:47:00 (अनिश्चित)
जन्म स्थानः नर्इ दिल्ली, भारत

जन्म कुंडली

kundali

हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों द्वारा तैयार अपनी हस्तलिखित जन्मपत्री प्राप्त करें

बसपा प्रमुख मायावती की कुंडली में ग्रहीय परिदृष्य
गणेशजी के अनुसार वर्तमान में बसपा प्रमुख मायावती की कुंडली में बुध की महादशा और बुध की अंतर्दशा चल रही है। भाग्य के नौवें भाव का स्वामी बुध अपने लग्न स्थान में बैठा है, जो सूर्य और चंद्र के साथ युति कर रहा है।

ये विशेष संयोजन किस रूप में उनकी मदद करेंगे ?
गणेशजी मानते है कि प्रमुख ग्रहों की अपने लग्न में उपस्थिति मजबूत व्यक्तित्व और बेहतर लीडरशिप को दर्शाती है। ग्रहों का ये विन्यास आमजन के साथ अच्छे संबंधों और उत्तम प्रभाव को इंगित करता है।

चतुर राजनीतिज्ञः
चूंकि मन का कारक चंद्र और बुद्घि का कारक बुध परस्पर मिले हुए हैं, इस कारण मायावती बेहद चतुर राजनीतिज्ञ है, जो जनता के मूड को अच्छे से समझने में सक्षम हैं। स्थितियों को भांपकर रणनीति बनाना जानती हैं।

कन्या में गुरू का पारगमन उनको कैसे सहयोग करेगाः
गोचर के गुरू का जन्म के सूर्य और चंद्र पर दृष्टि डालना उनकी कड़ी मेहनत करने की क्षमता को बढ़ाएगा। गुरू का सकारात्मक प्रभाव भी उसे सही निर्णय लेने और पार्टी मेंबर्स को प्रोत्साहित करने में मदद करेगा। इस उज्जवल पहलू के कारण, चुनौतियों के बावजूद वो अच्छा प्रदर्शन करने में सक्षम होंगी और अपने प्रतिद्वंदियों को कड़ी टक्कर देंगी।

यूपी चुनाव 2017 में वो कैसे सफल हो पाएंगी ?
गणेशजी को लगता है कि हालांकि गुरू की सकारात्मक दृष्टि बृहत सीमा तक उसकी मदद करेगी, लेकिन गोचर के राहु का जन्म के गुरू के ऊपर और गोचर के केतु का जन्म के शुक्र के ऊपर पारगमन मायावती के लिए शुभ संकेत नहीं हाेगा। इन ग्रहों का सामयिक प्रभाव उनकी छवि को धूमिल कर उन्हें विवादों के महाजाल में फंसा सकता है। इस कारण, उन्हें सावधानी से आगे बढ़ना होगा।

मीडिया से सहयोगः
जिस तरह, गोचर का गुरू उनके जन्म के बुध पर दृष्टि डाल रहा है, जो कि मीडिया और कम्यूनिकेशन का कारक है, उससे वो मीडिया के कुछ सेक्शंस में अच्छा सहयोग प्राप्त कर सकती हैं।

इसे भी पढ़ेः मोदी को आगे आैर भी इम्तिहान से गुजरना होगा

सावधान – शनि बदल रहा है स्थान !
इसके अलावा, शनि का धनु और वृश्चिक राशि में आगे और पीछे पारगमन मायावती अौर उसकी पार्टी के लिए कुछ हुडदंगी स्थितियां उत्पन्न कर सकता है।

संक्षिप्त विवरणः
सभी स्थितियों को ध्यान में रखते हुए, ये लगता है कि आने वाले चुनावों में मायावती की पार्टी के वोट का भाग बढ़ने की संभावना है और एक कुशल लीडर की योग्यता के कारण वो कुछ सेक्शन्स में विश्वास दिलाने में कामयाब रहेंगी। उनके जनाधार में भी वृद्घि होने की संभावना है।

संभावित खतरेंः
गणेशजी की मानें तो आगामी महीनों में मायावती की छवि को फिर से बढ़ावा मिल सकता है। लेेकिन, पूर्व के कुछ मसलें उन्हें परेशान करने के लिए फिर से उजागर हो सकते हैं। इसके अलावा, मायावती और उसके प्रतिद्वंदियों के बीच वाकयुद्घ होने की आशंका है जिससे छोटे मसले काफी बड़े बन सकते हैं। मायावती जी के लिए यही बेहतर होगा कि वो तोलमोल कर ही अपने बयान दें।

निष्कर्ष:
ये नजर आ रहा है कि मायावती को सितारों से उचित सहयोग मिलेगा जिसका वो वर्तमान स्थिति में लाभ उठा सकती हैं। अगर वो अच्छी तरह से दांव खेलती है तो अच्छी सफलता मिलती नजर आ रही हैं। लेकिन साल 2017 में शनि की असामान्य चाल के कारण, आत्मसंतोषी जीव होना उनके लिए महंगा साबित हो सकता है।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
तन्मय के ठाकर
(स्पेशल इनपुट्सः आदित्य सांर्इं)
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us