लोकसभा चुनाव 2019 में अकाली दल की कुंडली और चुनावी भविष्य - GaneshaSpeaks
https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

लोकसभा चुनाव 2019 में अकाली दल की कुंडली और चुनावी भविष्य

लोकसभा चुनाव 2019 में अकाली दल की कुंडली और चुनावी भविष्य

गुरु के प्रभाव के कारण कुछ महत्वपूर्ण सीटें जीत सकेगा अकाली दल

शिरोमणि अकाली दल पंजाब, भारत का एक प्रमुख क्षेत्रीय राजनीतिक दल है। अकाली दल का गठन 14 दिसंबर 1920 को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, सिख धार्मिक संस्था के तौर पर किया गया था। हालांकि समय-समय पर संगठन में टूटना और जुड़ना लगा रहा है। अासन्न लोकसभा चुनाव के वक्त भी पार्टी के नेताओं का अाना-जाना लगा हुअा है। लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर हम पार्टी की क्या स्थिति होगी। इसका ज्योतिषीय विश्लेषण के जरिए इसका अाकलन करेंगे।

अकाली दल की कुंडली

kundali

मतदान के समय क्या रहेगी ग्रहों की स्थिति

अभी की स्थिति में केतु के साथ शनि का गोचर 11 वें भाव से होगा। – फिलहाल पार्टी साढ़े साती के प्रभाव में है।- गोचररत राहु 5 वें भाव से गुजर रहा है।- फाउंडेशन चार्ट में गोचररत बृहस्पति 10 वें भाव से जन्मकालीन सूर्य के ऊपर से गुजर है।- मतदान की तारीख पर चंद्रमा का गोचर अनुकूल रहेगा।- पार्टी शुक्र महादशा और चंद्रमा भुक्ति के प्रभाव में है।

अकाली दल के लिए भविष्यवाणी

अकाली दल की ग्रहीय स्थिति का ज्योतिषीय विश्लेषण करें, तो पता चलता है कि शनि के प्रतिकूल गोचर के कारण, अकाली दल के लिए कांग्रेस के वोट बैंक में प्रवेश करना इतना आसान नहीं होगा। पार्टी को विपक्षी दलों की कड़ी प्रतिस्पर्द्धा और प्रतिरोध का सामना करना पड़ेगा। साथ ही कुछ महत्वपूर्ण निर्वाचन क्षेत्रों में इसके कमजोर होने की संभावना है। इसके अलावा, कुछ महत्वपूर्ण सीटों पर गठबंधन कर लड़ने वाली राजनीतिक दलों के कारण भी शिरोमणि अकाली दल की संभावनाएं कम होंगी। मतदान की तारीख पर पारगमित बृहस्पति के लाभकारी और अनुकूल ग्रहीय प्रभाव के कारण पार्टी कुछ महत्वपूर्ण सीटें जीतने में सक्षम होगी। पार्टी के पारंपरिक समर्थकों और मतदाताओं के पार्टी को अच्छी तरह से समर्थन करने की संभावना है। इससे पार्टी को लोकसभा चुनाव 2019 में अपनी सीटों को बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

ग्रहीय स्थिति के बाद निष्कर्ष

अगर इस ग्रहीय स्थिति के अाधार पर अाकलन करें, तो पता चलता है कि लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान अकाली दल का प्रदर्शन औसत रहेगा। पार्टी के लिए अपनी सीट संख्या में बढ़ोतरी करना मुश्किल होगा। हालांकि, अकाली दल के वोट शेयर में मामूली वृद्धि होगी और वह अपनी लोकसभा सीटों को बरकरार रखने में सक्षम हो सकेगा।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

ये भी पढ़ें-
लोकसभा चुनाव 2019 के लिए अन्य राजनीतिक दलों की स्थिति और कुंडली के अनुसार भविष्यवाणी
क्या कहती है प्रियंका गांधी की कुंडली, लोकसभा चुनाव 2019 के बारे में
शनि-केतु की युति लोकसभा चुनाव 2019 पर क्या असर डालने वाली है

Follow Us