https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

क्षेत्रीय सिनेमा बॉलीवुड में अपनी मजबूत पैठ बनाएगा !

क्षेत्रीय सिनेमा बॉलीवुड में अपनी मजबूत पैठ बनाएगा !

भारत में मनोरंजन
साल 2016 में घटनाक्रमसाल 2016 में बॉलीवुड नगरी पर विवादों का साया छाया रहा। मनमोहन देसाई और संजय लीला भंसाली द्वारा निर्देशित फिल्मों से भी ज्यादा नाटकीय घटनाएं भारतीय फिल्म उद्योग में देखने को मिली। एफटीआईआई अध्यक्ष के पद पर नियुक्ति का मामला, पहलाज निहलानी और अनुराग कश्यप के बीच के कटु रिश्ते, ‘उड़ता पंजाब’ में सेंसरशिप विवाद, फिल्म ‘सुल्तान’ के प्रचार के दौरान अभिनेता सलमान खान के द्वारा दिया गया विवादित बयान, रणबीर-कैटरीना के बीच का ब्रेक-अप, रितिक-कंगना की असफलता इत्यादि घटनाओं ने लगातार हमारा हमारा खीचे रखा। जहां तक फिल्म की बात है तो हमें खट्टे और मीठे दोनों ही अनुभव मिले। अब हमने नये साल 2017 में कदम रख दिया है। चलिए देखते हैं कि इस साल कौन-कौन-सी बातें हमारा ध्यान खींचने वाली हैं।

व्यक्तित्व से विषयवस्तु संबधी मान्यताओं में मौलिक परिवर्तन
ज्योतिषीय दृष्टि से अवलोकन करें तो इसके रचनात्मकता, भावना और प्रदर्शन से जुड़े पंचम भाव में से गुरू का पारगमन जुलाई 2017 में से होगा। इस भ्रमण को देखते हुए एेसा लगता है कि भारतीय फिल्में मात्र पर्सनॉलिटीज पर केंद्रित रहने की बजाय परफॉरमेंस और मैसेज प्रधान भी रहेंगी। फिल्मी सितारों के लव अफेयर्स जगजाहिर होंगे। एक ही फिल्म में काम कर रहे अभिनेत्री-अभिनेता वास्तविक जीवन में भी रियल लाइफ लवर्स निकलेंगे। फिल्म में रोमांस अधिक रहेगा। मार्शल आर्ट या एक्शन ओरिएंटेड मूवीज उतनी सफल साबित नहीं होगी जितना कि इमोशन्स व लॉजिक पर आधारित फिल्में।

फिल्मी मैदान के छोटे खिलाड़ी बड़ी बाजी मारेंगे
ट्रेंड में एक बदलाव-सा देखने को मिलेगा। जिसमें फिल्मी दुनियां के छोटे खिलाड़ी जैसे कि (स्माल प्रोडक्शन हाउसेस और प्रोड्यूसर्स लोगों के समक्ष अच्छे विषयों को लेकर आएंगे। क्षेत्रीय सिनेमा भी पहले के वर्षों की तुलना में अच्छा प्रदर्शन करेगा। गणेशजी को लगता है कि फिल्मों की विषय वस्तु के एक जैसी होने के बावजूद भी स्टोरी का प्रेजेंटेशन पूरी तरह से फिल्म को नया बना देगा। हालांकि, विदेशी निवेशों से बनने वाली हाई बजट मूवीज आगे आने वाले वर्षों के दौरान एक अच्छा प्रदर्शन कर सकती है। गणेशजी को लगता है कि इस दौरान हमें कुछ अच्छी कम बजट की फिल्में भी देखने को मिल सकती है। एक्टर्स व एक्ट्रेसेस की अपेक्षा स्टोरी लाइन अधिक आकर्षण का केंद्र रहेगी। ऑडियो-विजुअल मीडियम और अधिक डेवलप होता जाएगा। भारतीय फिल्मों को दुनियाभर में प्रसिद्धि मिलेगी। भारतीय मध्यम वर्ग पर आधारित विषयों को भी फिल्माया जाएगा। प्रोडक्शन एवं डिस्ट्रीब्यूशन टेक्नोलॉजीज और ज्यादा तकनीकी कुशल होती जाएंगी। भारतीय फिल्मों के अंतराष्ट्रीय पुरस्कार भी जीतने की संभावना रहेगी।

यह भी पढ़ेंः गणेशजी की भविष्यवाणीः वर्ष 2017 में भारत को नर्इ पहचान मिलेगी !

मनोरंजन की दुनिया
गुजरे साल की घटनाओं पर एक नजर:
इस बात से बहुत ही कम लोग असहमत होंगे कि साल 2016 हॉलवुड के लिए उतना बढ़िया साल नहीं गया। कुछ घटनाओं ने तो लोगों को ज्यादा हैरान-परेशान किया। ब्रैंजलीना ब्रेकअप, किम कार्दशियन और कान्ये वेस्ट का अलग होना, ट्रम्प और हॉलीवुड के बीच का विवाद, हॉलीवुड सुपरस्‍टार जॉनी डेप के खिलाफ आरोप और कई फ्लॉप फिल्मों जैसी हलचलों ने लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचे रखा। कुछ एेसी ही मशहूर हस्तियां जो चर्चा में रही हैं वो हैं – हाल में ही अॉस्कर जीतने वाले अमेरिकी अभिनेता व फिल्म निर्माता लियोनार्डो डिकैप्रियो तथा बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा। लेकिन, वर्ष2017 हॉलीवुड के लिए कैसा साबित होगा? चलिए अपने इस लेख में उत्तर जानने का प्रयास करते हैं-

नई प्रतिभाएं अपने कौशल का जौहर दिखाएंगी
विश्व स्तर पर, एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री यानी मनोरंजन उद्योग पर भारी रकम खर्च होने के संकेत प्राप्त हो रहे हैं। नये और युवा सिंगर्स का इंडस्ट्री में पदार्पण होगा। नौसिखिये बच्चे विलक्षण विचारों से लैस होंगे और अच्छा प्रदर्शन कर जाएंगे। फ्यूजन काफी छाये रहेंगे और मार्केट में क्रिएटिव चीजों की भरमार रहेगी। अंतरराष्ट्रीय फिल्मों के स्टैण्डर्ड में इज़ाफा होगा। कल्पना और फंतासी मार्केट में छायी रहेगी।

अंतिम तीन महीनों में विश्व सिनेमा के लिए गोल्डन युग
यहां तक कि औसत बजट वाली फिल्में भी अच्छा प्रदर्शन करेंगी। मार्केट के बड़े खिलाड़ी इस साल ढेर सारे पैसे बनाएंगे। हालांकि, साल 2017 में आने वाली फिल्में आलोचना का शिकार हो सकती हैं। इसलिए फिल्म निर्माताओं को बहुत अधिक सावधान और सतर्क रहना होगा। चुनांचे उनको अपने प्रोडक्ट की गुणवत्ता पर बल देते हुए मूर्खतापूर्ण कृत्यों से दूर रहने की चेष्टा करनी होगी। इस वर्ष के अंतिम तीन महीनों में विश्व सिनेमा एक नए युग में प्रवेश करेगा। गणेशजी की भविष्यवाणी है कि सितंबर 2017 से विश्व सिनेमा और मनोरंजन उद्योग लगभग एक साल के लिए एक स्वर्णिम दौर से गुजरेगा।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
भावेश एन. पट्टनी(स्पेशल इनपुटस: आदित्य सांर्इं)
गणेशास्पीक्स डाॅटकाॅम टीम

फिल्मों की छोड़े अब अपने करियर की सोचें, वर्ष 2017 में आपका करियर कैसी करवट लेगा ? साल 2017 की कैरियर रिपोर्ट द्वारा अपने सवालों का जवाब पाएं, वो भी बिल्कुल फ्री !

Follow Us