ऋषि पंचमी 2022 (Rishi Panchami 2022) व्रत- महत्व, तिथि और अनुष्ठान

Rishi Panchami 2022 व्रत - महत्व और अनुष्ठान

ऋषि पंचमी (Rishi Panchami 2022) का महत्वपूर्ण त्योहार नजदीक ही है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, ऋषि पंचमी भाद्रपद के महीने में शुक्ल पक्ष के पांचवें दिन मनाई जाती है। यह त्योहार गणेश चतुर्थी के अगले ही दिन पड़ता है। इस साल ऋषि पंचमी 11 सितंबर 2021 को आ रही है। ऋषि पंचमी (Rishi Panchami 2022) आमतौर पर गणेश चतुर्थी के एक दिन बाद ही आती है। यह दिन सप्त ऋषि यानी कश्यप, अत्रि, भारद्वाज, विश्वामित्र, गौतम महर्षि, जमदग्नि और वशिष्ठ की पूजा का दिन है। केरल में इस दिन को विश्वकर्मा पूजा के रूप में भी मनाया जाता है। ऋषि पंचमी व्रत में मुख्य रूप से उन महान संतों के प्रति सम्मान, कृतज्ञता व्यक्त की जाती है, जिन्होंने समाज के कल्याण में बहुत योगदान दिया।

ऐसा माना जाता है कि ऋषि पंचमी व्रत (Rishi Panchami Vrat) का व्रत सभी के लिए लाभकारी होता है, लेकिन इस व्रत को महिलाओं द्वारा विशेष रूप से किया जाता है। ऋषि पंचमी का त्योहार एक महिला के लिए पति के प्रति अपनी आस्था, कृतज्ञता, विश्वास और सम्मान व्यक्त करने का एक तरीका है। इस पर्व पर व्रत करने से अनजाने में किए गए पापों का भी नाश होता है। तो आइए जानिए इस त्योहार के बारे में, इसके पीछे की कहानी और इससे जुड़ी पूजा की रस्मों के बारे में-

Rishi Panchami 2022 का समय और तिथि

ऋषि पञ्चमी- गुरुवार,  1 सितम्बर 2022
ऋषि पञ्चमी पूजा मुहूर्त – 11:11 AM से 01:42 PM
अवधि – 02 घण्टे 31 मिनट्स
पञ्चमी तिथि प्रारम्भ – 31 अगस्त 2022 को 03:22 PM
पञ्चमी तिथि समाप्त – 01 सितम्बर 2022 को 02:49 PM

आपकी 2022 रिपोर्ट के माध्यम से इस वर्ष आपके लिए अन्य शुभ दिनों के बारे में और ज्यादा जानकारी लें, जो आने वाले वर्ष के लिए उत्तर और चरणों की पेशकश करता है। जानिए अपनी वार्षिक रिपोर्ट

ऋषि पंचमी (Rishi Panchami 2022) के व्रत का उद्देश्य

हिंदू परंपरा के अनुसार, जो महिलाएं मासिक धर्म या पीरियड (योनि के माध्यम से गर्भाशय की आंतरिक परत से रक्त और श्लेष्म ऊतक का नियमित निर्वहन) का अनुभव कर रही हैं, उन्हें धार्मिक गतिविधियों को करने या घरेलू कार्यों (रसोई के काम सहित) में शामिल होने से मना किया जाता है। जब तक वे उस अवस्था में हैं। यहां तक कि उन्हें पाठ-पूजा से जुड़ी चीजों को छूने की भी मनाही होती है। यदि किसी मजबूरी से या गलती से या अन्य कारणों से वे ऐसा कर लेती हैं, तो वे रजस्वला दोष की भागी होती हैं। इस दोष से छुटकारा पाने के लिए महिलाएं ऋषि पंचमी का व्रत रखती हैं। ऋषि पंचमी को भाई पंचमी के नाम से भी जाना जाता है। माहेश्वरी समाज में इस दिन बहनें भाइयों को राखी बांधती हैं। इस दिन बहनें व्रत रखती हैं और अपने भाई की लंबी उम्र की कामना करती हैं। वे पूजा करने के बाद ही भोजन करते हैं। भाई दूज का त्योहार भी भाई-बहन के बीच प्यार को दर्शाता है।

ऋषि पंचमी के पीछे की कहानी

एक बार की बात है, विदर्भ देश में एक ब्राह्मण अपनी समर्पित पत्नी के साथ रहता था। ब्राह्मण के एक पुत्र और एक पुत्री थी। उसने अपनी बेटी की शादी एक सुसंस्कृत ब्राह्मण व्यक्ति से कर दी, लेकिन लड़की के पति की असमय मृत्यु हो गई, जिससे लड़की विधवा का जीवन व्यतीत करने लगी। वह अपने पिता के यहां वापस आ गई और फिर वहीं रहने लगी। कुछ दिनों बाद लड़की के पूरे शरीर में कीड़े हो गए। जिसने उसके लिए मुश्किलें खड़ी कर दीं। उसके माता-पिता भी चिंतित हो गए। वे इस समस्या के समाधान के लिए ऋषि के पास गए।

प्रबुद्ध ऋषि ने ब्राह्मण की बेटी के पिछले जन्मों में झांका। ऋषि ने ब्राह्मण और उसकी पत्नी से कहा कि उनकी बेटी ने अपने पिछले जन्म में एक धार्मिक नियम का उल्लंघन किया था। मासिक धर्म के दौरान उसने रसोई के कुछ बर्तनों को छुआ था। ऐसा करके उसने उस पाप को आमंत्रित किया था, जो उसके वर्तमान जन्म में परिलक्षित हो रहा था। पवित्र शास्त्रों में कहा गया है कि जो महिला मासिक धर्म में हैं, उसे धार्मिक चीजों और बरतनों को नहीं छूना चाहिए। ऋषि ने उन्हें आगे बताया कि लड़की ने ऋषि पंचमी का व्रत भी नहीं किया था, यही कारण है कि उसे इन परिणामों का सामना करना पड़ा।

ऋषि ने ब्राह्मण से यह भी कहा कि अगर लड़की पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ ऋषि पंचमी का व्रत रखती है और अपने पापों के लिए क्षमा मांगती है, तो उसे अपने पिछले कर्मों (कर्मों) से छुटकारा मिल जाएगा और उसका शरीर कीड़ों से मुक्त हो जाएगा। लड़की ने वही किया, जो उसके पिता ने उसे बताया और वह कीड़ों से मुक्त हो गई।

ऋषि पंचमी पर की जाने वाली पूजा विधि और अनुष्ठान

ऋषि पंचमी (Rishi Panchami 2022) के दिन स्नान करने के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण करें। अपने घर में साफ जगह पर हल्दी, कुमकुम और रोली का उपयोग करके एक चौकोर आकार का चित्र (मंडल) बनाएं। मंडल पर सप्त ऋषि (सात ऋषि) की प्रतिमा स्थापित करें। चित्र के ऊपर शुद्ध जल और पंचामृत डालें। चंदन से टीका लगाएं। सप्तऋषि को फूलों की माला और पुष्प अर्पित करें। उन्हें पवित्र धागा (यज्ञोपवीत) पहनाएं। उन्हें सफेद वस्त्र भेंट करें। साथ ही उन्हें फल, मिठाई आदि भी अर्पित करें। उस स्थान पर धूप आदि रखें। कई इलाकों में यह प्रक्रिया नदी के किनारे या किसी तालाब के पास की जाती है। इस पूजा के बाद महिलाएं अनाज का सेवन नहीं करतीं। ऋषि पंचमी के दिन वे एक खास तरह के चावल का सेवन करती हैं। ऋषि पंचमी उत्सव का सर्वोत्तम उपयोग करें, अपने सभी दोषों को दूर करें और जो आप चाहते हैं उसे प्राप्त करें।

अगर आप पूजा में किसी तरह की सहायता चाहते हैं, तो अभी हमारे ज्योतिष विशेषज्ञों से बात करें…

Rishi Panchami 2022 व्रत में क्या खाएं?

ऋषि पंचमी (Rishi Panchami 2022) पर खाने की परंपरा प्रत्येक संस्कृति में अलग होती है। पहले के दिनों में, भक्त अनाज से तैयार भोजन के बजाय भूमिगत उगने वाले फलों का सेवन करते थे। जैनियों के लिए यह दिन महत्वपूर्ण है। चूंकि जैन धर्म में दो संप्रदाय हैं, श्वेतांबर पंथ, जो ऋषि पंचमी को परशुजन (पर्युषण) महापर्व के अंत के रूप में मनाते हैं, जबकि दिगंबर पंथ इस दिन को महा पर्व की शुरुआत के रूप में मानते हैं।

महाराष्ट्र में इस दिन एक विशेष भोजन पकाया जाता है जिसे ऋषि पंचमी भाजी के नाम से जाना जाता है। इसे मौसमी सब्जियों के साथ पकाया जाता है। आमतौर पर इस व्यंजन को बनाते समय कंद का उपयोग किया जाता है। इस भाजी को एक तरह से पकाया जाता है, जिस तरह ऋषि तैयार किया करते थे यानि साधारण और बिना मसाले के। ऋषि पंचमी के दिन व्रत करने वाले भक्त इस भाजी से अपना व्रत खोलते हैं। व्रत खोलने के लिए इस भाजी का सेवन करते हैं।

इस भाजी की मुख्य सामग्री है अमरनाथ के पत्ते- चवली, हाथी पैर यम-सूरन, शकरकंदी, आलू, सर्प लौकी- चिचिंडा, मूंगफली, कद्दू, अरबी के पत्ते, अरबी और कच्चा केला। इन सभी सब्जियों को गैस स्टोव पर बर्तन में पकाया जाता है। पहले लोग इस भाजी को मिट्टी के बर्तनों में पकाया करते थे, आजकल इसकी जगह धातु के बर्तनों ने ले ली है। इस प्रकार ऋषि पंचमी व्रत ऋषियों के निस्वार्थ परिश्रम को समर्पित है। यह एक ऐसा दिन है, जो भक्तों को अपने तन-मन और आत्मा को शुद्ध करने का अवसर देता है। इस पूरे दिन के उपवास के जरिए पाचन तंत्र को भी मजबूत किया जाता है।

ऋषि पंचमी के शुभ दिन पर अपनी व्यक्तिगत राशिफल के साथ सौभाग्य को आकर्षित करें! – विशेषज्ञ ज्योतिषी से अभी बात करें!

गणेश की कृपा से,

गणेशास्पीक्स.कॉम टीम

श्री बेजान दारूवाला द्वारा प्रशिक्षित ज्योतिषी।

Follow Us