नक्षत्र – रोहिणी

रोहिणी चौथा नक्षत्र है। इस स्टार में पैदा हुए लोग आम तौर देखने में सुंदर तथा आकर्षक व खुबसूरत आंखों वाले होते हैं। हालांकि, इस नक्षत्र के जातक आमतौर पर सर्वोत्कृष्ट गुढ़ व्यक्ति होते हैं जिनके साथ कोई मिलना नहीं चाहे। वे जिद्दी होते हैं, चिड़चिड़ा और दोष निकालने वाले होते हैं। वे शायद ही कभी अपने खुद के कार्यों का मूल्यांकन करते हैं लेकिन खुद को दूसरों का मूल्यांकन करने में व्यस्त रहते हैं। इस नक्षत्र के जातक किसी भी विचार या सुझाव के प्रति अशिष्ट होते हैं। उनके प्रेम व नफरत का रिश्ता काफी परेशानी भरा होता है, दोनों ही रुप में वे उन्हें चरम पर ले जाते हैं। जीवन के अधिकांश उतार चढ़ाव उनके स्वयं की देन होते हैं क्योंकि कोई भी योजना करना उनके लिए खराब सपने जैसा है। उनमें से ज्यादातर अतिव्ययी होते हैं। रोहिणी जातक आमतौर पर काफी निर्मम प्रकृति के होते हैं, लेकिन जिनके साथ वे आश्वासक महसूस करते हैं, उनपर आंख मूंद कर विश्वास करते हैं। वे किसी भी काम में विश्वसनीय होते हैं, उनमें से ज्यादातर ईमानदार होते हैं, लेकिन किसी भी संकट की स्थिति में दिमाग के बजाए अपने दिल की बात को सुनते हैं। यह उनको कई अन्य जटिलताओं की ओर लेकर जाता है। प्रारंभिक वर्षों में रोहणी जातक के लिए जीवन काफी मुश्किल होता है। जब वे 36 वर्ष के होते हैं तो वस्तुस्थिति उनके लिए एक सकारात्मक मोड़ लेकर आता है। यह देखा गया है कि 36 से 50 तथा 65 से 75 वर्ष की अवधि उनके जीवन का बेहतरीन समय होता है। रोहिणी जातक रक्त से संबंधित रोगों, सांस की समस्याएं और गले के संक्रमण से ग्रस्त होते हैं।

List of Nakshatras
अश्विनी भरणी Krittika Rohini Mrigshirsha Ardra Punarvasu Pushya Mrigshirsha Ashlesha Magha Moola Purvaphalguni Uttaraphalguni Hasta Chitra Swati Vishakha Anuradha Jyeshtha Purvashadha Uttarashadha Revati Shravana Dhanishtha Shatbhisha Abhijit Poorvabhadrapada Uttarabhadrapada

स्टार गाइड

दैनिक गाइड

संभावित घटनाओं का संकलन, प्रति घंटा मार्गदर्शन, सटीक समय-सीमा और क्या करें और क्या न करें

लाइफ मीटर

जानिए अपनी शारीरिक और मानसिक स्थिति के विभिन्न पहलुओं का प्रतिशत

अनुकूलता

जानिए दूसरों से आपकी तरंगे कितनी मेल खाती है

Rahu - Ketu Transit