गणेशजी से जानें, उभरते खिलाड़ी युजवेंद्र चहल का व्यक्तित्व और ज्योतिषीय विश्लेषण

गणेशजी से जानें, उभरते खिलाड़ी युजवेंद्र चहल का व्यक्तित्व और ज्योतिषीय विश्लेषण

युजवेंद्र चहल उन खिलाड़ियों में शामिल है जिन्होंने बेहद कम उम्र आैर समय में अपनी प्रतिभा से पूरे विश्व में अपनी खास पहचान बनार्इ है। 23 जुलार्इ 1990 को हरियाणा में जन्मे चहल ने मात्र सात साल की उम्र मेें अपने कैरियर की शुरूआत शतरंज से की थी। चहल ने अंडर-12 की नेशनल किडस चेस चैंपियनशिप भी जीती थी। इसके बाद उन्होंने क्रिकेट में अपना भाग्य आजमाते हुए पहले हरियाणा के घरेलू मैदान आैर फिर आर्इपीएल में अपना दमदार प्रदर्शन दिखाकर टीम इंडिया में एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में जगह बनार्इ। चहल एक लेग ब्रेक गेंदबाज है। वे अकेले एेसे खिलाड़ी है जो शतरंज और क्रिकेट दोनों में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे है। युजवेंद्र कहते है शतरंज खेलने से उन्हें क्रिकेट पर ध्यान केन्द्रित करने में मदद मिलती है। तो आइए गणेशजी जानते है कि आगामी वर्ष इस प्लेयर के लिए कैसा साबित होगा।

युजवेंद्र चहल 

जन्म-दिनांकः 23 जुलार्इ 1990

जन्म-स्थानः जिंद, हरियाणा, भारत

सूर्य कुंडली

kundali

हमारे विशेषज्ञों द्वारा तैयार हस्तलिखित जन्मपत्री प्राप्त करें

मजबूत मंगल बनाता है आक्रामक

चहल की सूर्य कुंडली में, मंगल अपनी स्वराशि मेष में स्थित है। ताकतवर मंगल किसी भी स्पोर्टस-पर्सन के लिए लाभदायक होता है। ये उसे आक्रामक आैर बाधाआें के खिलाफ मजबूती से खड़े रहने के लिए दृढ़ बनाता है। साथ ही ये उसे प्रतिद्वंदियों पर जीत हासिल करने की क्षमता प्रदान करता है।

एक ही राशि में पांच ग्रहों का समूह देता है मजबूत सहज-ज्ञान 

चहल की राशि में, कर्क राशि में पांच ग्रहों का समूह है। इस कारण वो काफी कुशल, रचनात्मक आैर सहज है। उसका सहजज्ञान मजबूत हो सकता है अौर वो विपक्ष की कमजोरी को आसानी से पहचानकर अपनी बाॅलिंग की रणनीति में आवश्यक बदलाव कर सकता है।

अपने कैरियर के बारे में विस्तार से जानें, आज ही खरीदें हमारी 2017 कैरियर रिपोर्ट 

बलवान गुरू सफलता का दिलाता भरोसा 

मजबूत गुरू तारागण के साथ विराजमान है जो उसे सफलता हासिल करने के लिए बाध्य करता है। क्यूंकि उसकी आक्रामकता प्रबल सहजज्ञान के साथ मिश्रित है, इस कारण वो अपने खेल के कर्इ पहलुआें पर काम करने में सक्षम है।

ग्रह देते है अद्भुत प्रतिभा के संकेत 

मंगल का बुध पर दृष्टि डालना खेल के हर पहलू पर त्वरित सजगता, स्फूर्ति आैर सूक्ष्म फोकस के संकेत देता है। चहल की कुंडली में ग्रहों का विन्यास ये दर्शाता है कि वे अत्यधिक प्रतिभावान है आैर अपने प्रदर्शन से हर किसी को आश्चर्यचकित कर सकते है।

2017 कैरियर के लिए आशाजनक वर्ष 

गुरू का गोचर वर्तमान में उनके पक्ष में घूम रहा है आैर ये सितम्बर 2017 से जन्म के मंगल पर दृष्टि डालेगा। एेसे में 2017 चहल के कैरियर के लिए आशाजनक वर्ष होगा।

आपको नौकरी करनी चाहिए या फिर बिजनेस ? इस बारे में जानें नौकरी या व्यवसाय रिपोर्ट से।

शनि का गोचर बाधाएं खड़ी कर सकता है 

शनि के पारगमन के कारण, चहल कुछ बाधाआें का सामना कर सकते है आैर उसका प्रदर्शन अस्थिर रह सकता है।  इसके अलावा, राहु का कर्क राशि में आगामी गोचर उसके लिए मुश्किल भरा रहेगा। इस कारण, सभी प्रकार के सामर्थ्य के बावजूद चहल उच्च स्तर पर प्रदर्शन करने के लिए वांछित अवसर प्राप्त नहीं कर सकेंगे या इच्छित परिणाम देने में सक्षम नहीं हो सकेंगे।

कड़ी टक्कर के बावजूद, टीम इंडिया में स्थान बनाने में होगा समर्थ 

इसके अलावा, उसे टीम इंडिया का स्थायी सदस्य बने रहने के लिए उसे कड़ी प्रतिस्पर्धा पार करनी होगी। फिर भी, वो निश्चित रूप से गति पकड़ेगा आैर कर्इ स्थापित खिलाड़ियों को पीछे छोड़ सकता है।

गणेशजी के आर्शीवाद सहित 

तन्मय के ठाकर

गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम टीम

क्या आप किसी चीज को लेकर उलझन में है, तो हमारे ज्योतिषी से बात कीजिए आैर समाधान पाए।

17 Feb 2017

View All blogs

Follow Us