रोहित शर्माः आगे भी लहराएंगे विजय पताका, पर मानसिक गुत्थियों से बाहर निकलना पहले जरूरी..!

रोहित शर्माः आगे भी लहराएंगे विजय पताका, पर मानसिक गुत्थियों से बाहर निकलना पहले जरूरी..!

होनहार व बेमिसाल खिलाड़ी रोहित गुरूनाथ शर्मा ने क्रिकेट जगत में एक के बाद एक ताबड़तोड़ अंदाज में रिकार्ड तोड़कर तो मानो इतिहास ही रच दिया है। आज वे चोटी के क्रिकेट खिलाड़ियों में एक अहम स्थान रखते हैं। मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा शांत व विनीत स्वभाव के हैं। वे यह अच्छी तरह से जानते हैं कि किसी भी शॉर्ट्स को बेस्ट टाइमिंग और फील्डिंग के मद्देनजर कैसे खेला जाए। वनडे मैच में दोहरा शतक जड़ते हुए रिकॉर्ड 264 रन की पारी सफलतापूर्वक खेलने वाले रोहित पहले बल्लेबाज हैं। रोहित शर्मा आईपीएल में 4000 रन बनाने का रिकॉर्ड बनाने वाले चौथे खिलाडी़ बन गए हैं। मात्र 20 वर्ष की उम्र में अंतराष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरूआत करने वाले रोहित ने अपना पहले वनडे मैच 2007 में खेला। इनके नाम आईपीएल मैच में अंतिम बाॅल पर छक्का मारकर टीम को जीत दिलाने का अनोखा रिकॉर्ड है। टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर बल्लेबाज रोहित शर्मा के भविष्य के बारे में गणेशजी का क्या मंतव्य है चलिए रोहित शर्मा की कुंडली के विश्लेषण से पता करते हैं।

रोहित शर्मा

जन्म तारीखः 30 अप्रैल 1987

जन्म स्थानः नागपुर, महाराष्ट्र, भारत

जन्म समयः अज्ञात

रोहित शर्मा की सूर्य कुंडली 

kundali

हमारे विद्वान ज्योतिषियों द्वारा तैयार अपनी जन्मकुंडलीरिपोर्ट आज ही पाएं

ग्रहों का अवलोकनः

टीम इंडिया के स्टार क्रिकेटर रोहित शर्मा की सूर्य कुंडली में उच्च का सूर्य, उच्च का शुक्र और स्वगृही गुरू है। इनकी स्थितियां हंस योग व मालव योग बना रही हैं। छायाग्रह राहु इनके साथ रहकर इनके जैसा ही फल दे रहा है। वहीं उच्च का सूर्य इनकी सफलता को बढ़ाते हुए इन्हें यश-कीर्ति प्रदान कर रहा है। सूर्य व बुध के सुमेल से ये बुद्धिशाली हैं। कुंडली को देखें तो उच्च का शुक्र सेनापति मंगल के साथ मिलकर ज्योतिष के एक चर्चित योग लक्ष्मी योग का निर्माण कर रहा है।

बौद्धिक चातुर्य से संपन्न व्यक्तित्वः

रोहित शर्मा की सूर्य कुंडली का अध्ययन करने पर यह ज्ञात होता है कि सूर्य व बुध की बेजोड़ युति से ये बुद्धिशाली व होशियार हैं जो इन्हें एक अद्भुत बौद्धिक चातुर्य का स्वामी बनाती हैं। इसके अलावा, उच्च का चंद्र साहसी मंगल के साथ जुड़कर इन्हें निर्भीक व आत्मबली भी बना रहा है। यही कारण है कि भाग्य के बल पर शर्मा बचपन से कुछ कर गुजरने के लिए प्रेरित रहते हैं। आत्मविश्वास से युक्त रोहित शर्मा स्वनिर्भर रहना पसंद करते हैं और ज्यादातर निर्णय अपनी सूझबूझ और विवेक से लेने में विश्वास करते हैं।

वर्ष 2017 में आपका कैरियर कैसा रहेगा इस बारे में जानें 2017 कैरियर रिपोर्ट से।

आगामी वर्ष-एक नजर मेंः

वर्ष के दौरान रोहित शर्मा की कुंडली में ग्रहों की स्थितियों को देखें तो गुरू के सितंबर माह तक कन्या राशि में होने से इनकी जन्मकालीन गुरू की दृष्टि शुक्र पर पड़ रही है। गणेशजी का कहना है कि इसके बाद तुला राशि में भ्रमण के दौरान जन्म के सूर्य पर गुरू की दृष्टि पड़ना इन्हें खूब प्रसिद्धि दिलाएगा।

मानसिक संघर्षः

वर्तमान वर्ष में यानी अगस्त 2017 के बाद राहु के कर्क राशि में भ्रमण की वजह से मानसिक संघर्ष, बेचैनी व अशांति रहेगी। मन में मानसिक रूप से उद्वेग व उचाट का अनुभव होगा। मानसिक हताशा जब इंसान पर हावी होने लगती है तो वह उसके करियर पर बुरा असर दिखाती है, इसलिए ग्रहों की स्थितियां ठीक नहीं होने से इस अवधि में उनका करियर एक मायने में मध्यम रह सकता है। ग्रहों की प्रतिकूलता के कारण इनका परफॉरमेंस पहले से यदि कमजोर दिखाई दे तो इसमें कोई नयी बात नहीं। इसके अलावा, इनके ऊपर छोटी-मोटी चोट भी लग जाने का भी खतरा रहेगा। अतः इस अवधि में रोहित शर्मा को अपनी तबीयत का ध्यान रखना चाहिए।

जाॅब या बिजनेस ? क्या अपने लिए उपयुक्त चयन नहीं कर पा रहे ? तो खरीदें हमारी रिपोर्ट कैरियर या व्यवसाय कौन-सा चुनें ?

परफॉरमेंस और जून-अगस्त का समयः

ग्रहों के अनुकूल संयोजन की वजह से इस समय चल रहे आईपीएल क्रिकेट मैच में इनका परफॉरमेंस अच्छा रहेगा। गणेशजी की माने तो इनके एक अच्छा-खासा रन बटोरने की भी संभावना है। जून से अगस्त के दौरान मानसिक चंचलता की वजह से रोहित परेशानी व अशांति का अनुभव करेंगे। देवगुरू बृहस्पति की शुभ दृष्टि का चंद्र पर पड़ना इनको असमंजस की स्थतियों से बाहर निकालते हुए मानसिक स्पष्टता की ओर ले जाने में सहायता कर सकती है।

सारांश:

रोहित शर्मा की सूर्य कुंडली पर ज्योतिषीय रूप से विचार करने पर यह कहा जा सकता है कि अनुकूल ग्रहों की कृपा से रोहित की शुरूआत एक बेहतर तरीके से होने की संभावना है। मैदान पर न केवल इनका प्रदर्शन शानदार रहेगा, बल्कि इनको उपलब्धियां भी प्राप्त होगी। हालांकि, जून महीने के पश्चात की समयावधि में ग्रहों की विषम स्थितियों की वजह से रोहित शर्मा मानसिक रूप से काफी बेचैन रहेंगे। गणेशजी के अनुसार, मानसिक हताशा व निराशा की वजह से इनके परफॉरमेंस पर भी खराब असर दिखाई पड़ने का अंदेशा है। कुल मिलाकर,  कहा जाए तो यह वर्ष रोहित शर्मा के लिए मिलेजुले परिणाम लेकर आ सकता है।

गणेशजी के आशीर्वाद से,

बिंदु पंड्या

गणेशास्पीक्स डाॅटकाॅम टीम

02 May 2017

View All blogs

Follow Us