जानें शिवसेना-भाजपा गठबंधन का क्या होगा भविष्य ?

जानें शिवसेना-भाजपा गठबंधन का क्या होगा भविष्य ?

2017 अगस्त से अक्टूबर के बीच भाजपा-शिवसेना का गठबंधन टूटने की संभावना 

शिवसेना पार्टी की स्थापना वर्ष 1960 प्रमुख राजनीतिक कार्टूनिस्ट बाल ठाकरे ने की थी। 1970 के शुरूआती समय में पार्टी को खूब प्रसिद्घि मिली। स्थानीय लोगों के अधिकारों के लिए अस्तित्व में अार्इ ये पार्टी धीरे-धीरे हिन्दूत्व के मुददे पर आगे बढ़ने लगी। शिवसेना ने वर्ष 1989 में भाजपा के साथ गठबंधन किया, इन दोनों पार्टियों ने मिलकर महाराष्ट्र में 1995-1999 में सरकार बनार्इ। लेकिन 2014 के विधानसभा चुनाव में इनके बीच गठबंधन टूट गया। इस कारण दोनों पार्टियों ने अलग-अलग चुनाव लड़ा। इस चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरकर सामने आर्इ, जिसके बाद पहले विपक्ष में बैठने का फैसला करने वाली शिवसेना पुनः बीजेपी का दामन थामने के लिए तैयार हुर्इ। लेकिन बीएमसी चुनावों में उद्घव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना ने बीजेपी के साथ गठबंधन ना करके ये साबित कर दिया कि दोनों पार्टियों के बीच रिश्ते मधुर नहीं रहे। तो आपको क्या लगता है क्या ये गठबंधन फिर से जुड़ पाएगा? या फिर इस गठबंधन की उलझी गांठ को सुलझाना नामुमकिन है। आइए गणेशजी से जानते है कि ज्योतिषीय दृष्टि से इस गठबंधन का क्या भविष्य होगा।

शिवसेना की स्थापना कुंडली 

kundali

बदल सकते है शिवसेना के राजनीतिक दांव-पेंच

शिवसेना की स्थापना कुंडली के अनुसार, पार्टी वर्तमान में बुध की महादशा आैर सूर्य की अंतर्दशा से प्रभावित है। दसवें भाव का स्वामी सूर्य आठवें भाव में आठवें भाव के स्वामी बुध के साथ विराजमान है। जो ये संकेत देता है कि पार्टी अपनी राजनैतिक सफर के निर्णायक चरण से गुजर रही है। साथ ही ये पार्टी नेतृत्व की आेर से रणनीति में आश्चर्यजनक परिवर्तन को भी इंगित करता है।

बीजेपी-शिवसेना गठबंधनः भाजपा के दबाव का नहीं होगा असर

सिंह राशि में का गोचर ये संकेत देता है कि बीजेपी के दबाव की वजह से शिवसेना के नेतृत्व पर असर नहीं पड़ेगा। बल्कि ये पार्टी भाजपा का विरोध करती रहेगी आैर बेमतलब की बयानबाजी करते रहेंगे। जन्म के सूर्य पर आठवें भाव में दृष्टि डाल रहा है एेसे में शिवसेना के लिए आगे का रास्ता मुश्किल हो सकता है।

कैरियर एक प्रश्न पूछें रिपोर्ट से अपने कैरियर के बड़े मसलों का समाधान पाए 

भाजपा नहीं चाहेगी प्रगति में रूकावटें 

वहीं दूसरी आेर, बीजेपी सूर्य की महादशा आैर केतु की अंतर्दशा से प्रभावित है। साथ ही,  बीजेपी की स्थापना कुंडली में गोचर का तीसरे भाव में ग्रहों के समूह के ऊपर से  गुजर रहा है। एेसे में बीजेपी शिवसेना को महाराष्ट्र में अपनी प्रगति का बाधक नहीं बनने देगी। दोनों पार्टियों की कुंडली में गोचर का राहु इनके बीच रिश्तों के परिवर्तन का संकेत दे रहा है। वहीं वर्ष 2017 के तहत दोनों पार्टियों के बीच विराेधभाव आैर आक्षेप बढ़ेंगे।

शिवसेना-भाजपा का गठबंधन टूटने का खतरा 

शपथ ग्रहण कुंडली पर गौर करें तो, का धनु में गोचर आैर का कर्क राशि में गोचर महाराष्ट्र के सीएम देवेन्द्र फडवडीस के लिए बड़ी चुनौतियां ला सकता है। बल्कि महाराष्ट्र सीएम के रूप में उनके लिए ये वर्ष अत्यधिक नाजुक हो सकता है। शिवसेना-बीजेपी का गठबंधन 18 अप्रेल 2017 के तहत खतरे में रहेगा। अगर ये गठबंधन पुनः जुड़ता है तो अगस्त 2017 से अक्टूबर 2017 के बीच की अवधि उनकी एकता के लिए मुश्किल रहेगी।

विवाह से संबंधित समस्याआें का समाधान पाए विवाह एक प्रश्न पूछें रिपोर्ट से 

दोनों ही अवधियां काफी संवदेनशील है आैर महाराष्ट्र सरकार में बीजेपी-शिवसेना का गठबंधन टूटने की अत्यधिक संभावना है।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित

तन्मय के ठाकर

गणेशास्पीक्स डाॅटकाॅम टीम 

ज्योतिषी से बात कीजिए आैर त्वरित समाधान पाए

22 Feb 2017

View All blogs

Follow Us