Navaratri: फूल चढ़ाईये, देवी का आशीर्वाद पाईये!

Navaratri त्योहार में किस देवी को कौन सा फूल चढ़ाया जाता है, आइए जानते हैं...

भारतीय उत्सव पुष्पों के बिना अधूरे हैं। हिन्दू परम्पराओं में ये अपना एक महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। भगवान से जुड़कर अपनी श्रद्घा व्यक्त करने का ये बड़ा ही सुंदर व पावन तरीका है। यूं तो बाजार में आपको फूलों की कई वैरायटियां मिलेगी, लेकिन आपको पहले ये जान लेना चाहिए कि प्रत्येक देवी का अपना एक पसंदीदा फूल होता है। इस महानवरात्रि (Navaratri) में नौ अलग-अलग देवियों को नौ अलग-अलग  फूल अर्पण करना अपना एक अलग महत्व रखता है।

हमारे इस लेख में गणेशजी से जानें कि वे कौन-से फूल होते हैं जो नवरात्रि के पावन अवसर पर देवी को चढ़ाने पर देवी जी का प्रसन्नतापूर्वक आशीर्वाद दिलाने में सहायक रहेंगे-

पहला दिन – शैलपुत्रीः गुड़हल

दूसरा दिन – ब्रह्मचारिणीः सेवंती

तीसरा दिन– चंद्रघंटाः कमल

चौथा दिन– कुष्मांडाः जूही

पांचवां दिन-स्कंदमाताः गुलाब

छठा दिन-कात्यायनीः चमेली

सातवां दिन-कालरात्रिः कृष्णाकमल

आठवां दिन-महागौरीः मोगरा

नौंवा दिन-सिद्घिदात्रीः चंपा

हमेशा याद रखेंः 

या तो एक फूल या फिर नौ के गुणांक में फूल अर्पित करें।

खंडित फूल कभी मत चढ़ाएं। सिर्फ खुशबूदार और विकसित फूल ही अर्पण करें।

ईश्वर को फूल चढ़ाने से पहले उसकी सुगंध मत लें।

साथ ही पढ़ेंः नवरात्रि में देवी के नौ रूपाें की करें आराधना

महा नवरात्रि (Navaratri) के अवसर पर कमल कैसे अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है? 

कमल का फूल वास्तव में दुनिया का सबसे सुंदर पुष्प है। ये आकर्षक फूल आँखों को अलग ही सुकून देता है। यह व्यक्ति के सच्चे मन का द्योतक है। समृद्धि, सौंदर्य और उत्पति का सूचक है। कमल का फूल विभिन्न उत्सवों का एक प्रमुख हिस्सा है। नवरात्रि के अवसर पर माँ दुर्गा को प्रसन्न करने का एक बेहतरीन तरीका इनको यह फूल चढ़ाना है। हालांकि, प्रत्येक देवी का कमल से विशेष नाता है। देवी दुर्गा कमल की पुष्पमाला से सुशोभित है, देवी सरस्वती सफेद कमल से युक्त है। वहीं देवी लक्ष्मी पूर्ण खिले हुए कमल पर विराजित है और बाएं हाथ में कमल रखती हैं।

इसके अलावा, हिन्दू साहित्य में, कमल का फूल उच्च ज्ञान और नैतिक गुणों को परिलक्षित करता है। ऐसा कहा जाता है कि कमल जातक को भाैतिक संसार के नाश्वान बंधन से मोक्ष प्रदान करके मुक्ति दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।  कमल का फूल सप्त गुणों का प्रतिनिधित्व करता है।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित 

गणेशास्पीक्स डाॅटकाॅम टीम 

क्या मानसिक दुर्बलताओं को दूर करने में मुश्किलें आ रही हैं? क्या नकारात्मकता को खत्म करने और सकारात्मकता को आमंत्रित करने के लिए विभिन्न उपाय अजमाने पर भी वांछित परिणाम नहीं मिल रहे? तो इस नवरात्रि पर अपने घर ले आइए सकारात्मकता ऊर्जा उत्पन्न करने का प्रमुख साधन-श्री महासुदर्शन यंत्र।

Follow Us