https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

जानिए जैन धर्म के 24 तीर्थंकरों के बारे में, और इनसे कैसे मिलेगी आंतरिक शक्ति और सकारात्मकता…

जैन धर्म के 24 तीर्थंकर

जैन धर्म दुनिया के सबसे पुराने मौजूदा धर्मों में से एक है, कुछ विद्वानों ने इसकी उत्पत्ति पूर्व-वैदिक, सिंधु घाटी सभ्यता से बताई है। इस दृष्टिकोण के अनुसार जैन धर्म का उदय कुछ लोगों द्वारा हिंदू धर्म से भी पहले बताया गया है, जिससे यह दुनिया का सबसे प्राचीन धर्म बन गया है। जैन धर्म के अनुयायी आज संख्या में भले ही कम हों, लेकिन उनका प्रभाव उनकी जनसंख्या से कहीं अधिक है।

जैन तीर्थंकर कौन है?

जैन धर्म सादा जीवन और अहिंसा के बारे में है। जैन धर्म 24 तीर्थंकरों की शिक्षाओं पर आधारित जीवन जीने का तरीका है। भगवान महावीर अंतिम और सबसे प्रमुख तीर्थंकर थे। तीर्थंकर शब्द तीर्थ के संस्थापक का प्रतीक है, जिसका अर्थ है अनंत जन्म और मृत्यु के समुद्र के पार एक दुर्गम मार्ग जिसे संसार कहा जाता है। तीर्थंकरों को विभिन्न रूप से “टीचिंग गॉड्स”, “फोर्ड-मेकर्स”, “क्रॉसिंग मेकर्स” और “मेकर्स ऑफ द रिवर-क्रॉसिंग” कहा जाता है।

24 तीर्थंकरों के नाम और विवरण

24 तीर्थंकरों ने पिछले कई हजारों वर्षों में जन्म लिया है और धर्म के नियम की शिक्षा दी है। यह दिलचस्प है कि इनमें से प्रत्येक तीर्थंकर एक प्रतीक का प्रतिनिधित्व करते हैं। यहां 24 तीर्थंकरों में से प्रत्येक के नाम, जन्म स्थान, प्रतीक आदि के बारे में बताया जा रहा है।

24 तीर्थंकर और उनके बारे में जानकारियां :

क्रमांक नाम प्रतीक जन्मस्थान रंग आयु
1 ऋषभनाथ(आदिनाथ) बैल अयोध्या स्वर्णिम 84,00,000 पूर्व
2 अजितनाथ हाथी अयोध्या स्वर्णिम 72,00,000 पूर्व
3 संभवनाथ घोड़ा Shravasti स्वर्णिम 60,00,000 पूर्व
4 अभिनंदननाथ बंदर समेत शिखर स्वर्णिम 50,00,000 पूर्व
5 सुमतिनाथ बगुला अयोध्या स्वर्णिम 40,00,000 पूर्व
6 पद्मप्रभ कमल समेत शिखर लाल 30,00,000 पूर्व
7 सुपाश्र्वनाथ स्वस्तिक समेत शिखर स्वर्णिम 20,00,000 पूर्व
8 चंद्रप्रभ नवचंद्रमा चंद्रपुरी सफेद 10,00,000 पूर्व
9 पुष्पदंत मगरमच्छ काकंडी सफेद 2,00,000 पूर्व
10 शीतलनाथ श्रीवत्स भद्रिकपुरी स्वर्णिम 1,00,000 पूर्व
11 श्रेयांसनाथ गैंडा समेत शिखर स्वर्णिम 84,00,000 वर्ष
12 वासुपूज्य भैंस चंपापुरी लाल 72,00,000 वर्ष
13 विमलनाथ सूअर काम्पिल्य स्वर्णिम 60,00,000 वर्ष
14 अनंतनाथ बाज अयोध्या स्वर्णिम 30,00,000 वर्ष
15 धर्मनाथ वज्र रत्नापुरी स्वर्णिम 10,00,000 वर्ष
16 शांतिनाथ मृग या हिरण हस्तिनापुर स्वर्णिम 1,00,000 वर्ष
17 कुंथुनाथ बकरी हस्तिनापुर स्वर्णिम 95,000 वर्ष
18 अरनाथ नंद्यावर्त या मछली हस्तिनापुर स्वर्णिम 84,000 वर्ष
19 मल्लिनाथ कलश मिथिला नीला 55,000 वर्ष
20 मुनिसुव्रत कछुआ कुसाग्रनगर काला 30,000 वर्ष
21 नेमिनाथ नीला कमल मिथिला स्वर्णिम 10,000 वर्ष
22 नेमिनाथ शंख द्वारका काला 1,000 वर्ष
23 पार्श्वनाथ नाग काशी नीला 100 वर्ष
24 महावीर सिंह क्षत्रियकुंड स्वर्णिम 72 वर्ष

भविष्य के 24 तीर्थंकरों के नाम

नीचे भविष्य के 24 तीर्थंकरों के नाम दिए गए हैं, जो जैन ब्रह्मांड विज्ञान के अनुसार अगले समय चक्र में प्रकट होने वाले हैं।
1) पद्मनाभ (राजा श्रेणिक)
2) सुरदेव (महावीर के चाचा सुपार्श्व)
3) सुपार्श्व (राजा कौनिक के पुत्र राजा उदयिन)
4) स्वंप्रभ (तपस्वी पोटिल)
5) सर्वानुभूति (श्रावक द्रिधायाधा)
6) देवश्रुति (कार्तिक की श्रेष्ठी)
7) (श्रावक शामखा)
8) पेडलपुत्र (श्रावक आनंद)
9) पोट्टिल (श्रावक सुनंद)
10) (शरवाक शातक)
11) मुनिव्रत (कृष्ण की माता देवकी)
12) अम्म (कृष्णा)
13) श्रीनिश्कशाय (सत्यकी रुद्र, महाभारत के सत्यकी भी)
14) निश्पुलक (कृष्ण के भाई बलभद्र को बलराम के नाम से भी जाना जाता है)
15) निर्मम (श्रविका सुलसा)
16) चित्रगुप्त (कृष्ण के भाई की माता रोहिणी देवी)
17) समाधिनाथ (रेवती गाथापटनी)
18) संवरनाथ (शरवाक शत्तिलक)
19) यशोधर (ऋषि द्विपायन)
20) विजय (महाभारत के कर्ण)
21) माल्यादेव (निर्ग्रंथपुत्र या मल्लनारदा)
22) देवचंद्र (श्रावक अंबाध)
23) अनंतवीर्य (श्रावक अमर)
24) श्रीभद्रकर (शनाक)

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us