खरमास में इस दान से बढ़ेगा मान-सम्मान -GaneshaSpeaks
https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

Kharmas 2018: इस महीने तिथियों के अनुसार करें ये दान

केसर दान से करें भाग्योदय

16 दिसंबर रविवार को सूर्य की धनु संक्रांति के साथ ही खरमास या मलमास शुरू हो गया है। खरमास 14 जनवरी 2019 को सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के साथ समाप्त हो जाएगा। इस दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्य अादि नहीं करना चाहिए। सूर्य जब गुरु की राशि धनु या मीन में आता है तो गुरु अस्त होने के कारण हर तरह के शुभ कार्य वर्जित होते हैं। खरमास के दौरान दान करने की मान्यता है और तिथि के अनुसार दान कर अाप शुभ फल की प्राप्ति कर सकते हैं।

सूर्य देव और विष्णु की उपासना के साथ ही करें स्नान-दान

खरमास में भगवान सूर्य और भगवान विष्णु की पूजा-उपासना की जाती है। इतना ही नहीं इन दिनों धार्मिक तीर्थस्थलों पर स्नान एवं दान आदि करने का भी विशेष महत्व है। इस दौरान एकादशी के दिन उपवास रखकर श्रीहरि विष्णु को तुलसी के पत्तों के साथ खीर का भोग लगाने का महत्व है। खरमास में तिथि के अनुसार दान करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। इस माह अन्नदान का विशेष महत्व है।

खरमास में ये कार्य हैं वर्जित

1. मुंडन
2. विवाह या अन्य मांगलिक कार्य
3. बेटी या बहू की विदाई
4. गृहप्रवेश
5. व्यावसायिक प्रतिष्ठान का शुभारंभ

तिथियों के मुताबिक करें दान

प्रतिपदा (एकम, पड़वा, प्रथम तिथि) : घी से भरे चांदी के पात्र का दान करने से मानसिक शांति मिलेगी।
द्वितीया तिथि : कांसे के पात्र में सोना रखकर दान करने से घर में कभी धन-धान्य की कमी नहीं होगी।
तृतीया तिथि : चने का दान करने से जीवन में सुख की प्राप्ति होती है।
चतुर्थी तिथि : खारक का दान करने से लाभ प्राप्त होता है।
पंचमी तिथि : गुड़ का दान करने से मान-सम्मान में वृद्धि होती है।
षष्ठी तिथि : औषधि दान से रोग, विकार दूर होते हैं।
सप्तमी तिथि : लाल चंदन के दान से बल-बुद्धि में वृद्धि होती है।
अष्टमी तिथि : रक्त चंदन के दान से पराक्रम बढ़ता है।
नवमी तिथि : केसर दान से भाग्योदय होगा।
दशमी तिथि : कस्तूरी दान से मनोकामनाओं की पूर्ति होगी।
एकादशी तिथि : गोरोचन के दान से बुद्धि बढ़ती है।
द्वादशी तिथि : शंख दान से धन लाभ होता है।
त्रयोदशी तिथि : किसी मंदिर में घंटी का दान करने से पारिवारिक सुख मिलता है।
चतुर्दशी तिथि : सफेद मोती दान से मनोविकार दूर होते हैं।
पूर्णिमा तिथि : रत्न दान से धन की प्राप्ति होती है।
अमावस्या तिथि : आटा दान से हर तरह की परेशानियों से मुक्ति मिलेगी।

श्रीगणेशजी के आशीर्वाद के साथ
गणेशास्पीक्स डॉट कॉम/ हिंदी

ये भी पढ़ें–
– मंगल ने बदली है चाल, जानिए आपकी राशि का हाल

– मूलांक के अनुसार जानिए 2019 के लिए अपना भविष्य-

– जानिए आपकी कुंडली में कौन से हैं दोष

22 Dec 2018

View All blogs

Follow Us