कौन सी है सबसे अधिक आध्यात्मिक (spiritual Zodiac sign)

spiritual Zodiac sign

कई बार हमारे व्यवहार से अंदाजा हो जाता है कि हम किस के हैं। दरअसल राशिचक्र की सभी 12 राशियां हमारे व्यवहार का निर्धारण करती है। हम कितने आध्यात्मिक (spiritual) हैं और कितने व्यावहारिक (practical) इसका अंदाजा भी हमारी राशि के जरिए आसानी से लगाया जा सकता है। आज हम बात करेंगे राशिचक्र की ऐसी 12 राशियों के बारे में जो आध्यात्मिक है। इसे आध्यात्मिक के क्रम से होते हुए इसे व्यावहारिकता के रूप में देखें।

मीन

राशिचक्र की सबसे आध्यात्मिक है। ब्रह्मांड की ऊर्जा आप में से होकर गुजरती है। आप बाहरी दुनिया की जगह इंटरनल पावर को विकसित करने के लिए हमेशा प्रयासरत रहते हैं। आप ईश्वर के बनाए नियमों में यकीन रखते हैं और कोशिश करते हैं कि कभी आप किसी का दिल नहीं तोड़ें।

धनु

के लोग भी मीन की तरह स्पिरिचुअल पावर में यकीन रखते हैं। आप हर चीज का गहराई से अध्ययन करना चाहते हैं। जब भी कोई आध्यात्मिक बात करता है, आप उसमें पार्टिसिपेट करना बेहद पसंद करते हैं। यदि आप किसी के साथ घूमने जाने का प्लान भी करें, तो आप किसी स्पिरिचुअल प्लेस या नेचर के करीब जाना ज्यादा पसंद करते हैं। सतही चीजों से आप बेहद दूर रहते हैं।

वृश्चिक

राशिचक्र की सबसे रहस्यमयी राशियों में वृश्चिक का नाम सबसे ऊपर आता है। धनु और मीन की तरह ये भी ब्रह्मांड के एक सुपर पावर में यकीन रखते हैं। कभी-कभी अचानक वृश्चिक के लोग खामोश हो जाते हैं और सिर्फ अपने दिल के करीब होते हैं। वे जानते हैं कि दुनिया को वे जितना देख पाते हैं, वह उससे अधिक गहरी है। वे कभी तो व्यावहारिक हो जाते हैं, लेकिन ज्यादातर समय वे खुद की खोज में लगे रहते हैं।

कर्क

कर्क के लोग भगवान में यकीन रखते हैं, लेकिन वे जानते हैं कि भगवान एक शक्ति है और वह शक्ति हमारा साथ तभी देगी, जब हम मेहनत करेंगे। मतलब वे आध्यात्मिक होने के साथ व्यावहारिक भी है। हालांकि कर्क राशि के लोग कुछ इमोशनल होते हैं, जब वे इमोशनल होते हैं, तब वे दुनिया से अलग केवल खुद या ईश्वर की खोज में रहते हैं। जब वे प्रैक्टिकल होते हैं, तब वे समझते हैं कि लक्ष्य को पाने के लिए खुद को मेहनत करना होती है।

कुंभ

के लोग भी आध्यात्मिक होने के साथ व्यावहारिक होते हैं। वे हमेशा भगवान के सामने शिकायतों का पुलिंदा लेकर नहीं बैठते हैं। वे जानते हैं कि भगवान के पास इतना समय नहीं है कि वे उनकी हर छोटी चीज के लिए उन्हें सॉल्यूशन देता है। वे हमेशा अपनी प्रॉब्लम का हल भी खुद ही ढूंढते हैं। हालांकि उन्हें विश्वास होता है कि जब वे खुद के लिए कुछ कर रहे होते हैं, तो भगवान उसमें मदद जरूर करते हैं।

सिंह

सिंह के लोग ज्यादा प्रैक्टिकल और थोड़े आध्यात्मिक होते हैं। वे भगवान को तभी याद करते हैं, जब वे किसी मुसीबत में होते हैं। हालांकि दो-तीन हजार साल पुरानी हमारी परंपराओं में कम ही यकीन रखते हैं। ना ही वे किसी आध्यात्मिक बातचीत में ज्यादा देर स्थिरता बनाए रखते हैं। स्पिरिचुअल पावर उनके लिए खुद को बोल्ड बनाने जैसा है।

कन्या

आप कन्या राशि के हैं, तो कह सकते हैं कि आप थोड़े संत हैं और थोड़े पापी। आपके लिए आध्यात्मिक होना उतना जरूरी नहीं है। यदि आप किसी पूजा या ध्यान में बैठने वाले हों और तभी आपके किसी फेवरेट शो का टाइम भी हो, तो आपके लिए शो देखना ज्यादा महत्वपूर्ण होगा। धार्मिक स्थान पर घूमने की जगह आप किसी नदी किनारे टहलना ज्यादा पसंद करेंगे।

तुला

तुला राशि के लोगों का ईश्वर से संबंध व्यक्तिगत है। आप कभी इसे शो ऑफ नहीं करना चाहते हैं। आध्यात्मिक किताबें पढ़ना या किसी मंदिर जाना या किसी तरह का ध्यान करना आपको उतना पसंद नहीं आता, जितना आपको अपने दोस्तों के साथ बाहर जाकर घूमना अच्छा लगता है। आप ईश्वर की सत्ता में यकीन करते हैं और यकीन इसमें भी है कि आप खुद को खुश रखेंगे, तो ईश्वर खुश रहेगा।

वृषभ

वृषभ होने के नाते आप किसी स्पिरिचुअल वर्ल्ड में रहने की जगह रियल वर्ल्ड में रहना चाहते हैं। मेडिटेशन की जगह म्यूजिक मस्ती पर ध्यान देना चाहते हैं। आप किसी आध्यात्मिक किताबें पढ़ने की जगह देर तक टीवी देखना पसंद कर सकते हैं। भगवान की शक्ति में आपको विश्वास है, लेकिन उसके लिए आप अपनी रियलिटी से दूर नहीं होना चाहते हैं।

मेष

मेष राशि के लोग ईश्वर की शक्ति को मानते हैं, लेकिन कोई आध्यात्म उन पर थोपें यह आप बिल्कुल बर्दाश्त नहीं कर पाते हैं। कोई आपको मंदिर जाने के लिए कहता है, तो आप उसे कण-कण में भगवान होने की युक्ति सुना देते हैं। कोई आपको आध्यात्म से जुड़ने की सलाह देता है, तब आप सामने वाले की ही कमियां बताने लग जाते हैं। आपके लिए स्पिरिचुअल बस सब्जेक्ट है। आप प्रैक्टिकल वर्ल्ड में रहना ज्यादा पसंद करते हैं।

मकर

के लोग बहुत ज्यादा प्रैक्टिकल होते हैं। उनके लिए आध्यात्म होता है, लेकिन वे उसमें स्टक नहीं रहते हैं। आप परिवर्तन को ईश्वर की देन नहीं कहते हैं, बल्कि खुद के किए कर्मों का नतीजा कहते हैं। ध्यान में बैठना या ईश्वर से कुछ मांगना आपको अच्छा नहीं लगता है।

मिथुन

मिथुन राशि के लोग बहुत प्रैक्टिकल होते हैं। वे हर चीज का अनालिसिस करते हैं। वे यदि आध्यात्मिकता के लिए भी समय दे रहे हैं, तो टाइम काउंट करके चलते हैं। सबसे बड़ी बात है कि आप आंखों देखी बात पर विश्वास करते हैं। यदि आपके सामने कोई चमत्कार हुआ है, तब आप जरूर उसे मानते हैं। अन्यथा मैथोलॉजी या शास्त्र की बातें आपके लिए केवल एक कहानी की तरह होती है।

श्री गणेशजी की कृपा के साथ

गणेशास्पीक्स डॉट कॉम/हिंदी

 

Follow Us