https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

जानें! आने वाले 30 महीनों में शनिदेव आपके जीवन को कैसे देंगे आकार….

अगले 30 महीनों में आपके जीवन को आकार देने में शनि की भूमिका

शनि (shani) एक कठोर न्यायाधीश है, जो लोगों को उनके कर्मों से ही मापता है और जीवन में आसान स्थिति को नहीं दर्शाता। शनि चाहता है कि हम काम करें और मेहनत करें। शनि अनुशासन और जिम्मेदारी को बहुत पसंद करता है और उसे पुरस्कृत भी करता है। प्रतिबंध इस ग्रह का कार्यक्षेत्र है, जैसा कि किसी भी प्रकार का अनुशासन या विलंब होता है। जैसे शनि (shani) एक बहुत ही विचित्र ग्रह है, वैसे ही 12 राशियों पर इसका प्रभाव पड़ता है। जब शनि लग्न में हो, तो जानिए 12 राशियों पर शनि का प्रभाव:

मेष लग्न – प्रथम भाव में शनि (shani)

शनि दसवें और ग्यारहवें भाव का स्वामी है। यह नवम भाव में गोचर करेगा। 11वें, तीसरे और छठे भाव पर शनि (shani) की दृष्टि होगी। नतीजतन, पिछले कर्म परिणाम देंगे। आपको आपकी प्रतिभा और कौशल के लिए पुरस्कृम किया जाएगा। आप लंबी दूरी की यात्रा या तीर्थ यात्रा पर जा सकते हैं। आप आहार नियंत्रण का अभ्यास भी करेंगे और रोगों व शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे। अधीनस्थों का अच्छा सहयोग मिलेगा। पुरस्कृत पुस्तक लिखने का भी यह एक अच्छा समय है।

वृषभ लग्न- पहले भाव में शनि (shani)

शनि नौवें और दसवें भाव का स्वामी है। यह ग्रह आठवें भाव में गोचर करेगा। शनि (shani) दूसरे, पांचवें और दसवें भाव पर दृष्टि डालेगा। नतीजतन, आपको अपने करियर में अधिक ध्यान देने की आवश्यकता होगी। आप अपने बच्चों के लिए काम करेंगे। आप लंबी दूरी की यात्रा कर सकते हैं। अपने किसी बड़े भाई से कुछ लाभ मिलेगा। इसके साथ ही आप अपनी समस्याओं को हल करने के लिए अपने भीतर झांक सकते हैं। अगर पहले रिश्ते में आप खुश नहीं हैं, तो दूसरे रिश्ते के लिए जाने का यह सही समय है।

मिथुन लग्न- पहले भाव में शनि (shani)

शनि आठवें और नौवें भाव का स्वामी है। यह ग्रह सप्तम भाव में गोचर कर रहा है। साथ ही शनि (shani) नौवें, पहले और चौथे भाव पर भी दृष्टि रखेगा। यह आपको अपने व्यक्तित्व और अनुशासन को विकसित करने के लिए कुछ अच्छा समय है। अचल संपत्ति खरीदने के लिए यह सही वक्त है। कोई नया व्यवसाय भी आप शुरू कर सकते हैं। आपको संतान की प्राप्ति हो सकती है। आप गूढ़ विज्ञान का भी अध्ययन कर सकते हैं। हम जीवन में सफल होने के लिए तरह-तरह के तरीके आजमाते हैं।

कर्क लग्न- पहले भाव में शनि (shani)

शनि सातवें और आठवें भाव का स्वामी है। ग्रह छठे भाव में गोचर करेगा। इसके अलावा शनि (shani) तीसरे, आठवें और बारहवें भाव पर भी दृष्टि रखेगा। इस प्रकार आप अधिक जिज्ञासु और यथार्थवादी हो सकते हैं। साथ ही, आपकी सेहत में सुधार होगा और खेलकूद में आपकी रुचि हो सकती है। आप विदेश यात्रा भी कर सकते हैं और वहां नौकरी भी पा सकते हैं। आपकी रचनात्मकता बढ़ेगी और आप किसी सामाजिक कारण पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। इसके अलावा, आप अपने पुराने ऋणों का भुगतान भी करेंगे। सितारे आपके पेशे के संबंध में अच्छे समय की भविष्यवाणी करते हैं।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए! ज्योतिषी से अभी बात करें। (पहला कॉल बिल्कुल Free)

सिंह लग्न- प्रथम भाव में शनि (shani)

शनि छठे और सातवें भाव का स्वामी है। ग्रह पंचम भाव में गोचर करेगा। शनि (shani) दूसरे, सातवें और ग्यारहवें भाव पर दृष्टि डालेगा। ऐसे में आपकी शादी हो सकती है और आय में भी वृद्धि संभव है। आप और दोस्त बनाएंगे। आप कोर्ट केस भी जीत सकते हैं और संपत्ति हासिल कर सकते हैं। आपके पारिवारिक व्यवसाय में शामिल होने की संभावना है। आपके ऋण स्वीकृत होंगे। आपको संतान की प्राप्ति हो सकती है। ग्रहों के अनुसार जल्द ही आपकी शादी हो सकती है।

कन्या लग्न – पहले भाव में शनि (shani)

शनि पंचम और छठे भाव का स्वामी है। शनि चतुर्थ भाव में गोचर करेगा। शनि छठे, दसवें भाव और लग्न पर दृष्टि डालेगा। इस ग्रहीय संयोग के फलस्वरूप आपको अपनी माता से लाभ मिल सकता है। आप अपने व्यक्तित्व को संवारना चाहेंगे। साथ ही आप काम पर ज्यादा ध्यान दे सकते हैं और वर्क फ्रॉम होम भी कर सकते हैं। आपको बहुप्रतीक्षित पदोन्नति भी मिल सकती है। संभावना है कि आप एक पुरस्कार जीत सकते हैं और यात्रा व्यवसाय या एयरलाइंस में शामिल हो सकते हैं। साथ ही शादी करने का भी यह सही समय है। हमारा सुझाव है कि आप अपनी शादी से पहले कुंडली मिलान रिपोर्ट का लाभ उठाएं।

तुला लग्न- पहले भाव में शनि (shani)

शनि चतुर्थ और पंचम भाव का स्वामी है। यह तीसरे भाव में गोचर करेगा। शनि (shani) 5वें 9वें और 12वें भाव पर दृष्टि करेगा। इस ग्रहीय संयोग के फलस्वरूप आपको विदेश यात्रा का अवसर मिल सकता है। वैसे आप किसी तीर्थ यात्रा पर भी जा सकते हैं। आप अपने माता-पिता का आशीर्वाद और मार्गदर्शन प्राप्त करेंगे। अपने शौक पूरे करने का यह अच्छा समय है। आप अधिक अचल संपत्ति का अधिग्रहण कर सकते हैं। आप लंबी दूरी की यात्रा भी कर सकते हैं। आप अपना पेशा भी बदल सकते हैं।

वृश्चिक लग्न- प्रथम भाव में शनि (shani)

शनि तीसरे और चौथे भाव का स्वामी है। ग्रह दूसरे भाव में गोचर करेगा। शनि (shani) चौथे, आठवें और ग्यारहवें भाव पर दृष्टि डालेगा। इससे आपको अपनी आमदनी में वृद्धि करने में मदद मिलेगी। आप कोई नया व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं। इस बात की संभावना है कि आप विदेश भी जा सकते हैं। इसी के साथ आप आध्यात्मिक विषयों और गूढ़ विज्ञानों में रुचि विकसित कर सकते हैं।

हमारे पास आपको करियर में सफल बनाने के उपाय उपलब्ध हैं। जानने के लिए यहां क्लिक करें…

धनु लग्न- पहले भाव में शनि (shani)

शनि दूसरे और तीसरे भाव का स्वामी है। ग्रह लग्न में गोचर करेगा। शनि (shani) तीसरे, सातवें और दसवें भाव पर दृष्टि डालेगा। इस प्रकार आपका व्यक्तित्व और अधिक ऊर्जावान हो जाएगा। आप योग भी कर सकते हैं या जिम जा सकते हैं। आप व्यापार में लाभ के लिए आएंगे और अधिक संपत्ति अर्जित करेंगे। यह अच्छा मौका है कि आप खुद को काम में डूबो सकते हो। साथ ही आप मार्केटिंग में भी अपना हाथ आजमा सकते हैं, जिसके लिए आप लोगों तक अपनी पहुंच बढ़ा सकते हैं। आप खूब वाहवाही बटोरेंगे। भाई-बहनों से मुलाकात हो सकती है।

मकर लग्न- प्रथम भाव में शनि (shani)

शनि लग्न और द्वितीय भाव का स्वामी है। शनि बारहवें भाव में गोचर करेगा। इसके अलावा शनि (shani) दूसरे, छठे और नौवें भाव पर भी दृष्टि रखेगा। ऐसे में आप वित्तीय निवेश कर सकते हैं या विदेश में बस सकते हैं। आप कुछ अदालती मामलों में मात खा सकते सकते हैं। साथ ही, टीम में काम करने के लिए यह एक बेहतरीन समय है। आपको कर्ज या खर्च में वृद्धि देखने को मिल सकती है। करियर के मामलों में यह आपके लिए मिला-जुला है। लेकिन आप इसे बेहतर बना सकते हैं।

कुंभ लग्न- पहले भाव में शनि (shani)

शनि बारहवें भाव और लग्न का स्वामी है। शनि (shani) 11वें भाव में गोचर करेगा और लग्न, 5वें और 8वें भाव पर दृष्टि रखेगा। इस प्रकार, आपको विदेशी भूमि से लाभ हो सकता है। आपको विदेश में नौकरी भी मिल सकती है। आपको अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों का सहयोग मिलेगा। पैतृक संपत्ति पर आपका नियंत्रण हो सकता है। आप अधिक रचनात्मक भी हो सकते हैं। यदि आपके जीवन में पेशे से संबंधित कोई प्रश्न है, तो आप उसका समाधान कर सकते हैं।

मीन लग्न- प्रथम भाव में शनि (shani)

शनि 11वें और 12वें भाव का स्वामी है। यह दसवें भाव में गोचर करेगा। शनि (shani) बारहवें, चौथे और सातवें भाव पर दृष्टि करेगा। नतीजतन, आपको निवास में बदलाव करना पड़ सकता है। आपकी शादी करीब है। इसके अलावा, आप एक नया व्यवसाय खोल सकते हैं और किसी प्रोजेक्ट के लिए विदेश जा सकते हैं। व्यापार में अचानक लाभ होने की संभावना है। आप अपनी एकाग्रता की क्षमता में वृद्धि भी महसूस कर सकते हैं। आपकी शादी की संभावना है, इसलिए आपको पता होना चाहिए कि सितारे आपकी शादी के बारे में क्या कहते हैं। उसके लिए आप कुंडली मिलान रिपोर्ट का लाभ अवश्य उठाईये।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us