सरस्वती योग – ज्ञान और बुद्धि का योग

सरस्वती योग – ज्ञान और बुद्धि का योग

ग्रह और उनकी स्थिति हमेशा से ही कई लोगों की जिज्ञासाओं का केंद्र रही है। और ज्योतिषियों द्वारा उनके अध्ययन से पता चला है कि जब कोई ग्रह वैदिक ज्योतिष चार्ट में एक स्थिति प्राप्त करता है, तो वह योग बनाता है। वैदिक ज्योतिष में सैकड़ों योग हैं। कुंडली में इन योगों की उपस्थिति या अनुपस्थिति का जातक पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है। ऐसा ही एक महत्वपूर्ण योग है सरस्वती योग।


सरस्वती योग – संक्षिप्त में

देवी सरस्वती ज्ञान और बुद्धि की दाता हैं। यदि किसी जातक को सरस्वती योग के लिए अनुकूल ग्रहों की स्थिति प्राप्त है, तो उसके पास बहुत ज्ञानी और धनवान बनने के अच्छे अवसर होंगे।

सरस्वती योग वाला व्यक्ति नाटक, गद्य और पद्य की रचना में निपुण होता है। वह एक उत्कृष्ट गणितज्ञ भी हो सकता है। सरस्वती योग वाले जातक के पास वह सब कुछ होगा जिसके लिए देवी सरस्वती जानी जाती हैं।

(आपकी कुंडली में कैसा है ग्रहों का खेल, जानिए कैसा रहेगा आपका आने वाला समय, ज्योतिषियों से बात करें अभी)


सरस्वती योग के लिए अनुकूल ग्रह स्थिति

जब बुध, गुरु और शुक्र लग्न से केंद्र, दूसरे या त्रिकोण भाव में होते हैं, तो यह जातक की कुंडली में सरस्वती योग बनाता है। कुंडली में बृहस्पति का बल भी सरस्वती योग का एक महत्वपूर्ण कारक है। इसलिए, तीन शुभ ग्रहों – बुध, बृहस्पति और शुक्र को या तो लग्न में या दूसरे, चौथे, पांचवें, सातवें, नौवें या दसवें भाव में रखा जाना चाहिए। बृहस्पति अपने भाव में या उच्च भाव में मजबूत होना चाहिए।

केंद्र पहला, चौथा, सातवां और दसवां घर है। इन केंद्रों को विष्णु स्थान भी कहा जाता है। त्रिकोण पंचम भाव है जबकि नवम भाव लक्ष्मी स्थान है। जब सभी प्राकृतिक शुभ ग्रह या तो केंद्र या त्रिकोण भाव में होते हैं, तो यह स्वतः ही कुंडली की ताकत को काफी हद तक बढ़ा देता है। इसके अलावा, यदि आप ध्यान से देखें, चौथा घर शिक्षा का घर है, पांचवा बुद्धि का घर है, सातवां शिक्षा और करियर का भी द्वितीयक घर है, नौवां ज्ञान और उच्च शिक्षा का घर है, दसवां घर करियर का है। इसलिए शिक्षा, सीखने और करियर पर जोर दिया जाता है। जब राशि चक्र के सबसे अधिक लाभकारी ग्रह इन घरों को प्रबल रूप से प्रभावित करेंगे, तो व्यक्ति को देवी सरस्वती और लक्ष्मी दोनों की कृपा प्राप्त होगी।


सरस्वती योग के लाभ

योग का प्रभाव कई कारकों पर निर्भर करता है। कई बार इसका प्रभाव शुभ होता है तो कई बार अशुभ भी क्योंकि सभी ग्रहों के दो-दो भाव होते हैं। सरस्वती योग का जातक पर कई सकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं। सरस्वती योग के लाभ हैं:

  • जातक के पास सर्वोच्च ज्ञान और ज्ञान होता है।
  • वह बुद्धिमान है और अन्य पहलुओं में भी काफी भाग्यशाली है।
  • कुंडली में सरस्वती योग वाले व्यक्ति को नाम और प्रसिद्धि प्राप्त होने की संभावना होती है।
  • यदि रुचि है, तो वे रचनात्मक कलाकार और संगीतकार हो सकते हैं।
  • इनमें गद्य, पद्य और नाटक की रचना का कौशल अवश्य होगा।
  • जातक को गणित का अपार ज्ञान होगा।
  • व्यक्ति सुंदर लिखावट और मधुर आवाज वाला होगा।
  • सरस्वती योग वाला जातक निश्चित रूप से समृद्ध और समृद्ध होगा और वैवाहिक आनंद का भी आनंद उठाएगा।

सरस्वती योग के अलावा, वैदिक ज्योतिष में ब्रह्म योग, शंग योग, कलानिधि योग और बुध अधित्य योग जैसे योग भी हैं जो जातक की शिक्षा, ज्ञान और ज्ञान को प्रभावित करने के लिए जाने जाते हैं।

आगामी वर्ष कितना फलदायी होगा, यह जानने के लिए अपनी 2023 वार्षिक रिपोर्ट प्राप्त करें।


वैदिक ज्योतिष में सर्वश्रेष्ठ योग

जैसा कि ऊपर बताया गया है, वैदिक ज्योतिष में सैकड़ों योग हैं। कुछ श्रेष्ठ योग इस प्रकार हैं:

  • विश्वकुंभ योग: जातक बहुत ही सुंदर, बुद्धिमान और आर्थिक रूप से सुरक्षित होगा।
  • प्रीति योग: जातक जीवंत, जिज्ञासु और उत्साही होंगे।
  • आयुष्मान योग: जातक दीर्घायु होगा।
  • सौभाग्य योग: जातक को सौभाग्य की प्राप्ति होगी।
  • शोभन योग: जातक विवेकी लेकिन आक्रामक होगा।
  • सुकर्म योग: जातक सादा जीवन व्यतीत करते हैं लेकिन उनका भाग्य शानदार होता है।
  • धृति योग: जातक बहुत धैर्यवान और स्वस्थ होते हैं।
  • शूल योग: जातकों का झुकाव धार्मिक कार्यों की ओर होता है।
  • हर्षण योग: जातक मेधावी और विभिन्न विषयों में विद्वान होते हैं। ये शास्त्रों के ज्ञाता होते हैं।
  • वज्र योग: जातक में बहुत सहनशक्ति और शक्ति होती है।
  • शिव योग: जातक बहुत बुद्धिमान होता है और लोगों के कल्याण के लिए काम करता है।
  • साध्य योग: जातक दृढ़ निश्चयी और आत्मविश्वासी होता है।
  • शुभ योग: जातक सुंदर, बुद्धिमान और प्रतिभाशाली होता है। उसके पास प्रचुर धन होगा और जीवन भर उसे कभी भी किसी वित्तीय समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।
  • वैधृति योग: जातक हंसमुख और आशावादी होता है।

वैदिक ज्योतिष में ऐसे और भी कई योग हैं जिनका जातक पर सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।


माँ सरस्वती की कृपा हम सब पर बनी रहे !

वैदिक ज्योतिष का मानना ​​है कि योग के ज्ञान से व्यक्ति के जीवन, शिक्षा और चरित्र का अनुमान लगाया जा सकता है। ये योग ज्योतिष के एक उपकरण हैं। इसी तरह, कुंडली में सरस्वती योग की उपस्थिति या अनुपस्थिति जातक के ज्ञान और ज्ञान की गहराई में अंतर्दृष्टि प्रदान करेगी। चाहे यह योग आपकी कुंडली में मौजूद हो या अनुपस्थित, आपको हमेशा देवी सरस्वती से प्रार्थना करनी चाहिए कि वह आपको एक बेहतर शिक्षा के लिए आशीर्वाद दें जो आपको बेहतर जीवन बनाने में मदद करेगी।

(आपकी कुंडली में कैसा है ग्रहों का खेल, जानिए कैसा रहेगा आपका आने वाला समय, ज्योतिषियों से बात करें अभी)

गणेश की कृपा से,
गणेशास्पीक्स