https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

Mercury transit in Scorpio: आपकी राशि पर क्या प्रभाव डालेगा?

Mercury transit in Scorpio: आपके जीवन को कितनी प्रभावित करेगी यह युति

भारतीय वैदिक ज्योतिष के अनुसार, बुध ग्रह (Mercury transit in Scorpio) को बृहस्पति और चंद्रमा की संतान माना गया है। ज्योतिष में बुध मीडिया और संचार का ग्रह है और बुद्धि, विश्लेषणात्मक तथा बौद्धिक कौशल का कारक है। जिन व्यक्तियों का बुध अनुकूल होता है, अथवा उनकी जन्मपत्री में शुभ घरों में होता है, वे बड़े से बड़े कठिन काम को सहजता के साथ कर सकते हैं। जन्मकुंडली में अनुकूल बुध अपने जातकों को बुद्धि और अच्छी तर्क शक्ति का आशीर्वाद देता है। ऐसे जातक प्रत्येक प्रश्न और समस्या का समाधान खोज सकते हैं। यदि आपकी कुंडली में ग्रह उच्च राशि में स्थित है तो आपके जीवन में आगे चलकर एक सफल सांख्यिकीविद्, गणितज्ञ, वित्तीय विशेषज्ञ और व्यवसायी बनने की अच्छी संभावनाएं हैं।

ज्योतिष में बुध को राजकुमार के समकक्ष दर्जा दिया गया है। सूर्य, शुक्र और राहु बुध के मित्र ग्रह हैं। मिथुन और कन्या राशि का स्वामी बुध कन्या राशि में उच्च का है। जब बुध कन्या राशि में स्थित होता है तो यह स्थिति शुभ मानी जाती है और यह उत्कृष्ट परिणाम देती है। मीन राशि में होने पर ग्रह की शक्ति कम हो जाती है। आपकी कुण्डली में कमजोर या प्रतिकूल बुध को आप ज्योतिषियों के परामर्श के बाद पन्ना धारण कर अनुकूल बना सकते हैं और उसका लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Mercury transit in Scorpio: गोचर का समय क्या है?

बुध ग्रह 23 अक्टूबर 2019 को तुला राशि से गोचर कर वृश्चिक राशि में प्रवेश कर रहा है। वृश्चिक राशि का स्वामी मंगल ग्रह है। बुध के 25 दिसंबर 2019 तक लगभग दो महीने इस राशि में रहने की संभावना है। यह ग्रह 31 अक्टूबर 2019 से 7 नवंबर 2019 तक वक्री गति शुरू करेगा। यह 7 नवंबर को वृश्चिक से तुला राशि में वक्री गोचर करेगा। , 2019 से 11 नवंबर 2019 तक, ग्रह 21 नवंबर, 2019 को 5 दिसंबर, 2019 तक वृश्चिक राशि में फिर से सीधी गति में प्रवेश करेगा। इस गोचर का सभी राशियों पर बहुत प्रभाव पड़ेगा।

गोचर का समय: 23 अक्टूबर, 2019 से 25 दिसंबर, 2019 तक।
समय: 23 अक्टूबर को 23:12 से 25 दिसंबर को 15:45 बजे तक।
वक्री गति: 31 अक्टूबर को 21:10 से 7 नवंबर को 15:56 तक।
तुला राशि में वक्री गोचर: 7 नवंबर को 15:56 से 21 नवंबर को 00:41 तक।
वृश्चिक राशि के लिए सीधी गति: 5 दिसंबर को 10:35 से 25 दिसंबर को 15:45 बजे तक।

Mercury transit in Scorpio: गोचर का राशियों पर प्रभाव

बुध के वृश्चिक राशि में गोचर का प्रभाव सभी राशियों पर पड़ेगा। वृश्चिक राशि में बुध ग्रह का प्रवेश आपके व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में कई बदलाव लाएगा। आइए जानते हैं कि यह किस प्रकार आपकी राशि पर सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव देगा।

जीवन में आने वाली नकारात्मक गतिविधियों से छुटकारा पाने के लिए हमारे ज्योतिष विशेषज्ञों से बात करें…

मेष राशि पर प्रभाव

  • मेष राशि में बुध आठवें भाव में गोचर कर रहा है। ग्रह संचार का कारक है।
  • दूसरों के साथ संवाद करते समय आपको सावधानी बरतनी चाहिए। आपको अपने शब्दों का बुद्धिमानी से उपयोग करना चाहिए और तर्क-वितर्क से बचना चाहिए।
  • अपनों के साथ संवाद करते समय आपको अत्यधिक सावधानी बरतनी चाहिए। शब्दों के गलत चुनाव के कारण आपका अपने परिवार के सदस्यों के साथ मनमुटाव होने की संभावना है। इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि इसका ध्यान रखें और शब्दों का इस्तेमाल समझदारी से करें।
  • कर्मचारियों को अपने कार्य का प्रभावी प्रस्तुतीकरण बनाने में कठिनाई हो सकती है। आपकी प्रजेंटेशन से दर्शकों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।
  • आपको अपने असाइनमेंट और कार्य को समय पर प्रभावी ढंग से पूरा करने के लिए दूसरों की मदद लेनी होगी।
  • आपमें आध्यात्मिक चीजों और आध्यात्म के प्रति झुकाव विकसित हो सकता है। इस दौरान आप किसी पवित्र स्थान की यात्रा कर सकते हैं।
  • रिश्तेदारों के लिए चीजें खरीदने के लिए आपको पैसे खर्च करने पड़ सकते हैं। यदि आप ऐसा करने से परहेज करते हैं तो आपके भाई-बहन परेशान हो सकते हैं। यह अंतत: आपके रिश्ते को प्रभावित करेगा जिससे उसमें तनाव पैदा होगा।

Mercury transit in Scorpio: वृषभ राशि पर प्रभाव

  • वृषभ राशि में बुध सप्तम भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर बुध ग्रह आदर्शवाद का कारक है।
  • शादीशुदा जोड़े अपने जीवनसाथी के साथ क्वालिटी टाइम बिताएंगे। वे एक-दूसरे के साथ कीमती समय का आनंद लेने के लिए डिनर आउट या लॉन्ग ड्राइव पर जा सकते हैं। आप अपने जीवन साथी के साथ किसी रोमांटिक डेस्टिनेशन की यात्रा पर भी जा सकते हैं।
  • दंपति अपनी छिपी भावनाओं को साझा करने में समय व्यतीत करेंगे। इस गोचर के दौरान अतीत की गलतफहमी और विवाद सुलझेंगे। आप दोनों अपनी भावनाओं को साझा करने में काफी खुले रहेंगे और इस अवधि के दौरान आपके द्वारा की गई सार्थक और खुली बातचीत के कारण आपके और आपके साथी के बीच एक मजबूत समझ का निर्माण होगा।
  • इस अवधि में आर्थिक लाभ होने की संभावना है। आपका परिवार इस अवधि के दौरान आपका समर्थन करेगा और आपको उनसे कुछ वित्तीय लाभ होगा।
  • जो व्यक्ति अविवाहित हैं उन्हें बुध ग्रह की इस गोचर अवधि के दौरान भावी जीवन साथी मिल सकते हैं। आपको अपने सपनों का साथी मिल सकता है जो आपके लिए प्यार और देखभाल करने वाला होगा।
  • इस गोचर काल में आपके रचनात्मक और कलात्मक कौशल में वृद्धि होगी। आप अपने विचारों में पहले से अधिक रचनात्मक होंगे। आपके प्रोफेशनल कॅरियर और उपलब्धियों के लिए आपके क्रिएटिव आइडिया और रचनात्मक कार्य आपके लिए फायदेमंद होंगे।
  • कर्मचारियों को अपने-अपने क्षेत्र में नए अवसर प्राप्त होंगे। इस प्रकार प्राप्त होने वाले ये अवसर आपको अपने कॅरियर के लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करेंगे और इससे आपके कार्यक्षेत्र में वृद्धि होगी।

मिथुन राशि पर प्रभाव

  • मिथुन राशि के जातकों की कुंडली में बुध छठे भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर यह ग्रह अनुसंधान और ज्ञान का कारक है।
  • आपकी प्रजेंटेशन और कार्य दूसरों के सामने प्रभावी रहेंगे। आपके वरिष्ठ अधिकारी आपकी ईमानदारी और काम में पूर्णता से प्रभावित होंगे। आपकी काम में परफेक्शन लाने की इच्छा और आपके काम की क्वालिटी आपको अपने प्रोफेशनल कॅरियर को आगे बढ़ाने में मदद करेगी।
  • आपके बॉस और वरिष्ठ अधिकारी काम के लिए आपके द्वारा किए जा रहे ईमानदार प्रयासों की सराहना करेंगे। वे आपको पदोन्नति या वेतन में वृद्धि के साथ पुरस्कृत कर सकते हैं। इस गोचर अवधि के दौरान पदोन्नति की भी प्रबल संभावनाएं हैं।
  • आपके रचनात्मक और कलात्मक कौशल में वृद्धि होगी। आप पहले से अधिक नवीन और रचनात्मक विचारों और विचारों के साथ आएंगे। इस गोचर काल में आप ऊर्जा से भरपूर रहेंगे और पूरे जोश के साथ काम करेंगे।
  • छठा घर स्वास्थ्य समस्याओं का कारक है और इसलिए आपको अपने स्वास्थ्य का उचित ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। फिट रहने के लिए खान-पान और व्यायाम पर नजर रखनी चाहिए। आप अपने स्वास्थ्य के कारण व्यथित और चिंतित रहेंगे।

कर्क राशि पर प्रभाव

  • कर्क राशि के जातकों की कुंडली में बुध पंचम भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर बुध ग्रह भक्ति संचार का कारक है।
  • विवाहित जोड़ों और प्रेम संबंधी में बंधे लोगों को अपने पार्टनर के साथ बातचीत करते समय सावधान रहना चाहिए। आपको अपने साथी के साथ अनावश्यक वाद-विवाद से बचना चाहिए। आपको अपने साथी के साथ अधिक स्पष्टता के साथ बात करनी चाहिए और उनके साथ नरमी बरतनी चाहिए। इस अवधि के दौरान गलतफहमी की संभावना है और इसलिए इसका ख्याल रखें।
  • इस गोचर काल में शब्दों का चुनाव बहुत महत्वपूर्ण होगा। आपको कठोरता के साथ बात करने से बचना चाहिए अन्यथा यह आपके साथी के साथ आपके रिश्ते को खराब करेगा।
  • आप अपने बच्चों और उनके भविष्य के बारे में अधिक चिंतित रहेंगे। आप उनकी शैक्षणिक प्रगति को लेकर चिंतित रहेंगे। उनके ज्ञान की वृद्धि के लिए आपको उन पर अधिक पैसा खर्च करना पड़ सकता है।
  • आपको सट्टा और जुए में पैसा लगाने से बचना चाहिए क्योंकि वहां पर आपका पैसा डूब सकता है। यदि आप शेयर बाजार में पैसा लगाने की योजना बना रहे हैं तो आपको बेहतर परिणाम के लिए किसी अच्छे फाइनेंशियल एडवाइजर से सलाह लेनी चाहिए।

सिंह राशि पर प्रभाव

  • सिंह राशि के जातकों की कुंडली में बुध चतुर्थ भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर बुध छोटी यात्राओं का कारक है
  • चतुर्थ भाव में बुध ग्रह का गोचर सुख का संकेत देता है। प्रसन्नता का प्रबल प्रवाह दिखाई देता है।
  • इस दौरान संपत्ति और वाहन खरीदने के योग बन रहे हैं। अगर आपकी खरीदारी की कोई योजना है तो यह गोचर इसमें आपकी मदद करेगा।
  • इस गोचर अवधि के दौरान आपके परिवार के सदस्यों के साथ आपके संबंध मजबूत होंगे। वे उतार-चढ़ाव में आपका साथ देंगे और आपसी सहयोग की उम्मीद है। यह गोचर परिवार में सहयोग और शांति लेकर आएगा। आपको अपनी माता से लाभ मिलने की संभावना है।
  • कर्मचारियों को उनके ईमानदार और कुशल प्रयासों के लिए शीर्ष प्रबंधन में वरिष्ठ अधिकारियों से प्रशंसा और मान्यता मिलेगी। अतिरिक्त भूमिकाओं और जिम्मेदारियों के साथ आपकी नौकरी की भूमिकाएं और जिम्मेदारियां बढ़ेंगी। भूमिका और जिम्मेदारियों में बदलाव से आपको अपने पेशेवर कौशल को बढ़ाने और नई नॉलेज तथा अनुभवों के साथ खुद को अपग्रेड करने में मदद मिलेगी।
  • आप अपने कार्यस्थल पर कार्यों को करने में कड़ी मेहनत और समर्पण के बल पर मनचाही सफलता प्राप्त करेंगे।

कन्या राशि पर प्रभाव

  • कन्या राशि के जातकों की कुंडली में बुध तीसरे भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर यह ग्रह संचार का कारक है।
  • इस गोचर काल में आप साहस से काम लेंगे। काम में आपका साहस और उत्साह आपके आत्मविश्वास को बढ़ाएगा
  • दूसरों के साथ कम्यूनिकेशन करते समय आप प्रबल रहेंगे और दूसरों पर हावी हो जाएंगे। आपको सलाह दी जाती है कि आप अपने शब्दों का चयन सोच-समझकर करें। विशेष रूप से कार्यस्थल में गलत व्याख्या और गलतफहमी की प्रबल संभावना है।
  • आप कई छोटी यात्राएं कर सकते हैं। आप इन यात्राओं पर अधिक खर्च करेंगे और इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि आप अपने खर्च करने के तरीके पर नजर रखें।
  • सेल्स और मार्केटिंग से जुड़े व्यक्तियों को आधिकारिक काम के लिए अक्सर यात्रा करनी पड़ सकती है। बुध की इस गोचर अवधि के दौरान आपका यात्रा कार्यक्रम व्यस्त रहेगा।
  • आपके भाई-बहन अपने कार्यों को पूरा करने में आपसे मदद मांगेंगे। आप बिना किसी हिचकिचाहट के उन्हें अपना सपोर्ट देंगे और आपके समर्थन के कारण वे अपनी तय समय सीमा में कार्य को पूरा करने में सक्षम होंगे।
  • इस गोचर काल में आप साहसी और उत्साही रहेंगे। आप अतिरिक्त प्रयास और ऊर्जा से भरपूर काम करेंगे जिससे आप भी तय समय सीमा में ही अपने लक्ष्यों को आसानी से पूरा कर सकेंगे।

आपके जीवन में आने वाली अच्छी बुरी घटनाओं को लेकर क्या कहती है आपकी कुंडली, जानिए जन्मपत्री एकदम फ्री..

तुला राशि पर प्रभाव

  • तुला राशि के जातकों की कुंडली में बुध दूसरे भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर बुध ग्रह व्यापक कौशल का कारक है
  • बुध ग्रह इस घर में घर, परिवार और वित्त का कारक होता है। पारिवारिक जीवन में सुख-समृद्धि के योग हैं। परिवार में आपसी समझ और सहयोग रहेगा।
  • परिवार के सदस्यों के साथ गलतफहमी और मुद्दों की संभावना कम है। परिवार के सदस्यों के साथ आपका रिश्ता मजबूत होगा।
  • इस गोचर काल में विवाहित जोड़ों को अपने जीवनसाथी का पूरा ख्याल रखना चाहिए। गोचर आपके जीवनसाथी के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।
  • आप अपने दैनिक कार्यों में ईमानदारी से प्रयास करेंगे और उन्हें पूरे समर्पण के साथ पूरा करेंगे। आपकी ईमानदारी और समर्पण की सराहना वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा की जाएगी। ईमानदारी और समर्पण के साथ आपका संचार भी प्रभावी होगा जो आपको अपने संबंधित पेशे में प्रगति करने में मदद करेगा।
  • वित्त संबंधी मामले में सावधानी बरतने की जरूरत है। आपको जल्दबाजी में वित्तीय निर्णय लेने से बचना चाहिए। बड़े वित्तीय निवेश विशेषज्ञों से राय लेकर ही करना चाहिए।

वृश्चिक राशि पर प्रभाव

  • वृश्चिक राशि के जातकों की कुंडली में बुध प्रथम भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर बुध वाणी का कारक है।
  • बुध का गोचर आपके कॅरियर और निजी जीवन में कठिनाई पैदा करेगा। अपने आप को बहुत अधिक तनाव न दें क्योंकि यह अंततः आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करेगा। अपने स्वास्थ्य का उचित ध्यान रखें और शांत रहने की कोशिश करें। स्वास्थ्य की बीमारियां और मुद्दे आपको परेशान करेंगे क्योंकि ऐसा नहीं करने पर आपको स्वास्थ्य संबंधी विभिन्न परेशानियां झेलनी पड़ सकती है।
  • इस दौरान चर्म रोग होने की संभावना रहती है। आपको स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए और एलर्जी वाले भोजन से बचना चाहिए।
  • काम का अधिक बोझ, समय सीमा को पूरा करने में कठिनाई और स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों के कारण आप मानसिक रूप से तनाव में रहेंगे। मानसिक शांति के लिए आपको रोजाना योग और ध्यान करना चाहिए। ध्यान और योग आप में सकारात्मकता सुनिश्चित करेंगे और एक आशावादी दृष्टिकोण रखेंगे।
  • आपकी आर्थिक स्थिति आपके लिए चुनौतीपूर्ण रहेगी। आपको अपनी वित्तीय स्थिति को स्थिर करने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने की आवश्यकता है। आपकी कड़ी मेहनत और ईमानदार प्रयास आपको कुछ हद तक सफलता दिलाने में मदद करेंगे।
  • आपके कार्यस्थल में आपकी ईमानदारी और अतिरिक्त प्रयास आपको शीर्ष प्रबंधन और वरिष्ठ अधिकारियों में वरिष्ठ अधिकारियों से पुरस्कार और मान्यता प्रदान करेंगे।
  • इस दौरान आप अपने विरोधियों से समझदारी से निपटेंगे। आप अपने काम और दृढ़ संकल्प के बल पर उन्हें सहज ही हरा सकते हैं।

धनु राशि पर प्रभाव

  • धनु राशि में बुध बारहवें भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर बुध ग्रह स्मृति और तर्क शक्ति का कारक है।
  • बुध का गोचर आपको अनुकूल परिणाम कम देगा। आपको उम्मीदों के अनुसार परिणाम नहीं मिलेंगे, ऐसे में आप मानसिक रूप से तनावग्रस्त रहेंगे ।
  • इस अवधि में आपके जीवनसाथी को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं और बीमारियां होने की संभावना है। आप अपने साथी के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित रहेंगे। शीघ्र स्वस्थ होने के लिए आपको अपने साथी की दवा पर पैसा खर्च करना होगा।
  • आपको अपनी वित्तीय स्थिति के बारे में सावधान रहने और अपने खर्च करने के पैटर्न पर नजर रखने की जरूरत है। आपको अपने वित्तीय बजट में कटौती करनी होगी और कुछ खर्चों को स्थगित करना होगा जो बहुत महत्वपूर्ण नहीं हैं। यदि आप लगातार खर्च करते रहते हैं और अपने खर्चों में कटौती नहीं करते हैं तो आगे चलकर आपको वित्तीय समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
  • इस गोचर काल में आपको विदेश यात्रा का भी मौका मिल सकता है। आप अपने परिवार के साथ छुट्टी पर जा सकते हैं या यह एक व्यावसायिक यात्रा हो सकती है।
  • कार्यस्थल पर आपके विरोधी बढ़ेंगे परन्तु आप उन्हें बड़ी आसानी से संभाल लेंगे।

मकर राशि पर प्रभाव

  • मकर राशि में बुध एकादश भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर यह ग्रह सटीकता का कारक है।
  • जन्मकुंडली में यह घर लाभ, बड़े भाई-बहनों और मित्र मंडली का कारक है। आपको अपने बड़े भाई-बहनों से लाभ मिलने की संभावना है। इस पारगमन अवधि के दौरान वे आपकी ज़रूरतों को पूरा करने में सहायता करेंगे।
  • निजी जीवन में आपका नेटवर्क बढ़ने वाला है। आप नए दोस्त बनाएंगे और वे आपका समर्थन करेंगे। आप उनके समर्थन के कारण अपने कार्य को तय समय सीमा में कुशलतापूर्वक पूरा करने में सक्षम होंगे।
  • बुध का यह गोचर आपके लिए अच्छे लाभ की उपलब्धता का पूर्वाभास देता है।
  • आप अपने कार्यक्षेत्र में अतिरिक्त प्रयास करेंगे और पूरी ईमानदारी के साथ काम करेंगे। यह आपको पेशेवर जीवन में अपने लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त करने में मदद करेगा।
  • विवाहित जोड़े तथा प्रेम संबंधों में बंधे कपल्स अपने आने वाले जीवन में अच्छे समय की उम्मीद कर सकते हैं। आप अपने साथी के साथ अच्छी समझ विकसित करने में सक्षम होंगे।
  • इस अवधि के दौरान आपकी कम्यूनिकेशन स्किल्स और प्रेजेंटेशन स्किल्स अच्छी होंगी। आप दूसरों के साथ अधिक प्रभावी ढंग से संवाद करेंगे। कार्य क्षेत्र में आपका तर्कसंगत दृष्टिकोण आपको कार्यस्थल पर सफलता प्राप्त करने में मदद करेगा।

कुंभ राशि पर प्रभाव

  • कुंभ राशि के जातकों की कुंडली में बुध दशम भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर बुध विश्लेषणात्मक निर्णय का कारक है।
  • जन्मकुंडली का यह खाना कर्म का कारक है। अपने कार्यस्थल पर आपके द्वारा किए जा रहे ईमानदार प्रयास आपको वांछित परिणाम प्राप्त करने में मदद करेंगे।
  • यदि आप लंबे समय से पदोन्नति और वेतन वृद्धि की प्रतीक्षा कर रहे हैं, तो इस गोचर अवधि के दौरान आपको अच्छी खबर मिल सकती है। आपको अपने वरिष्ठ अधिकारियों से पुरस्कार और मान्यता प्राप्त होगी।
  • आप अपना कार्य करते समय अधिक तार्किक सोच रखेंगे। इस समयावधि में आपकी प्रेजेंटेशन स्किल्स काफी इम्प्रुव हो जाएगी। आपकी तर्कसंगत सोच और प्रभावी प्रस्तुति आपके वरिष्ठ अधिकारियों का ध्यान आकर्षित करने में मदद करेगी।
  • विवाहित जोड़ों के लिए यह समय अनुकूल है। इस अवधि में आप सुखद दाम्पत्य जीवन का आनंद उठाएंगे। यह अवधि आपको अपने जीवनसाथी के साथ अपने बंधन को मजबूत करने में मदद करेगी। आपस में प्रेम और स्नेह भी बढ़ेगा।
  • आपका पार्टनर आपको सरप्राइज देगा और आपको खुश करेगा। वे आपके सपनों को साकार करने में आपकी मदद करेंगे और इसे पूरा करने में आपका समर्थन करेंगे।

मीन राशि पर प्रभाव

  • मीन राशि के जातकों की कुंडली में बुध नवम भाव में गोचर कर रहा है। यहां पर गोचर कर रहा बुध अंतर्ज्ञान का कारक है।
  • जन्मकुंडली का यह खाना भाग्य, गुरु और धर्म का कारक होता है। इस अवधि में आपका भाग्य आपका साथ देगा। आप अपने आप को काफी भाग्यशाली पाएंगे और अपने सपनों को पूरा करने में सक्षम होंगे।
  • छात्रों को इस गोचर अवधि के दौरान अच्छे परिणाम मिलने की संभावना है। आप शिक्षा में अच्छी प्रगति करेंगे और परीक्षा में अच्छे परिणाम प्राप्त करने की संभावना है।
  • आपके शिक्षक आपके ज्ञान को बढ़ाने में आपकी सहायता करेंगे। उनके सहयोग से आप अपनी पढ़ाई में उत्कृष्टता प्राप्त करेंगे।
  • इस दौरान लंबी दूरी की यात्रा के योग बन रहे हैं। आप अपने परिवार के सदस्यों के साथ यात्रा कर सकते हैं या आधिकारिक यात्रा पर जा सकते हैं।
  • वित्तीय मोर्चे पर यह अवधि आपको अनुकूल परिणाम देगी। आपकी आय में वृद्धि हो सकती है और नए स्रोतों से कमाई के योग बन रहे हैं। कुल मिलाकर इस अवधि में आपको आर्थिक लाभ होने वाला है।
  • आप इस अवधि के दौरान धार्मिक यात्राओं पर जाने की योजना बनाएंगे। पवित्र स्थानों की यात्रा के लिए पैसा खर्च करना पड़ सकता है।
  • आप अपनी व्यक्तिगत नैतिकता को अधिक महत्व देंगे। आप अपने सिद्धांतों के अनुसार काम करना चाहेंगे और उन्हें अधिक वेटेज देंगे।
  • यदि आप एक छात्र हैं, तो आप उच्च शिक्षा प्राप्त करने की योजना बनाएंगे और इसमें आपका भाग्य आपका साथ देगा
  • शिक्षा संबंधी उद्देश्यों के लिए आपको यात्रा करनी पड़ सकती है। उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए आप विदेश यात्रा कर सकते हैं या अपने घर से दूर जा सकते हैं।

अपनी समस्याओं का समाधान प्राप्त करने के लिए, अभी एक्सपर्ट ज्योतिषी से बात करें!

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us