सूर्य का राशि परिवर्तन 2020: तुला राशि के सूर्य क्या देंगे आपको फल

सूर्य का राशि परिवर्तन 2020: तुला राशि के सूर्य क्या देंगे आपको फल

हमारे सौरमंडल में सूर्य एक मात्र ऐसा तारा है जो स्वयं के प्रकाश से चमकता है, बाकि सभी ग्रह उसी के प्रकाश से रोशन होते हैं। वर्ष 2020 के अक्टूबर महीने में सूर्य का राशि परिवर्तन होने वाला है और वह कन्या राशि से गोचर करते हुए तुला राशि में प्रवेश करेंगे। 17 अक्टूबर को होने वाला सूर्य का राशि परिर्वतन एक महीने तक रहेगा। इस दौरान सूर्य अपनी नीच राशि तुला में रहेंगे। वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य सरकारी नौकरी और उसमें उच्च पद, राजनीति में प्रमुख पद, सार्वजनिक संस्थान में उच्च पद, शक्ति और वैदिक विद्या के दाता हैं। सूर्य राशि परिर्वतन राशि चक्र की कई राशियों के लिए किस्मत के दरवाजे खोलने वाला है, वहीं कुछ को सूर्य के क्रूर स्वभाव का भी सामना करना पड़ेगा।

मेष राशि पर असर

  • आर्थिक स्थिति के हिसाब से सूर्य का राशि परिर्वतन औसत साबित होगा।
  • नौकरी और पेशेवर लोगों के लिए भी सूर्य का राशि परिवर्तन 2020 औसत ही दिखाई देता है।
  • इस दौरान मेष जातकों को स्थानांतरण या किसी अन्य तरह से स्थान परिवर्तन करना पड़ सकता है।
  • इस दौरान मेष जातकों के लिए यात्रा के भी योग दिखाई देते हैं।
  • स्वाथ्य के लिहाज से आपको संयम बरतने की सलाह दी जाती है।

उपाय सुबह जल्दी उठकर सूर्य देव के दर्शन करें और उन्हें नमस्कार करें। गुड़ का दान करें।

वृषभ राशि पर असर

  • सूर्य का राशि परिवर्तन वृषभ जातकों के लिए उत्तम नजर आता है।
  • इस दौरान वृषभ जातकों को नौकरी में काफी फायदा मिलने की उम्मीद है।
  • हालांकि आपको व्यर्थ के विवादों में पड़ने से बचने की सलाह दी जाती है, अन्यथा आप खुद का नुकसान भी कर सकते हैं।
  • इस दौरान आपको पेशेवर और घरेलू दोनों मोर्चे पर मान-सम्मान में वृद्धि दिखाई देगी।
  • विवाहित लोगों के लिए भी समय अनुकूल है, इस दौरान आपको अपने साथी का भरपूर सहयोग मिलने की संभावना है।
  • इस दौरान आपके कई अन्य रूके हुए कार्यों के भी शुरू होने और उनके सम्पन्न होने की संभावना नजर आती है।

उपाय सुबह जल्दी उठकर सूर्य नारायण के दर्शन करें और ओम घृणि सूर्याय नमः मंत्र की एक माला का जाप करें, किसी जरूरतमंद व्यक्ति को गेहूं का दान करें।

मिथुन पर असर

  • सूर्य का तुला गोचर 2020 मिथुन जातकों के लिए अनुकूल नजर आता है।
  • इस अवधि में आप किसी तरह का वाहन या मकान संपत्ति खरीद सकते हैं या खरीदी का पक्का मन बना सकते हैं।
  • मिथुन जातकों के लिए इस समय रूके हुए कार्य शुरू होने के योग बन रहे हैं।
  • परिवार, कुटुंब या प्रियजनों के यहां किसी तरह के मांगलिक प्रसंग का आयोजन संभव है।
  • सूर्य के तुला में गोचर के दौरान आपके लिए चीजे अधिक सहज और असान होने वाली जिससे खुशी और हर्ष का माहौल बना रहेगा।
  • स्वास्थ्य की बात करें तो इस दौरान स्वास्थ्य के लिहाज से किसी किसी तरह की बड़ी समस्या नहीं दिखाई देती है।

उपाय सुबह जल्दी उठकर सूर्य के दर्शन करें और मिठाई अथवा भी किसी भी तरह की मीठी वस्तु दान करें।

कर्क राशि पर असर

  • सूर्य के इस राशि परिर्वतन के दौरान आपको अपनी वाणी पर संयम रखने की सलाह है।
  • इस दौरान आपको अपने साथी और माता-पिता का भरपूर सहयोग मिलेगा।
  • हालांकि इस दौरान आपको मानसिक चिंता रहेगी
  • नौकरी या पेशेवर लोगों के लिए स्थानांतरण के योग दिखाई देते हैं।

उपाय सुबह सूर्य के दर्शन करके तांबे के लोटे अर्घ्य देने के बाद माता-पिता के चरण स्पर्श करने से आपको लाभ होगा।

सिंह राशि पर असर

  • सूर्य सिंह के स्वामी होकर सिंह जातकों की राशि कुंडली में तीसरे स्थान पर मौजूद रहेंगे। सूर्य का सिंह कुंडली के तीसरे स्थान पर होना सिंह राशि के लिए बेहद अनुकूल प्रतीत होता है।
  • इस दौरान व्यापारी वर्ग को सामान्य से अधिक लाभ मिलने की संभावना है।
  • मित्र और प्रियजनों से पूरा सहयोग मिलेगा।
  • किसी तरह की यात्रा के भी योग बनते दिखते हैं।
  • सूर्य के तुला में रहने के दौरान आपका मन योग और धर्म-कर्म के कामों में लगेगा।

उपाय सूर्य आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें।

कन्या राशि पर असर

सूर्य का तुला में गोचर कन्या राशि के लिए दूसरे भाव में होने होगा। कुंडली का दूसरा भाव धन अथवा कुंटुब स्थान के नाम से जाना जाता है। आइए जानते हैं, सूर्य का तुला में गोचर 2020 कन्या जातकों के लिए कैसा रहने वाला है।

  • सूर्य का तुला में गोचर कन्या जातकों के लिए दोहरी खुशियां लेकर आएगा।
  • इस दौरान आपके मान-सम्मान में बढ़ोतरी होगी।
  • लंबे समय से रुके अधूरे कार्य पूरे होंगे।
  • अपने प्रियजन और स्नेहीजनों से मुलाकत के योग बनेंगे।
  • सूर्य का तुला में गोचर कन्या जातकों के प्रेम संबंधों के लिए भी अनुकूल रहने वाला है।

उपायसुबह सूर्य के दर्शन करकें गायत्री मंत्र की एक माला का जाप करें।

तुला राशि पर असर

सूर्य का तुला में गोचर तुला राशि के लिए कुंडली के पहले भाव में होने वाला है। कुंडली का पहला भाव लग्न अथवा देह स्थान के नाम से जाना जाता है। आइए जानते हैं, सूर्य का तुला में गोचर 2020 तुला राशि जातकों के लिए कैसा रहने वाला है।

  • सूर्य का गोचर तुला राशि में ही हो रहा है इसलिए तुला पर इसके साफ प्रभाव देखें जा सकते हैं। इस दौरान आपको थोड़ा संयम बरतने की सलाह है।
  • आपको अपने स्वास्थ्य के विषय में अधिक सावधान रहने की जरूरत है। खासकर आंखों के मामले में आपको किसी भी तरह की लापरवाही बरतने से बचना चाहिए।
  • इस दौरान अपने शत्रुओं से विशेषतौर पर सावधान रहें और बिना वजह के विवाद में न पड़ें।
  • वैवाहिक जीवन में भी कुछ मुश्किल समय का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान अपने साथी के साथ किसी भी तरह के विवाद में पड़ने से बचें।
  • आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाए रखने के लिए अपने दैनिक खर्चों में कमी करें।
  • मानसिक और शारीरिक शांति के लिए दिन में कुछ समय के लिए ध्यान या योग करें।

उपाय सुबह सूर्य के दर्शन कर गायत्री मंत्री की एक माला जपें व रोज शिवजी का जलाभिषेक करें।

वृश्चिक राशि पर असर

सूर्य का तुला में गोचर वृश्चिक लग्न के लिए कुंडली के बारहवें  भाव में होने वाला है। कुंडली का बारहवां भाव व्यय व मोक्ष स्थान के नाम से जाना जाता है। आइए जानते हैं, सूर्य का तुला में गोचर 2020 वृश्चिक जातकों के लिए कैसा रहने वाला है।

  • वृश्चिक जातकों के लिए यह समय उत्तम रहने वाला है।
  • इस दौरान आपके नए कार्य पूर्ण होंगे और आप आर्थिक तौर पर मजबूत होंगे।
  • नौकरी व पेशेवर लोगों के लिए भी समय अनुकूल रहने वाला है, और उन्हे कुछ अप्रत्याशित लाभ होंगे।
  • स्वास्थ्य में सुधार होने की संभावना है।
  • इस दौरान आपको किसी भी तरह के कानूनी कार्यों में पड़ने से बचने की सलाह है और खासकर किसी की जमानत या स्याही देने से बचें।
  • सूर्य के तुला में रहने के दौरान वृश्चिक जातकों का मन दान, धर्म और जप तप की ओर अधिक रहने वाला है।

उपाय कम से कम 10 नेत्रहीन लोगों को घर का बना हुआ खाना खिलाएं। इस दौरान आपको मां शक्ति अर्थात देवी मां की आराधना करनी चाहिए।

धनु राशि पर असर

सूर्य का तुला में गोचर धनु राशि के लिए कुंडली के ग्यारहवें भाव में होने वाला है। कुंडली का 11वां भाव धन अथवा कुंटुब स्थान के नाम से जाना जाता है। आइए जानते हैं, सूर्य का तुला में गोचर 2020 धनु जातकों के लिए कैसा रहने वाला है।

  • सूर्य का तुला में गोचर धनु जातकों के लिए उत्तम और शुभ रहने वाला है। इस दौरान आपको कुछ शुभ समाचार मिलने की भी संभावना है।
  • इस दौरान नौकरी और व्यवसाय वाले लोगों को अच्छा लाभ मिलने की संभावना है।
  • हालांकि इस दौरान किसी के साथ आपसी मतभेद आपके लिए कई मायनों में नुकसानदायक हो सकता है।
  • स्वास्थ्य के लिहाज से यह दौरान आपके लिए औसत रहने वाला है, और आपको इस दौरान बेहद सावधान रहने का प्रयास करना चाहिए।
  • वैवाहिक व घरेलू मोर्च पर आपको किसी भी कलेश से बचने का प्रयास करना चाहिए।

उपाय सूर्याष्टक का पाठ करें।

पर असर

सूर्य का तुला में गोचर के लिए दसवें भाव में होने वाला है। कुंडली का दसवां भाव कर्म या पितृ स्थान के नाम से जाना जाता है। आइए जानते हैं, सूर्य का तुला में गोचर 2020 मकर जातकों के लिए कैसा रहने वाला है।

  • सूर्य का तुला गोचर 2020 मकर जातकों के लिए मिश्रित परिणाम लेकर आएगा।
  • अर्थिक दृष्टिकोण से इस दौरान आपको अपने खर्चों पर नियंत्रण करने की सलाह अन्या अर्थिक तौर पर मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।
  • कुंडली में सूर्य को दसवें भाव का कारक माना गया है, इसलिए आपके भाग्य में बढ़ोतरी होगी और लंबे समय से रुके हुए कार्य भी पूरे होंगे।
  • इस दौरान आपको अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखना चाहिए अन्यथा किसी बड़े नुकसान की संभावना है।
  • इस दौरान कोर्ट कचहरी और कानूनी मामलों में उलझने से बचें।

उपाय अनार के रस से शिवलिंग पर अभिषेक करें।

कुंभ राशि पर असर

सूर्य का तुला में गोचर कुंभ लग्न के लिए कुंडली के नौवे भाव में होने वाला है। कुंडली का नौवा भाव भाग्य स्थान के नाम से जाना जाता है। आइए जानते हैं, सूर्य का तुला में गोचर 2020 कुंभ जातकों के लिए कैसा रहने वाला है।

  • सूर्य का तुला में गोचर कुंभ राशि जातकों के लिए बेहद शानदार और अनुकूल रहने वाला है। इस दौरान आपकी खुशहाली बढ़ेगी और मान सम्मान में भी वृद्धि होगी।
  • हालांकि आपको इस दौरान किसी भी तरह की दुर्घटना से बचने के पूरे प्रयास करने चाहिए। इस दौरान आपको चोट लगने और नेत्र से संबंधित पीड़ा होने की पूरी संभावना नजर आती है।
  • कार्यस्थल अथवा अन्य किसी भी स्थान पर आपके छिपे हुए शत्रुओं का भी नाश होगा।
  • इस दौरान आपके द्वारा किसी तरह के मंगल कार्य के पूर्ण होने की संभावना है।

उपाय गायत्री चालीसा का पाठ करें और माता-पिता के पैर छू के घर से निकलें।

मीन राशि पर असर

सूर्य का यह गोचर मीन राशि के लिए आठवें भाव में होने वाला है। कुंडली का आठवां भाव आयुष्य या मृत्यु स्थान के नाम से जाना जाता है। आइए जानते हैं, सूर्य का तुला में गोचर 2020 मीन जातकों के लिए कैसा रहने वाला है।

  • इस दौरान मीन को अपने स्वास्थ्य का अधिक ध्यान रखने की सलाह है। इस दौरान रक्तचाप अर्थात ब्लड प्रेशर की समस्या वाले जातकों को अधिक सावधान रहने की जरूरत है।
  • वैवाहिक व घरेलू कलह से बचने का प्रयास करना चाहिए, अन्यथा चीजें खराब हो सकती है।
  • हालांकि इस दौरान आपको आर्थिक तौर पर काफी लाभ मिलने की संभावना है, आपकी चल-अचल संपत्ति में वृद्धि होगी और मान-सम्मान भी बढ़ेगा।

उपाय सूर्य अष्टक के साथ सूर्य के मंत्रों का जाप करें।

श्री गणेशजी के आशीर्वाद के साथ
गणेशास्पीक्स डॉट कॉम/हिंदी

ये भी पढ़ें-
राहु पहुंचे वृषभ राशि में, क्या होगा आप पर असर, 2021 में राहु देंगे आपको क्या फल

गुरु पहुंचेंगे मकर राशि में, मेष से लेकर मीन राशि तक होगा बड़ा असर, पढ़िए यहां

06 Oct 2020

View All blogs

Follow Us