https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

कितना खतरनाक हो सकता है मंगल दोष?

Published on जनवरी 21, 2021

Mangal Dosha: कुंडली में मंगल दोष आपके लिए कितना हानिकारक हो सकता है?

ज्यादातर लोग सोचते हैं कि मांगलिक दोष (Mangal Dosha) खतरनाक है, लेकिन ऐसा नहीं है। कुंडली में बारह भाव होते हैं और यदि मंगल पहले, दूसरे (दक्षिण भारत के कुछ ज्योतिषियों के अनुसार), चौथे, 7वें, 8वें या 12वें भाव में है, तो इसे मंगल दोष कहा जाता है। ऐसे में 12 भावों में से, 6 भाव ऐसे हैं, जहां मंगल की स्थिति मांगलिक कारक का कारण बनती है। ऐसे में मांगलिक और गैर मांगलिक का अनुपात 50:50 है (यदि आप दूसरे भाव को हटा दें तो यह 60:40 हो जाता है)।

दरअसल, मंगल (Mangal Dosha) प्रकृति में निर्भीकता का ग्रह है। यह व्यक्ति को दबंग, आक्रामक और झगड़ालू स्वभाव देता है। जब यह सप्तम भाव में दृष्टि रखता है या प्रस्तुत होता है, तो यह पति-पत्नी के बीच झगड़ा पैदा करता है। यह ओवर सेक्स ड्राइव का भी ग्रह है। ये सभी कारक वैवाहिक जीवन में शांति को कम करते हैं। एक आम धारणा है कि अगर किसी कुंडली में मंगल दोष (Mangal Dosha) है, तो साथी की मृत्यु हो जाएगी – यह बिलकुल अस्वीकार्य है। मंगल के कुछ चुने हुए भाव में रहने से यह अत्यधिक पीड़ित होता है, और सप्तम भाव में दो से अधिक कष्ट होते हैं।

साल 2022 आपके लिए क्या लेकर आया है, जानिए अपनी वार्षिक रिपोर्ट…

  • कुछ ज्योतिषियों का मानना है कि किसी व्यक्ति के 28 साल पूरे होने के बाद मंगल (Mangal Dosha) शक्तिहीन हो जाता है, यही वजह है कि कुछ ज्योतिषी व्यक्ति का विवाह 28वें वर्ष पूरे होने के बाद करने की सलाह देते हैं, लेकिन तार्किक रूप से यह स्वीकार्य नहीं है। मंगल अपनी अवधि में अपना प्रभाव दिखाएगा।
  • मंगल दोष (Mangal Dosha) को कम करने का सबसे अच्छा तरीका दोनों भागीदारों की कुंडली का मिलान करना है। एक ही स्थिति में मंगल दोष (Mangal Dosha) को कम कर सकते हैं, लेकिन इसे पूरी तरह समाप्त नहीं कर सकता।
  • अधिकांश समय यह देखा जाता है कि यदि किसी लड़के की कुंडली में मंगल दोष है और लड़की की भी कुंडली में मंगल दोष है, तो मंगल दोष के रद्द होने का निर्णय उन भावों पर विचार किए बिना किया जाता है, जिनमें मंगल मौजूद है। लेकिन वास्तव में यह देखा गया है कि केवल दोनों राशियों में मंगल दोष (Mangal Dosha) की उपस्थिति दोनों कुंडली में मंगल दोष के प्रभाव को कम नहीं करेगी। मंगल दोनों भागीदारों के एक ही भाव में होना चाहिए। उदाहरणतः यदि किसी लड़के के चौथे भाव में मंगल है, तो लड़की के चौथे भाव में भी मंगल होना चाहिए। मंगल का प्रभाव अलग-अलग भावों में और अलग-अलग राशियों में अलग-अलग होता है।
  • प्रथम भाव में स्थित मंगल व्यक्ति को साहसी, आक्रामक और प्रभावशाली बनाता है। जातक क्रोधी स्वभाव का होगा। तनाव के खराब समय से बाहर निकलने की उनकी प्रवृत्ति भी उनमें होगी। जिन लोगों के पहले भाव में मंगल (Mangal Dosha) होता है। उनमें आमतौर पर जल्दबाजी की प्रवृत्ति भी देखी जाती है।
  • दूसरे भाव में मंगल (Mangal Dosha) तेज जुबान देता है। हो सकता है कि व्यक्ति का अपनी जीभ पर नियंत्रण न हो और अगर वह गुस्से में है, तो स्थिति और खराब हो सकती है। वह बिना सोचे समझे किसी भी हद तक बोल सकता है, जिससे उसे आर्थिक और सामाजिक रूप से नुकसान हो सकता है। मंगल यहां से अष्टम भाव को देखता है, इसलिए यह जीवनसाथी के परिवार और उम्र को भी प्रभावित करता है।
  • चौथा भाव सुख और आराम का घर है। मंगल चतुर्थ भाव के कारकों को कम करने के साथ-साथ वैवाहिक संबंधों में सुख को भी कम करता है, क्योंकि यह सातवें भाव को चतुर्थ भाव से देखता है। यह घरेलू अशांति का कारण बनता है। यह भाइयों-बहनों के बीच ईर्ष्या पैदा कर सकता है, ऐसा पत्नी-पति की वजह से हो सकता है।
  • सप्तम भाव में मंगल की उपस्थिति उसकी दृष्टि से भी खराब है। यह वैवाहिक जीवन में हिंसा देता है। भागीदारों की भावनात्मक और यौन जरूरतों में तालमेल नहीं होगा। कुछ मामलों में यह अंतर्जातीय विवाह का कारण भी बन सकता है।
  • आठवें भाव में मंगल (Mangal Dosha) जीवनसाथी के अल्प जीवन को दर्शाता है। चूंकि यह पति का परिवार है, इसलिए यह जीवनसाथी के परिवार में अशांति दिखा सकता है। इससे लड़की के ससुराल में सुख कम होंगे। पीड़ित मंगल खराब साथी को दर्शाता है। आठवां भाव छिपे हुए मामलों का घर है। अष्टम भाव में मंगल गुप्त मामलों में जीवनसाथी की भागीदारी को दर्शाता है, जब यह सामने आता है, तो परेशानी पैदा कर सकता है।
  • 12वां भाव नुकसान और बिस्तर के शारीरिक सुख का भाव है। वैवाहिक जीवन में साथी इस संबंध में एक-दूसरे के साथ संगत नहीं बैठा सकते, जिससे उनके बीच वैमनस्य पैदा हो सकता है।
  • कुछ ज्योतिषियों के अनुसार उच्च का मंगल या मंगल अपने ही भाव में या शुभ मंगल कोई मंगल दोष (Mangal Dosha) उत्पन्न नहीं करता है, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं होता है – मंगल तब भी अपना प्रभाव दिखाएगा। मंगल दोष का अवलोकन करते समय मंगल की शक्ति पर विचार करना चाहिए।
  • जैसा कि पहले कहा गया है कि 12 भावों में से यदि मंगल 6 भावों में मौजूद है, तो वह मंगल दोष है, इसलिए आप इस दोष से पीड़ित कई लोगों को पा सकते हैं। यह संभव नहीं है कि मंगल हर व्यक्ति पर एक जैसा प्रभाव डाले। इसके अलावा, लोग सोचते हैं कि मंगल दोष (Mangal Dosha) का अर्थ है साथी की असामयिक और आकस्मिक मृत्यु। लेकिन यह सभी मामलों में तब तक नहीं होता जब तक कि मंगल पीड़ित न हो।
  • लड़के और लड़की की कुंडली का सही मिलान उनके वैवाहिक जीवन में मंगल के प्रभाव को कम करता है। यह मंगल के हिंसक प्रभाव को पूरी तरह से खत्म तो नहीं करेगा, लेकिन कुछ हद तक इसके प्रभाव को कम कर सकता है। यदि शुक्र और चंद्रमा द्वितीय भाव में हों या उनमें से एक भी द्वितीय भाव में हो तो भी मंगल (Mangal Dosha) का प्रभाव कुछ हद तक कम होता है। लेकिन वास्तव में यह देखा जाता है कि यह कारक हर मामले में मायने नहीं रखता।
  • 7वें घर पर मंगल ग्रह पर बृहस्पति की दृष्टि- बृहस्पति ज्ञान और धार्मिकता का ग्रह है। तो यह दोष (Mangal Dosha) कुछ हद तक कम हो सकता है। जीवन में समस्या बनी रहेगी, लेकिन बात घर की चार दीवारी में ही रहेगी। यदि दो से अधिक कष्ट होते तो बृहस्पति भी उस हद तक सहायक नहीं होता।
  • यह भी कहा जाता है कि यदि साथी की कुंडली के जिस भाव में मंगल (Mangal Dosha) मौजूद हो, वहां शनि भी मौजूद हो, तो मंगल दोष को कम करता है। लेकिन वास्तव में यह भी ज्यादा असरकारी नहीं है।
  • यदि राहु और मंगल की युति हो।
  • यदि मंगल (Mangal Dosha) एक ही भाव का स्वामी हो अर्थात मंगल मेष या वृश्चिक लग्न में हो या मंगल वृष या कर्क राशि में सप्तम भाव में हो।

ये सभी संयोजन कष्ट को कुछ हद तक कम कर सकते हैं, लेकिन इसे समाप्त नहीं कर सकते।

लग्न, चंद्र और शुक्र के अनुसार मंगल की स्थिति के संबंध में लड़का और लड़की की कुंडली का मिलान करके दुख में वास्तविक कमी की जा सकती है। विवाह के उद्देश्यों के लिए जन्म कुंडली का मिलान करते समय और भी कई कारकों पर विचार किया जाना चाहिए।

उपरोक्त परिणाम उन तथ्यों पर आधारित हैं, जो व्यावहारिक रूप से कई जन्म कुंडली पर शोध करने के बाद सामने आए हैं क्या आपको यह पता लगाने के लिए सहायता की आवश्यकता है कि संभावित साथी आपके लिए सही है या नहीं? तो अपनी कुंडली का विश्लेषण करवाएं…

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us