https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

जानिए, गुरू का कन्या राशि में प्रवेश आपके जीवन पर क्या प्रभाव डालेगा?

जानिए, गुरू का कन्या राशि में प्रवेश आपके जीवन पर क्या प्रभाव डालेगा?

ज्योतिष में, बृहस्पति को ज्ञान, वैभव, समृद्धि, उच्च शिक्षा, नैतकता,आशावाद और जीवन के सकारात्मक क्षेत्रों का ग्रह माना जाता है। इस शक्तिशाली ग्रह के आशीर्वाद के बिना जीवन में खुशी और आनंद की सोचना बिल्कुल नामुमकिन है। नव ग्रहों में गुरू बृहस्पति सबसे उदार माना जाता है। इसकी उदारता से हमारे जीवन में अनुकूल घटनाओं का आगमन होता है।

दिनांक 11 अगस्त, 2016 को को यह विशाल ग्रह पृथ्वी तत्व वाली राशि कन्या में प्रवेश करेगा। 30 जनवरी, 2016 से गुरू बृहस्पति अशुभ राहु के साथ युति में था जिसकी वजह से इसकी परोपकार शक्ति क्षीण थी। गुरू-राहु की युति लोगों को सही तौर से तर्क से भरे निर्णय लेने नहीं देती। लेकिन, इसका बुध की राशि में से होकर गुजरना बौद्धिक और तकनीकी क्षेत्र के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी काफी सारे परिवर्तन लेकर आ सकता है।

गणेशजी, इसके प्रभाव से हमारे जीवन के निम्न क्षेत्रों में परिवर्तन देख रहे हैं-

कैरियर व व्यापार
शक्तिशाली गुरू बृहस्पति के पृथ्वी तत्व वाली कन्या राशि में पारगमन के समय आपका तार्किक और विश्लेषणात्मक कौशल मजबूत हो सकता है। आपकी जानकारियों में इजाफा होगा और चीजों को बारीकी से समझने का प्रयास करेंगे। आप अपने आपको नवीनतम ट्रेंड से अवगत करते हुए दुनियाभर की घटनाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करने की चेष्टा करेंगे। इन सभी पहलुओं का आपके कैरियर और व्यापार पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्रभाव पड़ने की संभावना है। यदि आप अपने तकनीकी ज्ञान या अपने कैरियर में कोई ऊंची छलांग लगाना चाहते हैं तो फिर इससे बेहतर समय कोई हो नहीं सकता! रिसर्च, इनफार्मेशन एवं टेक्नोलॉजी, सॉफ्टवेर, कंप्यूटर प्रोग्रामिंग एवं टीचिंग फ़ील्ड्स के लोगों के लिए यह एक बेहद अनुकूल अवधि साबित होगी। व्यापारियों को अब अच्छी तरह से योजनाएं व रणनीति बनाने का अवसर प्राप्त हो सकता है।

धन-संपत्ति
गुरू बृहस्पति को धन और समृद्धि का भी नैसर्गिक कारक कहा जाता है। गुरू का कन्या राशि में से होकर परिभ्रमण करना लंबी अवधि की वित्तीय योजना और वित्तीय भंडार बनाने के लिए बड़ा ही शुभ है। यदि आप अपनी खर्च की आदतों में तब्दीलियां या लगाम लगाने लाने की सोच रहे हैं तो इस अवधि के दौरान कर सकते हैं। गुरू की कृपा से आपमें पर्याप्त ज्ञान व आत्मनियंत्रण शक्ति रहेगी। आप धन कमाने के नए अवसर प्राप्त करने में सक्ष्म होंगे। इसलिए, इस सुनहरे मौके को हाथ से हर्गिज जाने मत जाने दें।

कृपया ध्यान दें:
इस लेख में की गई हमारी भविष्यवाणियां सामान्य तथ्यों के आधार पर तैयार की जाती है। हर आदमी पर इसका प्रभाव भिन्न-भिन्न पड़ेगा, इसलिए इनको व्यक्तिगत भविष्यवाणियां नहीं समझनी चाहिए। अपने ऊपर बृहस्पति के पारगमन के प्रभाव को अधिक स्पष्टता से जानने के लिए हमारे द्वारा विशेष रूप से आपके लिए बनायी जाने वाली सेवा गुरू पारगमन रिपोर्ट का आज ही आॅर्डर करें! यह रिपोर्ट पूरी तरह से आपके व्यक्तिगत जन्म विवरण पर आधारित होती है।

प्रेम व संबंध
गुरू का कन्या राशि में से होकर पारगमन करना आपके कम्युनकेशन को सुर्खियों में लाएगा। परिस्थिति के अनुसार अपने आपको ढालने की अनमोल कला आप इस दौरान सीखेंगे। यह पारगमन चीजों को अलग- अलग दृष्टिकोण से देखना सिखाएगा। प्रियजनों के साथ अपने वास्तविक संबंधों का विश्लेषण करेंगे। विपरीत लिंगी जातक के साथ अपने व्यक्तिगत विचारों व अंतरंग इच्छाओं को साझा कर सकते हैं। बौद्धिक स्तर पर अपने साथी के साथ अधिक आसानी से जुड़ या कनेक्ट हो सकेंगे। संबंधों के लिहाज से यह कोई मामूली अवधि नहीं होगी, वरन् आप अाप संबंधों की दिशा में एक गंभीर दृष्टकिोण विकसित करेंगे। शादीशुदा लोगों को अपने जीवनसाथी को समझने के लिए स्वर्णिम पल प्राप्त होंगे। इस दौरान पति-पत्नी यह जानेंगे कि उनके जीवन में कौन सी चीज सर्वाधिक मायने रखती है।

स्वास्थ्य
राशि चक्र की छठवीं राशि कन्या राशि होती है। कुंडली का छठवां भाव आपके स्वास्थ्य, शक्ति और जीवन शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। गुरू का इस राशि में से होकर परिभ्रमण करना आपको अपने स्वास्थ्य कल्याण के प्रति अधिक जागरूक बनाएगा। किसी फिटनेस प्रोग्राम्स से जुड़ने के लिए यह एक अच्छा समय है। इसलिए, अाप अपने आरोग्य के बारे में जरा गंभीरता से विचार करें।

गणेशजी की कृपा से,
आदित्य साई,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us