चन्द्र राशि कर्क पर शनि के गोचर का प्रभाव जानें

Published on दिसम्बर 10, 2019

चन्द्र राशि कर्क पर शनि के गोचर का प्रभाव

ज्योतिष में सबसे धीमे चलने वाले ग्रह शनि का सभी राशियों पर स्थायी प्रभाव पड़ता है। अब यह ग्रह मकर राशि में भव्य गोचर करने जा रहा है। जैसा कि यह शनि की अपनी राशि है, यह स्वतंत्रता और आत्मनिर्भरता को दर्शाती है। पारगमन 23 जनवरी, 2020 से शुरू होने जा रहा है, जो लगभग ढाई साल तक रहेगा। उसके बाद, शनि अप्रैल 2022 से कुंभ राशि में प्रवेश करेगा। कर्मफल दाता शनि को राशि चक्र की सभी राशियों को पार करने में लगभग 30 साल लग जाते हैं। फिर ये अपनी स्वयं की राशि मकर में प्रवेश करता है।

कर्क राशि वालों की जन्म कुंडली में शनि सातवें और आठवें घर का स्वामी है। यह उनके जन्म कुंडली के सातवें भाव में गोचर करने जा रहा है। यह वह घर है जो विवाह, जीवनसाथी, जुनून, व्यवसाय में साझेदारी और यात्रा का प्रतिनिधित्व करता है। शनि का यह पारगमन आपके जीवन के इन क्षेत्रों को प्रमुखता से प्रभावित करेगा। शनि इस गोचर के दौरान आपके वैवाहिक जीवन में थोड़ी अशांति ला सकता है। आपके विचारों पर इसका प्रभाव पड़ेगा, यह निर्धारित करेगा कि आप अपने जीवन में कठोर क्षणों को कैसे लेते और समझते हैं।

अपने जीवन में शनि के बुरे प्रभाव को बेअसर करने के उपाय जानें अभी!

पिछले 2.5 वर्षों का लेखा-जोखा

शनि के धनु राशि में गोचर 2017 के दौरान आपको आपने दैनिक जीवन में दूसरों के प्रति ज़िम्मेदारी का अनुभव किया होगा। इसमें आपका समय और ऊर्जा भी लगी होगी है, और आपको दीर्घकालिक योजनाओं पर ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई का सामना करना पड़ा होगा। पिछले ढाई साल ने आपसे स्वास्थ्य और समय के प्रबंधन पर ध्यान देने की मांग की होगी। आपने उन चीजों में उत्कृष्टता हासिल की होगी, जो आपने उस समय जाने बिना अतिरिक्त रूप में चला दी होगी। आइए जानते है कि शनि का आगामी गोचर आपके लिए कैसा रहेगा?

वर्ष 2022 की वार्षिक रिपोर्ट प्राप्त करें और अपनी वैवाहिक समस्याओं से निपटें।

चन्द्र राशि कर्क पर शनि गोचर का प्रभाव 23 जनवरी, 2020 से अप्रैल 2022 तक रहेगा।

(कृपया ध्यान दें : यह भविष्यवाणी चन्द्र राशि के अनुसार की गयी है।)

कर्क राशि पर चंद्रमा का शासन होता है, जो किसी व्यक्ति की भावनात्मक और मानसिक शक्ति को दर्शाता है। गोचर के दौरान शनि आपके मूड को प्रभावित करेगा और आपको मजबूत मन के साथ परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है।

करियर जीवन पर शनि के परागमन का प्रभाव

  • धैर्य के साथ मेहनत करने पर अच्छा फल प्राप्त होगा।
  • परागमन अवधि में नौकरी संबंधित स्थानांतरण की संभावना है।
  • लक्ष्यों को पूरा करने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने की आवश्यकता होगी।
  • कई बार करियर में आवश्यकता परिणाम प्राप्त नहीं होने का अहसास होगा।
  • अपेक्षाओं से अधिक प्रदर्शन करने पर आपको पुरस्कृत भी किया जा सकता है।
  • परागमन के दौरान आपको कार्य में अत्यधिक मेहनत करने की आवश्यकता होगी।
  • कार्यस्थल पर प्रतिभा बढ़ाने और नए कौशल अपनाने से वरिष्ठों और सहकर्मियों से प्रशंसा मिलेगी।

हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों की मदद से व्यक्तिगत रिपोर्ट प्राप्त कर कॅरियर में सफलता पाएं

व्यावसायिक जीवन पर शनि के परागमन का प्रभाव

  • उत्पादों के लिए अत्यधिक मात्रा में मांग बढ़ने की संभावना है।
  • यह व्यवसाय में आपके लाभ के स्तर को बढ़ाने में सहायता करेगा।
  • मांग में वृद्धि के कारण उत्पादन के लिए काम का समय भी बढ़ जायेगा।
  • परागमन के दौरान कर्मचारियों के साथ समस्या पैदा होने की संभावना है।
  • कर्मचारियों को संभालने में समस्या होगी, वे आपका सहयोग नहीं कर पाएंगे, बुद्धिमता से स्थिति को संभालें
  • दीर्घकालिक मौद्रिक लाभ की संभावना है, इसलिए व्यापार बढ़ाने  के लिए इस समय का अधिकाधिक उपयोग करें।

वित्त जीवन पर शनि के परागमन का प्रभाव

  • व्यवसाय में लाभ होने की संभावना है।
  • वित्तीय स्थितियाँ धीरे-धीरे बेहतर होंगी।
  • लम्बे समय से बकाया राशि प्राप्त हो सकती है।
  • मेहनत और समर्पण से काम करने का बेहतर फल मिल पायेगा।
  • कार्यालय के अलावा बाहर काम से भी धन लाभ होने की संभावना है।
  • आमदनी को विलासिता और धार्मिक आयोजनों पर खर्च करने की संभावना है।
  • आपकी मेहनत का फल वेतन वृद्धि या प्रोत्साहन राशि के रूप में मिल सकता है।

मकर राशि में शनि का गोचर आपके ऊपर धन के उपहारों की बौछार करने वाला है।

गणेशजी सलाह देते हैं कि बेहतर भविष्य के लिए अतिरिक्त आय को निवेश करें।

वित्त, करियर या जीवन में समस्याओं का सामना कर रहे हैं, तो जानिए विशेषज्ञ ज्योतिषियों से कि कौन सा यंत्र लाभ देगा।

प्रेम संबंध व वैवाहिक जीवन पर शनि के परागमन का प्रभाव

  • वैवाहिक जीवन में समस्याएं मानसिक तनाव बढ़ा सकती हैं।
  • इस दौरान आपके रिश्ते कुछ मुश्किलों का सामना कर सकते हैं।
  • काम की अधिकता के कारण व्यक्तिगत जीवन प्रभावित हो सकता है।
  • मानसिक और भावनात्मक इंद्रियां एक बिंदु पर काम करना बंद कर सकती हैं।
  • साथी के साथ में अच्छा समय न बिता पाने के कारण रिश्ते में रुकावट और निराशा आ सकती है।
  • इस दौरान अत्यंत धैर्य और परिपक्वता के साथ समस्याओं का सामना करने की सलाह दी जाती है।
  • पारगमन अवधि में अपनी कमियों को पहचान कर ठीक करने की कोशिश करें, जिससे रिश्ते टूटने से बच जायेंगे।

यह भी पढ़ें : कुंडलियां मेल नहीं खा रहीं तो जानिए उपाय! प्रभावी भी और असरदार भी!

स्वास्थ्य जीवन पर शनि के परागमन का प्रभाव

  • स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है और मानसिक तनाव से ऊर्जा का स्तर नीचे आ सकता है।
  • उदास महसूस करने के कारण स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
  • पारगमन के दौरान पाचन संबंधी समस्या हो सकती है, पौष्टिक आहार लेने पर अधिक ध्यान दें।
  • नकारात्मक भावनाओं को अपने कार्यों में बाधा न बनने दें।
  • सकारात्मकता बढ़ाने के लिए ध्यान और योग अभ्यास करें।

संक्षेप में कहें तो शनि का गोचर आपको परिश्रम और स्थितियों को समझने के बाद लाभ देगा। नया कौशल विकास और परिपक्वता के साथ समस्याओं से निपटना लंबे समय में मदद करेगा। अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!

गणेशजी की कृपा से,

गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

Follow Us