https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

गुरु गोचर 2021 – जानें वृषभ राशि पर क्या होगा गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव

गुरु गोचर 2021 – जानें वृषभ राशि पर क्या होगा गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव

गुरु का कुंभ में गोचर और वृषभ पर प्रभाव

कुंडली के विभिन्न भावों में ग्रहों की मौजूदगी और उनके गोचर करने के समय के आधार पर ही हम किसी व्यक्ति के भूत, भविष्य और वर्तमान का आकलन कर सकते हैं। इन ग्रहों का एक राशि से दूसरी राशि में गोचर एक निश्चित समय तक उस राशि और राशिचक्र की अन्य राशियों को प्रभावित करती है। मौजूदा समय में बृहस्पति अर्थात गुरु का राशि परिवर्तन होने वाला है। 6 मार्च 2021 को गुरु मकर राशि से कुंभ राशि में गोचर करने वाले है। आइए जानते हैं, गुरु का कुंभ गोचर 2021 वृषभ राशि के लोगों के लिए कैसे करने वाला है।

वृषभ में गुरु ग्रह की स्थिति

वृषभ लग्न कुंडली के अनुसार वृषभ राशि के लोगों के लिए गुरु का राशि परिवर्तन 2021 कुंडली के दसवें भाव में होने वाला है। कुंडली का दसवां भाव कर्म स्थान या पितृ स्थान के नाम से जाना जाता है।

गुरु का राशि परिवर्तन – वृषभ के कॅरियर और फाइनेंस पर प्रभाव

गुरु का कुंभ गोचर 2021 वृषभ राशि के लोगों के लिए अधिक अनुकूल नहीं रहने वाला है। पेशेवर लोगों को अप्रैल के महीने में  को त्यागपत्र देने से बचना चाहिए। छात्र मई और जून के महीने में फंसे रह सकते हैं, क्योंकि उन्हें कॅरियर से जुड़े मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे मुद्दों से निपटने के दौरान, आपको बड़ों से उचित सलाह लेने के बाद ही निर्णय लेना चाहिए। जिन छात्रों ने सरकारी परीक्षा के लिए आवेदन किया हैं, उन्हें अनुकूल परिणाम नहीं मिलेंगे और वे सोचेंगे कि उनकी मेहनत बेकार चली गई।

लेकिन ऐसा नहीं है कि सही दिशा में की गई मेहनत कभी बेकार नहीं जाती, यह आपको बाद में वांछित सफलता प्राप्त करने में मदद कर सकती है। जो लोग नया व्यवसाय शुरू करने की योजना बना रहे हैं, उन्हें अपने काम में नई रणनीतियों की खोज करने से बचना चाहिए। जो लोग साझेदारी के व्यवसाय से जुड़े हैं उन्हें अपने पार्टनर पर विश्वास बनाए रखने में परेशानी हो सकती है, आपको सलाह है कि आप इस दौर से निपटने के लिए योग या साधना के माध्यम से मानसिक शांति प्राप्त करें। यह शेयर बाजार में निवेश करने के लिए समय अच्छा समय नहीं है, लेकिन यह आपकी पैतृक संपत्ति से जुड़े कार्यों को पूरा करने के लिए एक उपयुक्त समय है। इस समय के दौरान, आपको अपने वरिष्ठों जनों से उचित सलाह लेने के बाद ही महत्वपूर्ण निर्णय लेना चाहिए। पेशेवर कर्मचारियों को अप्रैल के महीने के दौरान अपनी नौकरी का ध्यान रखना चाहिए, अन्यथा आप अपनी नौकरी खो सकते हैं, जिससे आपका मानसिक तनाव बढ़ सकता है। इसके अलावा, यदि आप नई नौकरी पाने में असफल रहते हैं, तो आपको मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय – गुरु के कुंभ गोचर के दौरान वृषभ राशि के लोगों को हर शाम हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। इससे आपको अपने कॅरियर को सही दिशा में आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। यदि आप किसी गंभीर मुद्दे से निपट रहे हैं, तो आपको मंगलवार और शनिवार को बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए।

गुरु का राशि परिवर्तन – वृषभ के लव और रिलेशन पर प्रभाव

गुरु का राशि परिवर्तन 2021 वृषभ राशि के लोगों के लिए अधिक अनुकूल नहीं दिखाई नहीं देता है। वृषभ राशि के लोग इस दौरान अपने प्रियजनों और परिवार के सदस्यों के साथ किसी प्रकार के तर्क वितर्क में पड़ सकते हैं। यह दौर किसी के प्यार में पड़ने के लिए उचित नहीं। जो लोग विवाहित हैं वे जीवनसाथी के साथ अपने संबंधों को खराब कर सकते हैं। आपको बोलते समय अपने शब्दों पर विशेष ध्यान देना चाहिए। आपको अपने माता – पिता के साथ अच्छे संबंध बनाए रखने की कोशिश करनी चाहिए। छोटी – छोटी बातों के लिए निराश होना आपकी मां के साथ आपके संबंध बिगाड़ सकता है। आपको बोलते समय अपने शब्दों का चुनाव बेहद सावधानी के साथ करना चाहिए और अपने पिता के साथ मित्रवत व्यवहार करना चाहिए। अप्रैल का पहला सप्ताह आपके लिए चुनौतीपूर्ण रहने वाला है। हालांकि जुलाई के समय आप अपने खराब हुए संबंधों को सुधारने में सक्षम हो सकते हैं। जुलाई और अगस्त के महीने में विवाहित महिलाओं को अपने ससुराल वालों से बहस करने से बचना चाहिए, क्योंकि इससे आपके दांपत्य जीवन के रिश्तों में कड़वाहट पैदा हो सकती हैं। प्रेमियों के अपने सहयोगियों के साथ छोटे मोटे झगड़े हो सकते हैं, और आपको भावनात्मक दर्द का सामना करना पड़ सकता है। आपको अपनी गलती होने पर भी दूसरों पर उंगली नहीं उठानी चाहिए। विवाह का इंतजार कर रहे लोगों को कुछ और इंतजार करना पड़ेगा। आपका 15 मई 2021 से 15 जून 2021 के बीच अपने दोस्तों के साथ विवाद हो सकते हैं। आपको जून – अगस्त में अपने भाई – बहनों के साथ 17 अगस्त 2021 से 10 सितंबर 2021 तक शांति से समय बिताना चाहिए। कुल मिलाकर यह दौर वृषभ राशि वालों के प्रेम और संबंधों के लिए एक मुश्किल समय होगा।

उपाय –  अपने प्रियजनों के साथ अच्छे संबंध बनाए रखने के लिए शिवलिंग पर जलाभिषेक कर भगवान शिव की पूजा करना शुरू करें और रोज सुबह पंचाक्षर मंत्र ओम नमः शिवाय का जाप करें।

गुरु का राशि परिवर्तन – वृषभ के स्वास्थ्य पर प्रभाव

गुरु का कुंभ गोचर 2021 वृषभ राशि के लोगों के स्वास्थ्य के लिए अधिक बेहतर नजर नहीं आता है। इस दौरान महिलाओं को अपनी बात रखते समय छोटी-छोटी बातों के लिए दूसरों के साथ बड़े तर्क – वितर्क नहीं करने चाहिए। गुरु गोचर 2021 के दौरान आपको अनावश्यक चीजों के बारे में चिंतित नहीं होना चाहिए। परिवार के बीच होने वाले छोटे-मोटे विवादों से बचना चाहिए। मई – जून के महीने में छात्रों को गिरने के कारण चोट लग सकती है, इसलिए उन्हें ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। इस दौरान आपको अपने बड़ों से उचित सलाह लेने के बाद ही निर्णय लेना चाहिए। जुलाई का महीना आपके लिए काफी बेहतर होना वाला है।  अगस्त के महीने में छात्रों को बाहर का खाना खाने से बचना चाहिए। गीले फर्श की वजह से बुजुर्ग फिसल सकते हैं, इसलिए बेहतर होगा कि वे ऐसी चीजों का ध्यान रखें। अप्रैल के महीने में मौसमी परिवर्तन के कारण बीमार पड़ सकते हैं या पेट में दर्द हो सकता है। अप्रैल का यह महीना पुरुष वृषभ जातकों के लिए अधिक परेशान करने वाला हो सकता है। 15 जून 2021 से 1 जुलाई 2021 तक आपको वाहन चलाते समय ध्यान रखना चाहिए,  क्योंकि इस दौरान दुर्घटना की संभावना है। विशेष रूप से बड़ों और बुजुगों को इस दौरान किसी भी प्रकार की यात्रा करने से बचना चाहिए। वृषभ राशि के व्यक्तियों को इस समय के दौरान अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है, क्योंकि आपको मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे, मस्तिष्क की समस्याएं या सिरदर्द का सामना करना पड़ सकता है। आपको 15 जून 2021 से 1 जुलाई 2021 तक गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसके बाद 17 अगस्त 2021 से 10 सितंबर 2021 तक आप अनपेक्षित स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर सकते हैं।

उपाय – गुरु का राशि परिवर्तन 2021 में वृषभ राशि के लोगों को  विशेष रूप से बड़ों को ओमकार मंत्र का पाठ करना चाहिए। छात्रों को सुबह जल्दी उठकर ओम नमों भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करते हुए भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। वृषभ राशियों की महिलाओं को अपने कुल देवता की पूजा करनी चाहिए, जबकि पुरुषों को सोमवार को भगवान शिव का जल से अभिषेक करके पूजा करनी चाहिए और शुक्रवार को अपने कुल देवता की पूजा करनी चाहिए।

श्री गणेशजी की कृपा के साथ

गणेशास्पीक्स डॉट कॉम/हिंदी

ये भी पढ़ें

जानिए मेष राशि के लोगों पर गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव, क्लिक करें यहां

मिथुन राशि के लिए राशि परिवर्तन करके नवें भाव में जाएंगे गुरु, पढ़िए कुंभ के गुरु का प्रभाव यहां

गुरु नीच राशि से बाहर जाकर अब कुंभ में ट्रांजिट करेंगे, कर्क राशि के लोगों के लिए होगा विशेष प्रभाव

सिंह राशि के लोगों के लिए गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव, क्लिक करें यहां

कन्या राशि के लिए क्या उपहार लाना वाला है गुरु का राशि परिवर्तन

तुला राशि के लिए राशि परिवर्तन करके पांचवें भाव में जाएंगे गुरु, पढ़िए कुंभ के गुरु का प्रभाव यहां

गुरु नीच राशि से बाहर जाकर अब कुंभ में ट्रांजिट करेंगे, वृश्चिक राशि के लोगों के लिए होगा विशेष प्रभाव

धनु राशि के लोगों के लिए गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव, क्लिक करें यहां

मकर राशि के लिए क्या उपहार लाना वाला है गुरु का राशि परिवर्तन

कुंभ राशि के लिए राशि परिवर्तन करके पहले भाव में आएंगे गुरु, पढ़िए कुंभ के गुरु का प्रभाव यहां

गुरु नीच राशि से बाहर जाकर अब कुंभ में ट्रांजिट करेंगे, मीन राशि के लोगों के लिए होगा विशेष प्रभाव

17 Feb 2021

View All blogs

Follow Us