रंग पंचमी – होली अभी बाकी है मेरे दोस्त!रंग पंचमी

रंग पंचमी का महत्व

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, रंग पंचमी के पांच रंग हैं और यह उन पांच घटकों का प्रतिनिधित्व करते हैं, जो मानव शरीर और ब्रह्मांड को बनाते हैं। पंच तत्व- अग्नि, पृथ्वी, जल और वायु, साथ ही आकाश (अंतरिक्ष) को उत्सव के रूप में जीवन में शामिल करने के लिए रंग पंचमी मनाई जाती है। हमारे देश के साथ ही अन्य क्षेत्रों में फाल्गुन पूर्णिमा तिथि से होली का उत्सव शुरू होता है और रंग पंचमी के साथ समाप्त होता है।

रंग पंचमी का इतिहास

पौराणिक काल से ही होली का समारोह फाल्गुन माह में कई दिनों तक चलता था। एक समय ऐसा भी आया था जब रंग पंचमी ने होली के उत्सवों को समाप्त कर दिया था। इस उत्सव के रंग धीरे-धीरे फीके पड़ने लगे थे। लेकिन सत्य यह है कि यह होली का उत्सव आगे बढ़ाने का एक और तरीका है, जो फाल्गुन मास में कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है।

माना जाता है कि इस दिन समर्पित तन-मन के साथ पूजा करने से देवी दुर्गा की कृपा सुनिश्चित होती है। उनका स्मरण आपकी कुंडली में दोषों व नकारात्मक प्रभावों को भी खत्म करता है।

रंग पंचमी अत्यंत शुभ माना जाता है और हिंदु त्योहारों में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। जैसा कि सभी जानते हैं कि होली से एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है। होली के दौरान, प्रज्ज्वलित अग्नि वातावरण के सभी राजसिक और तामसिक कणों को शुद्ध करती है। यह उस क्षेत्र में एक शुद्ध ऊर्जा पैदा करती है और वातावरण को अत्यधिक सकारात्मक प्रभाव से भर देती है जो विभिन्न देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त करने में भी मदद करता है। रंग पंचमी भी होली की तरह सकारात्मकता और खुशी बांटने का त्योहार है।

रंग पंचमी भी रजस और तमस पर विजय का प्रतीक है, जो ब्रह्मांड के ‘पंच तत्व’, (पृथ्वी, अग्नि, जल, आकाश और वायु) का सम्मान करता है। माना जाता है कि मानव शरीर भी इन्हीं पांच तत्वों से मिलकर बना है। इस पंचमी पर देवताओं की पूजा का आयोजन किया जाता है और किसी भी शुभ संस्कार के उत्सव को भी इसमें शामिल किया जाता है।

रंग पंचमी – तिथि और समय

रंग पंचमी 2023 तिथि – 12 मार्च 2023, रविवार को

पंचमी तिथि शुरू – 11 मार्च 2023 को रात 10:05 बजे

पंचमी तिथि समाप्त – 12 मार्च 2023 को रात 10:01 बजे

वैदिक पंचांग की शुभ तिथि और समयादि के बारे में और जानें।

रंग पंचमी – अनुष्ठान और उत्सव

रंग पंचमी मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और कुछ उत्तरी भारतीय क्षेत्रों में मनाई जाती है। यह त्योहार पांच दिनों के होली उत्सव (होलिका दहन के बाद पांचवें दिन) के बाद मनाया जाता है।

बहुत से लोग मानते हैं कि रंग पंचमी और होली दोनों एक ही हैं, लेकिन इन्हें मनाने के तरीके अलग है और इनका महत्व भी अलग है। इन दोनों ही त्योहारों में होने वाली गतिविधि पूरी तरह से अलग उद्देश्यों के लिए की जाती है। आइए हम उत्सव के विभिन्न रूप और विभिन्न तरीकों के बारे में बात करें।

  • इंदौर में रंग पंचमी – शहर के खास मार्गों की परिक्रमा के साथ एक जुलूस आमतौर पर इंदौर और महाराष्ट्र में उत्सव के दौरान आयोजित किया जाता है। इस जुलुस का हिस्सा होते हैं – एक बड़ी सी पानी की टंकी, रंगों की बड़ी-बड़ी तोपें और हजारों की संख्या में लोग। इस समय सड़कों पर हर कोई रंगों से सराबोर होता है।

मध्य प्रदेश के इंदौर में पंचमी तिथि को पारंपरिक रूप से मनाया जाता है। इस दिन शहर में रंगारंग जुलूस निकलते हैं। रंग पूरे शहर को एक अलग एहसास देते हैं। लोग गेट बजाते अपने घरों से बाहर निकल रहे होते हैं। इस जुलूस को “गेर” के नाम से जाना जाता है। इस जुलूस में सभी धर्मों और जातियों के लोग शामिल होते हैं। रंग-बिरंगी दावतें होती है। हर साल पूरे इंदौर को इस दिन का बेसब्री से इंतजार होता है।

  • महाराष्ट्र में रंग पंचमी – होली का उत्सव समाप्त होने के बाद, महाराष्ट्रीयन इस पंचमी उत्सव में भाग लेते हैं, जो निश्चित रूप से रंगों के बिना अधूरी मानी जाती हैं। धुलेड़ी से के बाद महाराष्ट्र के लोग पंचमी तिथि तक बड़े मजे से होली खेलते हैं।

रंग पंचमी पर, गुलाल का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। स्वादिष्ट व्यंजन इस शुभ दिन का मुख्य आकर्षण होते हैं, जिसमें पूरन पोली मोस्ट वांटेड आइटम के रूप में शामिल होता है। मछुआरों का समूह आज भी अनोखे ढंग में यह त्योहार मनाता है।
इस दिन वे बिल्कुल नए स्तर पर आनंद लेते हैं। कई जगहों पर दही हांडी का आयोजन भी किया जाता है जहां महिलाएं मटका फोड़ने वाले युवाओं पर रंग फेंकती हैं (दही हांडी की यह प्रथा पुरुषों द्वारा की जाती है, जो ऊंचे स्थान पर टंगी दही से भरी मटकी को पिरामिड बनाकर फोड़ते हैं।)। “हांडी” फोड़ने वालों को अंततः पुरस्कृत किया जाता है।

2023 की अद्वितीय ग्रह स्थिति आपके जीवन को कैसे प्रभावित करने वाली है? अपने 2023 राशिफल से जानिए!

  • राजस्थान में रंग पंचमी – जैसलमेर के मंदिरों में रंग पंचमी के अवसर पर कई समारोह आयोजित किए जाते हैं। यहां के लोग लोक नृत्यों और विभिन्न गतिविधियों में भाग लेते हैं। इस खास दिन पर नारंगी और फ़िरोज़ा रंग विषेशतः हवा में बिखरे रहते हैं।
  • हिंदू भक्त इस दिन कुछ स्थानों पर भगवान कृष्ण और राधा की पूजा करते हैं। वे कृष्ण – राधा के मिलन का उत्सव मनाने के लिए पूजा-अनुष्ठान करते हैं। यह त्योहार लोगों के प्यार को प्रेरित और संरक्षित भी करता है।
  • रंग पंचमी का सबसे आकर्षक पहलू पारंपरिक पालखा नृत्य होता है, जो अक्सर दुनिया के लगभग हर कोने में मछली पकड़ने वाली जनजातियों और समुदायों द्वारा किया जाता है।
  • इस पंचमी का आनंद बिहार, वृंदावन, दिल्ली और मथुरा के मंदिरों में देखने लायक होता है। इस खास दिन की महिमा को बढ़ाने वे रंग खेलते हैं, मिठाईयां खाते- खिलाते हैं, करीबियों और रिश्तेदारों से मिलने जाते हैं, धार्मिक गीतों पर नृत्य करते हैं। देश में बहुत से पर्यटक और उत्साही लोग विभिन्न रीति-रिवाजों और परंपराओं के साथ होली खेलते हैं।

आप अपनी कुंडली के आधार पर अधिक विस्तृत और व्यक्तिगत अनुष्ठानों के लिए हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों से परामर्श कर सकते हैं।

रंग पंचमी के दौरान याद रखने योग्य बातें

  • गंगाजल को उस पानी में मिलाएं जिसे आप रोजाना इस्तेमाल करते हैं और रंग पंचमी के दिन अपने स्नान के लिए भी इसका इस्तेमाल करें।
  • देवी लक्ष्मी को धन की देवी भी माना जाता है। अपने घर में धन और वैभव को आमंत्रित करने के लिए देवी लक्ष्मी को फूल चढ़ाएं।
  • इसके बाद देवी की पूजा करें और उनके समक्ष घी का दीपक जलाएं।
  • देवी लक्ष्मी की मूर्ति के सामने एक धुप अगरबत्ती भी जलाएं।
  • सफेद रंग देवी लक्ष्मी को बहुत प्रिय होता है इसलिए आप धन की देवी को सफेद मिठाई का भोग लगा सकते हैं। आप विशेष लक्ष्मी पूजा करके भी धन की देवी को प्रसन्न कर सकते हैं।

निष्कर्ष 

कहा जाता है कि रंग पंचमी के दिन आध्यात्मिक शक्तियां विनाशकारी शक्तियों से अधिक होती हैं। बरसाने में इस दिन राधारानी के मंदिर में विशेष पूजा होती है और मान्यता है कि इस दिन उनके दर्शन से जीवन में लाभ और आशीर्वाद प्राप्त होता है। यह भी माना जाता है कि श्री कृष्ण इस दिन गोपियों के साथ रासलीला खेल रहे थे और रंग पंचमी के एक दिन बाद भी उन्होंने रंगों का उत्सव मनाया था।

रंग पंचमी के शुभ दिन पर अपने व्यक्तिगत राशिफल के साथ सौभाग्य को आकर्षित करें! 

गणेश की कृपा से,
गणेशास्पीक्स.कॉम टीम