क्रिसमस 2021 पर जानें ईसा मसीह के जन्म से जुड़े कुछ तथ्य

क्रिसमस 2021
क्रिसमस (Christmas) ईसाई धर्म के संस्थापक ईसा मसीह के जन्म के जश्न के रूप में मनाया जाता है। ईसाई मान्यता के अनुसार, यीशु मसीह का जन्म मानवता को धर्म के मार्ग पर ले जाने और नैतिक व्यवस्था को बहाल करने के लिए हुआ था। लेकिन कई लोगों के लिए, क्रिसमस पूरे आनंद, उत्साह, मस्ती और उल्लास के दिन का भी प्रतीक है। यह वह दिन है जब बच्चे काल्पनिक किरदार सांता क्लॉस से अपने पसंदीदा उपहारों के मिलने का इंतजार करते हैं।

अपनी राशि के अनुसार ज्योतिष क्रिसमस उपहार के बारे में जानें।

क्रिसमस दुनिया भर में मनाया जाता है और इसने पंथ और समुदाय की सीमाओं को पार कर लिया है। लेकिन हम इस त्योहार के एक और महत्वपूर्ण पहलू को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते हैं वह है इसका मजबूत ज्योतिषीय पक्ष। क्रिसमस जैसे अलौकिक अवसर पर चर्चा करते समय, हमें तारों सितारों से मिलने वाले संदेश को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। क्योंकि इन स्थितियों और ज्योतिषीय जानकारी का उपयोग करके हम ईसा मसीह के जन्म की सही तारीख का पता लगा सकते है। आइए ईसा मसीह के बारे में कुछ अधिक जानें।

ईसा की खोज और चमकीला तारा

ज्योतिष और जीसस क्राइस्ट के जन्मदिन के बीच का संबंध इस तथ्य से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है कि तीन बुद्धिमान पुरुष जो नए राजा (यीशु मसीह) की खोज करने के लिए यात्रा कर रहे थे, उन्हें एक तारे द्वारा निर्देशित किया गया था। ऐसा माना जाता है कि ये तारे एक समूह के थे, जिसके केंद्र में चमकीला बृहस्पति था। यह एक ईश्वरीय संकेत था, जीवन को बेहतर बनाने और समृद्ध बनाने का। अगर हम भी अपकी समस्याओं के लिए ज्योतिष की मदद लें तो जीवन बदल सकता है।

क्या आप आर्थिक उन्नति और समृद्धि चाहते हैं? यदि हां, तो अभी संपर्क करें, पहला कॉल बिलकुल फ्री….

ईसा मसीह के जन्म पर सितारों की स्थिति

जीसस क्राइस्ट का सही जन्म वर्ष स्पष्ट रूप से ज्ञात नहीं है क्योंकि इसे साबित करने के लिए कोई ठोस रिकॉर्ड नहीं है। हालांकि, दुनिया भर के ज्योतिषियों ने निष्कर्ष निकाला है कि प्रभु के सूली पर चढ़ने की अवधि से पीछे की ओर जाने पर यह कहा जा सकता है कि यीशु का जन्म 500 और 700 ईसा पूर्व के बीच कहीं हुआ होगा। कुछ ज्योतिषियों का दावा है कि यीशु का जन्म 700 ईसा पूर्व में बेथलहम (वर्तमान इज़राइल) में हुआ था।

यीशु के जन्म से जुड़े ज्योतिषीय तथ्य

25 दिसंबर (Christmas) यीशु मसीह की आधिकारिक रूप से निश्चित जन्म तिथि है। यह शीतकालीन संक्रांति पर सूर्य की वापसी के साथ मेल खाता है। यह संक्रांति सूर्य के मकर राशि में प्रवेश का प्रतीक है जिसका शासक ग्रह शनि है। इस दिन, सूर्य मकर रेखा पर रुकता हुआ प्रतीत होता है और उत्तर की ओर अपनी यात्रा शुरू करता है।

क्या आप अपना भविष्य जानने में रुचि रखते हैं? यदि हाँ, तो आज ही हमारे विशेषज्ञ ज्योतिष से बात करें।

यीशु और सूर्य

यीशु को सूर्य से जोड़ने वाले विभिन्न कारक हैं। पुराने नियम के एक पद के आधार पर यीशु की पहचान सूर्य के साथ की गई थी। संत ऑगस्टाइन द्वारा दिए गए एक प्रारंभिक उपदेश के अनुसार, यीशु ने प्रतीकात्मक कारणों से वर्ष के सबसे छोटे दिन पर जन्म लेना चुना। उनका जन्म वर्ष के सबसे छोटे दिन पर हुआ था, जिस दिन से बाद के दिनों की लंबाई बढ़ने लगती है, जो प्रकाश की वृद्धि का संकेत देता है। जॉन द्वारा प्रभु यीशु को जगत की ज्योति कहा गया था।

आने वाला साल आपके लिए क्या लेकर आएगा। जानना है तो अभी पढ़ें राशिफल 2022…

Follow Us