adi shankaracharya jayanti कब है, इसे क्यों मनाया जाता है? आइए जानते हैं...
adi shankaracharya jayanti कब है, इसे क्यों मनाया जाता है? आइए जानते हैं…

प्राचीन भारत के इतिहास में कई प्रसिद्ध दार्शनिकों के नाम शामिल है। उन्हीं में से एक हैं आदि शंकराचार्य (adi shankaracharya)। यह उस समय के सबसे महान संतों में से एक थे। उनके जन्मदिन को पूरे देश में शंकराचार्य जयंती (adi shankaracharya) के रूप में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। उनका जन्म केरल के कलाडी क्षेत्र में हुआ था, और जब वे 32 वर्ष के थे, तभी उनका निधन हो गया। उन्होंने अद्वैत वेदांत दर्शन के सिद्धांत पर चलकर हिंदू संस्कृति को तब बचाया, जब सबसे ज्यादा हिंदू संस्कृति को संजोये रखने की जरूरत थी।

आदि शंकराचार्य जयंती (adi shankaracharya jayanti) 2023 में कब है?

वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को शंकराचार्य जयंती (adi shankaracharya jayanti) है। इस वर्ष की तिथि और मुहूर्त इस प्रकार हैं:

आदि शंकराचार्य जयंती: 25 अप्रैल 2023, दिन मंगलवार

आपकी जन्मकुंडली आपके आने वाले जीवन में क्या संकेत देते हैं, इसके बारे में जानिए। मंगवाइये अपनी जन्मपत्री एकदम फ्री…

आदि शंकराचार्य की जीवन गाथा

आदि शंकराचार्य (adi shankaracharya) के माता-पिता भगवान शिव के उपासक थे। एक बार भगवान शिव ने उन्हें स्वप्न में दर्शन दिए और वरदान मांगने को कहा। तभी शंकराचार्य के पिता ने भगवान से एक ऐसे पुत्र का वरदान मांगा, जो सर्वज्ञानी हो और सतायु हो। तब भगवान शिव वे कहा कि तुम्हारा बालक या तो सर्वज्ञ हो सकता है, या फिर सतायु। दोनों नहीं हो सकता। तब शंकराचार्य (adi shankaracharya) के पिता ने सर्वज्ञ संतान का वरदान मांगा। भगवान के आशीर्वाद से उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। जिसका नाम शंकर रखा गया। जब वह तीन वर्ष के थे, तभी उनके पिता की मौत हो गई थी। बालक शंकर ही अपनी बुद्धिमत्ता के कारण आगे जाकर शंकराचार्य कहलाए। बालक शंकर का रूझान संन्यासी बनने की तरफ था। लेकिन इसको लेकर माता राजी नहीं थी। तभी एक दिन नदी में नहाते समय एक मगरमच्छ ने शंकराचार्य जी का पैर पकड़ लिया, इस वक्त का फायदा उठाते शंकराचार्यजी ने अपने मां से कहा कि, माँ मुझे संन्यास लेने की आज्ञा दे दीजिए, नहीं तो यह मगरमच्छ मुझे खा जाएगा। इससे भयभीत होकर माता ने तुरंत उन्हें संन्यासी होने की आज्ञा प्रदान कर दी। फिर, उन्होंने दुनिया को प्रसिद्ध किया और अपने जीवन पथ पर चले गए।

शंकराचार्य ने 16 और 32 वर्ष की आयु के बीच पूरे भारत की यात्रा की। उन्होंने यात्रा के दौरान वेदों के संदेशों को लोगों तक पहुंचाया। लोगों को हिंदू धर्म के प्रति जागरूक किया, हमारे ग्रंथों के बारे में लोगों को अवगत कराया। शंकराचार्य जी की शिक्षाएं आज भी दुनिया भर के लोगों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है।

आदि शंकराचार्य (adi shankaracharya) के कार्य

आदि शंकराचार्य (adi shankaracharya) एक अभूतपूर्व कवि थे और उन्होंने अपने हृदय में एक अति प्रेम के साथ परमात्मा को धारण किया। उनकी रचनाओं में 72 ध्यान और भक्तिपूर्ण भजन शामिल हैं। उनमें निर्वाण शाल्कम, सौंदर्य लहरी, मनीषा पंचकम और शिवानंद लहरी शामिल है।

उन्होंने प्राथमिक ग्रंथों जैसे भगवद गीता, ब्रह्म सूत्र और 12 महत्वपूर्ण उपनिषदों पर 18 भाष्य भी लिखे हैं। शंकराचार्य ने अद्वैत वेदांत दर्शन की मूल बातों पर एक विलक्षण या अविभाजित ब्रह्म के सत्य की व्याख्या करते हुए 23 पुस्तकें भी लिखीं। आत्म बोध, विवेक चूड़ामणि, उपदेश सहस्री और वाक्य वृत्ति उनमें से कुछ हैं।

आदि शंकराचार्य के उद्धरण

आइए आदि शंकराचार्य (adi shankaracharya) द्वारा दिए गए इन उद्धरणों के साथ उनकी जयंती मनाएं:-

  • धन, सम्बन्ध, मित्र और यौवन पर अभिमान मत करो। पलक झपकते ही ये सब समय के साथ छीन लिया जाता है। इस मायावी संसार को त्याग कर परमात्मा को जानो और प्राप्त करो।
  • किसी को मित्र या शत्रु, भाई या चचेरे भाई की दृष्टि से न देखें। मित्रता या शत्रुता के विचारों में अपनी मानसिक ऊर्जा को नष्ट न करें। सर्वत्र स्वयं को खोजते हुए, सबके प्रति मिलनसार और समान विचार वाले, सबके साथ समान व्यवहार वाले बनें ।
  • आसक्तियों और द्वेषों से भरे स्वप्न के समान जगत् जागरण तक सत्य प्रतीत होता है।
  • यह जानते हुए कि मैं शरीर से भिन्न हूँ, मुझे शरीर की उपेक्षा करने की आवश्यकता नहीं है। यह एक ऐसा वाहन है
  • जिसका उपयोग मैं दुनिया के साथ लेन-देन करने के लिए करता हूं। यह वह मंदिर है जिसके भीतर शुद्ध आत्मा है।
  • बंधनों से मुक्त होने के लिए बुद्धिमान व्यक्ति को एक-स्व और अहंकार-स्व के बीच भेदभाव का अभ्यास करना चाहिए।
  • केवल उसी से आप स्वयं को शुद्ध सत्ता, चेतना और आनंद के रूप में पहचानते हुए आनंदमय जीवन जी सकते हैं।
  • आनंद उन्हें ही मिलता है, जो आनंद की तलाश नहीं करते हैं।
  • प्रत्येक वस्तु अपने स्वभाव की ओर बढ़ने लगती है। मैं हमेशा सुख की कामना करता हूं, जो कि मेरा वास्तविक स्वरूप है। मेरा स्वभाव मेरे लिए कभी बोझ नहीं है। खुशी मेरे लिए कभी बोझ नहीं है, जबकि दुख है।
  • मोती की मां में चांदी की उपस्थिति की तरह, दुनिया तब तक वास्तविक लगती है जब तक कि आत्मा, अंतर्निहित वास्तविकता का एहसास नहीं हो जाता।