जानिए भारतीय ज्योतिष में चंद्र राशि राशिफल, चंद्र राशि चार्ट

चंद्र ज्योतिष के रूप में जाना जाने वाले भारतीय ज्योतिष, की उत्पत्ति वेदों में हुई है, जो सबसे पुराना पवित्र ग्रंथ हैं। भारतीय ज्योतिष प्रणाली में 12 राशियां हैं जो नीचे दी गई हैं :

मेषवृषभमिथुन
कर्कसिंहकन्या
तुलावृश्चिकधनु
मकरकुंभमीन

भारतीय ज्योतिष/चंद्र ज्योतिष को सरल बनाने के लिए बाद के चरण में राशियों या चंद्र राशियों को विकसित किया गया था। नक्षत्र भारतीय ज्योतिष प्रणाली का आधार हैं। इन नक्षत्रों की संख्या 27 हैं। कुंडली का अध्ययन करते समय 28वें नक्षत्र अभिजीत पर विचार नहीं किया जाता है।

वेदों और शास्त्रों के अनुसार कुल पांच तत्व हैं, जो इस प्रकार हैं :

  • आग
  • जल
  • पृथ्वी
  • वायु
  • आकाश

कुंडली का अध्ययन करते समय नक्षत्रों और राशियों या चंद्र राशि के साथ इन सभी पांच तत्वों को ध्यान में रखा जाता है। पांचवें तत्व, आकाश या ईथर को अत्यधिक महत्व दिया जाता है। किसी की भी कुंडली में लग्न सबसे प्रभावशाली बिंदु है, क्योंकि यह 'स्व' का प्रतीक है और इस बिंदु (आरोही) पर आकाश तत्व का शासन है।

भारतीय ज्योतिष या चंद्र ज्योतिष प्रणाली नक्षत्रों पर आधारित कैलेंडर का अनुसरण करती है। इसके केंद्र में चंद्रमा है। चंद्रमा मन और भावनाओं को नियंत्रित करता है। राशि चक्र में चंद्रमा सबसे तेज गति से चलने वाला ग्रह है और 'चंद्रमा के समर्थन के बिना कोई भी घटना संभव नहीं है'। जो लोग पाश्चात्य ज्योतिष का थोड़ा-बहुत ज्ञान रखते हैं, वे जानते हैं कि पाश्चात्य ज्योतिष में एक 'शून्य' सिद्धांत है, जिसका अर्थ है कि यदि चंद्रमा के कोई पहलू नहीं हैं, तो कोई घटना नहीं होगी। जैसे, दोनों प्रकाशमानियों को समान महत्व दिया जाता है, लेकिन चूंकि चंद्रमा मन को नियंत्रित करता है, इसलिए वैदिक या चंद्र ज्योतिष में इसे प्रमुख महत्व दिया गया है।

दशा प्रणाली वैदिक ज्योतिष की एक विशेष विशेषता है

चंद्र राशि पर आधारित डिग्री, मिनट और जन्म के सेकंड के आधार पर, भारतीय ज्योतिष का अभ्यास करने वाले 'दशा' का ध्यान रखते हैं, जिसे व्यापक रूप से ग्रह काल के रूप में जाना जाता है, जो बाद में फारसी ज्योतिष प्रणाली में 'अल-फ़िरदारिया' या 'फ़िरदार' के रूप में भी पाया गया। भारतीय ज्योतिष इसे बहुत आसान बनाता है, क्योंकि हर चीज को समय के सबसे छोटे अणु में विभाजित किया जा सकता है। ज्योतिष की सभी प्रणालियों में भारतीय ज्योतिष में समय को उसके सबसे छोटे भाग में विभाजित करने की क्षमता है, इसलिए इसे अधिक सटीक माना जाता है।

दशा प्रणालियों के विभिन्न प्रकार हैं, जिनमें से दो अष्टोत्तरी और विमशोत्तरी सबसे लोकप्रिय थीं, लेकिन समय के साथ, विमशोत्तरी दशा प्रणाली ने अन्य सभी दशा प्रणालियों को अपने कब्जे में ले लिया है। विंशोत्तरी प्रणाली 'त्रिकोणीय पहलुओं' पर आधारित है। ट्राइन यानी त्रिकोण ऊर्जा उत्पन्न करता है और यह भाग्य कारक को भी नियंत्रित करता है, इसलिए विमशोत्तरी किसी के अच्छे या बुरे समय की भविष्यवाणी करने के लिए सबसे अच्छी दशा प्रणाली है।

ग्रहों का गोचर

ग्रहों के गोचर की बात करें तो चूंकि वहां दशा प्रणाली है, इसलिए वैदिक प्रणाली में उन्हें महत्व दिया गया है। कई ज्योतिषी दशा और गोचर को नहीं जोड़ते हैं, जबकि ऐसा करना आवश्यक है।

वार्षिक भविष्यवाणियां

ताजिक नीलकंठी द्वारा विकसित वर्षफल भारतीय ज्योतिष प्रणाली का अभिन्न अंग बन गया है। पश्चिमी ज्योतिष, चंद्र ज्योतिष की तरह, 'सौर रिटर्न' नामक एक विशेषता है, लेकिन भारतीय ज्योतिष प्रणाली में स्नेहा और वैरा दृष्टि जैसे पहलुओं पर आधारित और अधिक पैरामीटर हैं। इसी तरह, पश्चिमी सौर रिटर्न में वे भाग्य के हिस्से, सफलता के हिस्से आदि को बहुत अधिक महत्व देते हैं, उसी तरह चंद्र ज्योतिष प्रणाली में सहम होते हैं, जिसकी आने वाले वर्ष की भविष्यवाणी करने में अहम भूमिका होती है। वर्षफल प्रणाली में मुंथा का अहम योगदान है।

संक्षेप में कहें तो भारतीय ज्योतिष में ज्योतिष के इस महान और सटीक विज्ञान का गहन ज्ञान है, जिसके उपयोग से कोई भविष्य की जानकारी प्राप्त कर सकताहै और कठिनाइयां आने से पहले सावधानी बरती जा सकती है।

स्टार गाइड

दैनिक गाइड

संभावित घटनाओं का संकलन, प्रति घंटा मार्गदर्शन, सटीक समय-सीमा और क्या करें और क्या न करें

लाइफ मीटर

जानिए अपनी शारीरिक और मानसिक स्थिति के विभिन्न पहलुओं का प्रतिशत

अनुकूलता

जानिए दूसरों से आपकी तरंगे कितनी मेल खाती है

Rahu - Ketu Transit