कृषि कानून वापस: अब आगे कैसा होगा राकेश टिकैत का सफर

Rakesh Tikait

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रकाश पर्व यानी गुरु नानक जयंती पर सुबह देश को संबोधित करते हुए कृषि कानून वापस लेने की घोषणा की। इसे लोगों ने मोदी सरकारा का चुनावी एजेंडा भी बताया, क्योंकि आगे पांच बड़े राज्यों में चुनाव होने हैं। इसके बाद अब पिछले एक साल से चल रहा किसान आंदोलन समाप्ति की ओर है। किसान आंदोलन का नेतृत्व करने वाले राकोश टिकैत कहा है कि कृषि कानून वापस होने के बाद भी अभी हम डटे रहेंगे, जब तक संसद में कृषि कानून रद्द नहीं हो जाता है। देखते हैं राकेश टिकैत के लिए आने वाला समय कैसा होगा, उनकी सूर्य कुंडली के आधार पर…

कृषि कानून वापस: ग्रह नहीं दिलाएंगे राकेश को इसका श्रेय

किसान नेता राकेश टिकैत का जन्म 4 जून 1969 को हुआ। उनकी कुंडली में मंगल स्वगृही है। उनके पास जमीन भी है और वे किसानों का नेतृत्व भी कर रहे हैं, लेकिन दूसरी ओर शनि नीचस्थ राशि में होने से अक्सर ही उन्हें अपनी मेहनत का पूरा लाभ नहीं मिल पाता है। वे किसान आंदोलन के अच्छे कार्यकर्ता बने, लेकिन इस कृषि कानून वापस हो जाने का पूरा श्रेय राकेश टिकैत को मिलना मुश्किल है। आगे आने वाले समय की बात करें, तो एक दिसंबर के बाद से राकेश टिकैत की मुश्किलें कुछ बढ़ सकती है। उनके स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत के साथ राजनीतिक कुछ परेशानियां भी उन्हें हो सकती है। वे कहीं ना कहीं आर्थिक दिक्कत का भी सामना कर सकते हैं।  हो सकता है वे 2024 को ध्यान में रखते हुए अपना कोई पोलिटिकल मंच तैयार करें।

कृषि कानून वापस- पांच राज्यों में  दिखे चुनाव

कृषि कानून वापस लेने पर देश में लोगों की प्रतिक्रिया तुरंत देखने को मिली। बहुत से लोगों ने इसे आगे आने वाले पांच महत्वपूर्ण राज्यों के चुनाव के कारण बीजेपी का यू-टर्न कहा। देश-विदेश के कई अखबारों ने भी इसे किसानों की जीत बताया है। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सबसे पहले कृषि कानून वापस लेने का स्वागत किया और आगे चुनावों में बीजेपी के साथ गठबंधन की बात भी कही।

Follow Us