https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

राहुल गांधी 2017 भविष्यवाणी: जानें कैसा रहेगा उनका आगामी वर्ष

राहुल गांधी 2017 भविष्यवाणी: जानें कैसा रहेगा उनका आगामी वर्ष

भारत पर दस साल तक शासन करने के बाद 2014 के लोकसभा चुनावों में करारी हार का सामना करने वाली कांग्रेस पार्टी के प्रति जनता का रूझान लगातार कम होता जा रहा है। जिसका एक बड़ा कारण राहुल गांधी को माना जा रहा है। दरअसल राहुल गांधी ने जिस भी चुनाव की कैंपेनिंग की उनमें ज्यादातर में कांग्रेस को मुंह की खानी पड़ी। आैर शायद यही कारण है कि पार्टी के अध्यक्ष पद पर अभी तक राहुल गांधी के नाम की घोषणा नहीं हुर्इ। कर्इ अालोचक एेसा मानते है कि मास अपील आैर राजनैतिक कौशल की कमी के कारण, राहुल पार्टी को उस स्तर पर ले आए है जहां से वे पार्टी को तो दूर खुद को भी उभारने में सक्षम नहीं हो सकते। तो क्या सितारे भी यही संकेत देते है ? क्या आगामी वर्ष में राहुल खुद को एक सफल राजनेता के रूप में साबित कर पाएंगे, आइए इस सवाल का जवाब गणेशजी से जानते हैः

राहुल गांधीजन्म
दिनांक:19 जून 1970
जन्म-समय: 14:28 (अनिश्चित)
जन्म-स्थान: नर्इ दिल्ली

सूर्य कुंडली
kundali

हमारे विशेषज्ञों द्वारा तैयार हस्तलिखित जन्मपत्री प्राप्त करें

अच्छी स्थिति में विराजमान ग्रह राहुल की जिंदगी पर राजनीतिक प्रभाव ड़ालते है
राहुल गांधी की कुंडली में, लग्न वर्गोत्तम है। साथ ही गुरू लग्न में विराजमान है आैर ये भी वर्गोत्तम है। नौवें भाव का स्वामी बुध भी वर्गोत्तम है। मंगल आैर सूर्य नौवें भाव में बैठे है जो उसके भाग्य स्थान के नौवें भाव में ” शुभ-कर्तरी योग ” बना रहे है। ये सभी पहलू राहुल को प्रभावशाली पाॅलिटिक्ल लीडर बनाते है। I

दूसरे भाव अौर ग्यारवें के स्वामी का नौवें भाव में होना ये दर्शाता है कि उन्हें बड़ी आसानी से राजनीतिक बागडोर सौंप दी गर्इ है आैर ये राहुल की जिंदगी में उनके परिवार की महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में भी बताता है। 2017 विस्तृत वार्षिक रिपोर्ट से जानें आपके जीवन के अलग-अलग क्षेत्रों में किस तरह के उतार-चढ़ाव आएंगे।

राहुल का भाग्य सफलता हासिल करने के लिए पर्याप्त नहीं लेकिन, नौवें भाव का स्वामी बुध आठवें भाव में विराजमान है, साथ ही दूषित ग्रह जन्म के चंद्र से पांचवें आैर नौवें भाव में विराजमान है। एेसे में राहुल गांधी का भाग्य सार्वजनिक जीवन को सफल बनाने के लिए पर्याप्त मजबूत नहीं है। ये उनके राजनैतिक कैरियर में अवरोध के भी संकेत देता है।

खोर्इ बुनियाद को फिर से प्राप्त करने का मौका
राहुल गांधी वर्तमान में मंगल की महादशा आैर शुक्र की अंतर्दशा से प्रभावित है। क्यूंकि शुक्र दसवें भाव में विराजमान है, एेसे में आगामी वर्ष में उनके पास अभी भी अपने पार्टी के भाग्य को पुर्नजीवित करने का मौका है। हाल के चुनावों में मिली असफलताआें के बावजूद, वे एक ताकत माने जाते है।

साथ ही, गोचर का गुरू सितंबर 2017 के बाद लग्न से होकर गुजरेगा, जो राहुल को खोया धरातल प्राप्त करने के अवसर प्रदान करेगा। उनके नेतृत्व को लेकर होने वाली प्रतिकूल टिप्पणियों के बावजूद वे कांग्रेस पार्टी के संगठनात्मक ढांचे में एक प्रभावशाली पद पर बने रहेंगे।

कांग्रेस के प्रति लोगों की धारणाआें को बदलना राहुल गांधी के लिए चुनौतीपूर्ण होगा
राहुल गांधी की कुंडली बताती है कि वे साढ़े साती के द्वितीय चरण से गुजर रहे है एेसे में उनके लिए राह कठिन होगी। कुछ डर, संदेह आैर असुरक्षा की भावना राहुल को आगामी वर्ष में सकारात्मक पक्ष का लाभ उठाने की अनुमति नहीं देगा। इस प्रकार ये उसके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होगा कि वे ना केवल अवसरों को समझें बल्कि उनका सही से उपयोग भी करें। अपनी धन-संपत्ति से जुड़े मसलों का समाधान पाने के लिए खरीदें समृद्घि एक प्रश्न पूछे रिपोर्ट।

राहु के प्रभाव से मामले पेचीदे होंगे
कर्क राशि में गोचर का राहु कुछ कठिनार्इयां लेकर आएगा। जिससे प्रयासों के अनुरूप सफलता नहीं मिल सकती। उनकी सामाजिक जिंदगी आैर लोकप्रियता पर नकारात्मक असर पड़ सकता है। हालांकि वे अधिक आत्मविश्वासी नजर आएंगे आैर अपने सोर्इ किस्मत को जगाने के लिए कुछ निर्णायक कदम भी उठाएंगे आैर वे कुछ सफलता पाने में सफल भी होंगे लेकिन कांग्रेस पार्टी आैर उनके नेतृत्व को लेकर लोगों की धारणाआें को बदलना उनके लिए मुश्किल होगा।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
तन्मय के. ठाकर
गणेशास्पीक्स डाॅटकाॅम टीम

अपने मसलों को लेकर सही मार्गदर्शन पाने के लिए ज्योतिषी से बात कीजिए।

Follow Us