https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

लोकसभा चुनाव 2019: अमित शाह इस बार बन पाएंगे भाजपा के चाणक्य?

लोकसभा चुनाव 2019: अमित शाह इस बार बन पाएंगे भाजपा के चाणक्य?

भाजपा अध्यक्ष और पीएम नरेंद्र मोदी के सबसे विश्वास पात्र अमित शाह लोकसभा चुनाव 2019 के लिए गांधीनगर सीट से चुनावी महासमर में भाग्य आजमाने उतरे हैं। इस सीट पर इससे पहले लालकृष्ण आडवाणी, अटल बिहारी वाजपेयी जैसे दिग्गज कांग्रेस नेताओं को पछाड़कर संसद पहुंच चुके हैं। अमित शाह के लिए यह सीट पूरी तरह से हाथ में है। उनकी हार की कोई गुंजाइश नजर नहीं आती है। फिर भी इस साल शनि-केतु की युति, राहु-केतु का राशि परिवर्तन अमित शाह की कुंडली पर असर डाल रहा है। देखते हैं लोकसभा चुनाव 2019 के लिए क्या कहती है इनकी कुंडली

अमित शाह की कुंडली

नाम- अमित भाई शाह
तारीख- 22 अक्टूबर 1964
समय- सुबह 5.25 एएम (अपुष्ट)
स्थान- मुंबई

kundali

अमित शाह की कुंडली का विश्लेषण

कन्या लग्न की कुंडली में अभी मिथुन राशि से गुजर रहा राहु जन्म के राहु के ऊपर से गुजर रहा है। जन्म का राहु भी दसवें स्थान में है। वहीं गोचर का शनि अपनी तीसरी दृष्टि से छठे भाव में बैठे शनि को देख रहा है। गोचर यानी की इस समय वृश्चिक राशि का गुरु अपनी सातवीं दृष्टि से जन्म के गुरु को देख रहा है। अभी अमित शाह सूर्य की अंतर्दशा से गुजर रहे हैं।

अमित शाह के लिए क्या कहते हैं इस बार के सितारें

सभी ग्रहों और गोचर ग्रहों की स्थितियों को आकलन करने पर गणेशजी पाते हैं कि अमित शाह के लिए चुनाव जीतना ज्यादा मुश्किल नहीं होगा। वे ना केवल अपनी सीट बल्कि पार्टी के लिए दूसरी जगहों को सीट भी जीताने के काबिल बनेंगे। लोग उनसे प्रभावित होंगे। वोटिंग के दिन चंद्रमा की स्थिति भी वोटर्स को अमित शाह के पक्ष में मतदान करने के लिए प्रेरित करेगी।

अमित शाह के लिए ग्रहों का निष्कर्ष

गणेशजी के अनुसार अमित शाह को इस बार ग्रहों का काफी सपोर्ट मिलेगा। वे गांधीनगर की सीट को आसानी से निकाल लेंगे। वहीं वे जहां-जहां पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करने वाले हैं, उन सीटों पर भी बीजेपी को फायदा होगा।

आचार्य भट्टाचार्य के इनपुट के साथ
गणेशास्पीक्स डॉट कॉम

ये भी पढ़ें-
लोकसभा चुनाव 2019 के लिए क्या कहती है सोनिया गांधी की कुंडली
लोकसभा चुनाव 2019 में भारत-पाकिस्तान के रिश्तों का असर
आम चुनाव 2019 पर शनि-केतु की युति का प्रभाव
नरेंद्र मोदी की कुंडली का विश्लेषण

Follow Us