https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

Tusu Parab: टुसू पर्व कब, क्यों और कैसे मानते हैं

टुसू पर्व कब, क्यों और कैसे मानते हैं

टुसू पर्व के रुप में मनाते हैं मकर संक्रांति

सूर्य के उत्तरायण यानी सूर्य का धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश शुभ माना जाता है। इसी दौरान दिन बड़े होने लगते हैं और प्रमुख पर्व के रुप में मकर संक्रांति का त्यौहार मनाया जाता है। मकर संक्रांति का पर्व पूरे देश में अलग-अलग नामों से मनाया जाता है। इसी क्रम में झारखंड में मकर संक्रांति को टुसू पर्व या मकर पर्व के नाम से मनाया जाता है। खेतों में तैयार हुर्इ नर्इ फसल के स्वागत में जब भारतवर्ष के अधिकांश लोग मकर सक्रांति का त्यौहार मनाते है तब जंगलों और पहाड़ों के राज्य झारखण्ड के ग्रामीण, आदिवासी अपनी बेटी टुसू मनी के बलिदान की याद में राज्य का पारंपरिक त्यौहार टुसू मनाते हैं। यह मुख्य रूप से झारखंड का त्यौहार है, लेकिन उड़ीसा और बंगाल में भी इसकी धूम होती है।

दीनी टुसू मनी की कहानी

झारखंड में प्रचलित लोक कथा के मुताबिक टुसू मनी का जन्म पूर्वी भारत के एक कुर्मी किसान परिवार में हुआ था। झारखंड की सीमा के नजदीक उड़ीसा के मयूरभंज की रहने वाली दीनी टुसू मनी की खूबसूरती के चर्चे हर तरफ थे। 18वीं सदी में बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला के कुछ सैनिक भी उसकी खूबसूरती के दीवाने थे। एक दिन उन्होंने गलत नियत से टुसू मनी का अपहरण कर लिया। जैसे ही यह खबर नवाब सिराजुद्दौला को मिली, तो उन्होंने इस घटना के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर की और सैनिकों को सजा देने के साथ ही टुसू मनी को सम्मान के साथ वापस घर भेज दिया। घर वापस जाने पर तात्कालीन रूढ़ीवादी समाज ने टुसू मनी की पवित्रता पर प्रश्नचिन्ह लगाकर उसे स्वीकारने से मना कर दिया। इस घटना से दुखी टुसू मनी ने स्थानीय दामोदर नदी में जान देकर अपनी पवित्रता का प्रमाण दिया। जिस दिन टुसू मनी ने अपनी जान दी, उस दिन मकर संक्राति थी। इस घटना ने पूरे कुर्मी समाज खासकर महिलाओं और लड़कियों को उद्वेलित कर दिया। तभी से कुर्मी समाज अपनी बेटी के बलिदान की याद में टुसू पर्व मनाता अा रहा है। आज झारखंड के आदिवासियों के साथ ही अन्य जनजाति के अलावा क्षेत्र के अन्य लोग भी मना रहे हैं।

ऐसे मनाते हैं टुसू पर्व

झारखंड खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में मकर संक्रांति से करीब एक माह पहले पौष माह से ही टुसू मनी की मिट्टी की मूर्ति बना कर उसकी पूजा शुरू हो जाती है। मकर संक्रांति के दिन इस पर्व का समापन मूर्ति को स्थानीय नदी में प्रवाहित कर किया जाता है। इस दौरान टुसू और चौड़ल (एक पारंपरिक मंडप) सजाने का काम भी होता है। इस काम को केवल कुंवारी लड़कियां ही करती हैं। विसर्जन के लिए नदी पर ले जाने के दौरान स्थानीय लोग टुसू के पारंपरिक गीत गाते और नाचते हुए चलते हैं।

बनता है खास व्यंजन

इस मौके पर स्थानीय लोग अपने घरों में गुड़, पीठा और चावल अादि बनाया जाता है। व्यंजन में नारियल का भी प्रयोग होता है। टुसू पर्व के दौरान जगह-जगह पर मुर्गा लड़ार्इ की प्रतियोगिता भी होती है। कई स्थानों पर टुसू मेला का अायोजन भी किया जाता है।

देश में अलग-अलग नाम से मनायी जाती है मकर संक्रांति

यह पर्व भारत के साथ ही नेपाल व अन्य क्षेत्रों में विभिन्न नाम और परंपरा के साथ मनाया जाता है।

मकर संक्रांति :
छत्तीसगढ़, गोआ, ओड़ीसा, हरियाणा, बिहार, झारखंड, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, केरल, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर, राजस्थान, सिक्किम, उत्तर प्रदेश, उत्तराखण्ड, बिहार, पश्चिम बंगाल, और जम्मू

टुसू पर्व :
झारखंड, बंगाल, ओड़िसा

ताइ पोंगल, उझवर तिरुनल :
तमिलनाडु

उत्तरायण :
गुजरात, उत्तराखंड

माघी :
हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब

भोगाली बिहु :
असम

शिशुर सेंक्रात :
कश्मीर घाटी

खिचड़ी :
उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार

पौष संक्रांति :
पश्चिम बंगाल

मकर संक्रमण :
कर्नाटक

नेपाल :
माघे संक्रांति या ‘माघी संक्रांति’ ‘खिचड़ी संक्रांति’

गणेशजी के आशीर्वाद सहित
भावेश एन पट्टनी
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

यह भी पढ़ें-

मकर संक्रांति का महत्व और सूर्य पूजा का फलमूलांक के अनुसार जानिए आपका कॅरियरअपने ग्रह दोषों को पहचानिए और दूर करिए दुर्भाग्य

Follow Us