https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

Surya Grahan 2020 | solar eclips 2020 | साल 2020 का आखिरी सूर्यग्रहण और राशियों पर प्रभाव

सूर्यग्रहण

2020 का आखिरी सूर्यग्रहण इसी महीने होगा। 14 दिसंबर को होने वाला सूर्यग्रहण इस साल का सबसे आखिरी सूर्यग्रहण होगा। सूर्य ग्रहण भारत में शाम को 07 बजकर 03 मिनट से शुरू होगा। सूर्य ग्रहण की समाप्ति 14 दिसंबर को मध्यरात्रि उपरान्त यानि 15 दिसंबर 2020 की 12 बजकर 23 मिनट पर होगी। यह सूर्यग्रहण लगभग पांच घंटे का होगा। हालांकि बहुत से विशेषज्ञ मानते हैं कि भारत में नहीं दिखने के कारण इसका असर भारत पर नहीं होगा, लेकिन इस आकाशीय घटना का असर सभी राशियों पर होगा। हम आपको बता रहे हैं कि किस राशि पर सूर्यग्रहण का क्या असर होगा और इसकी अनहोनी से कैसे बचा जाएं।

सूर्य ग्रहण कब है?

सूर्य ग्रहण 14 दिसंबर 2020 को है।

सूर्य ग्रहण समय

भारत में शाम शाम को 07 बजकर 03 मिनट से शुरू होगा। सूर्य ग्रहण की समाप्ति 14 दिसंबर को मध्यरात्रि उपरान्त यानि 15 दिसंबर 2020 की 12 बजकर 23 मिनट पर होगी.

मेष राशि

आर्थिक हानि के योग बनेंगे। सेहत से जुड़ी समस्याएं परेशान करेंगी। मन में अनजाना डर रहेगा और गुप्त शत्रुओं से परेशानी होगी। हालांकि सामान्य लाभ की संभावना बनेगी। मन में आध्यात्मिक विचारों का समावेश होगा।
उपाय- ग्रहणकाल में गायत्री मंत्र का लगातार जाप करें।

वृषभ राशि

सेहत के प्रति सावधानी रखना बेहद जरूरी होगा। बीमार पड़ने की प्रबल संभावना है। किसी तरह की शारीरिक व्याधि या चोट लग सकती है। जीवनसाथी को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी आ सकती हैं। गृहस्थ जीवन में तनाव बढ़ेगा। बिजनेस में उतार-चढ़ाव की संभावना रहेगी।
उपाय – भगवान विष्णु की उपासना करें और ग्रहणकाल में विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें।

मिथुन राशि

शारीरिक तौर पर नुकसान होने की संभावना रहेगी। शत्रु परेशान करने की कोशिश करेंगे, लेकिन वे सफल नहीं हो पाएंगे। आर्थिक लाभ होने के योग बनेंगे। नौकरी में सफलता मिलेगी। मानसिक तनाव दूर होगा।
उपाय- भगवान शिव की उपासना करें और ग्रहणकाल में ओम नम: शिवाय मंत्र का जाप करें।

कर्क राशि

खर्चों में वृद्धि होगी और इनकम में कमी के संकेत मिलेंगे। महत्वपूर्ण कार्यों में विलंब होने से मन परेशान रहेगा। संतान से संबंधित चिंता रहेगी। प्रेम संबंधों में कष्ट पूर्ण स्थितियों का जन्म होगा। पूजा पाठ में विघ्न आएंगे।
उपाय- ग्रहणकाल में भगवान शिव और विष्णु के मंत्रों का जाप करना लाभदायक होगा।

सिंह राशि

कार्यों में सफलता मिलेगी। रुके हुए पुराने काम भी पूर्ण होने से मन में प्रसन्नता रहेगी। आर्थिक लाभ होगा। आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी। परिवार में खुशियां आएंगी। जमीन जायदाद का लाभ मिलेगा।
उपाय- ग्रहण काल भगवान सूर्य के मंत्रों का जाप करें। आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें।

कन्या राशि

समस्याओं से मुक्ति मिलेगी। आर्थिक रूप से लाभदायक समय होगा। प्रयास करने से कामों में सफलता मिलेगी और रुके हुए काम बनने लगेंगे। जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे और करियर में सफलता के योग बनेंगे।
उपाय- भगवान विष्णु के मंत्र ओम नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का ग्रहणकाल के दौरान जाप करना श्रेष्ठ रहेगा।

तुला राशि

आर्थिक चुनौतियों में बढ़ोतरी होगी। खर्चों की वृद्धि और धन हानि संभव होगी। निवेश करने से बचना जरूरी होगा, नहीं तो नुकसान संभव है। बोलचाल में सही भाषा का प्रयोग ना करने से नुकसान की संभावना होगी।
उपाय- ग्रहण काल में माता लक्ष्मी के साथ माता दुर्गा के मंत्रों का जाप करना अच्छा रहेगा।

वृश्चिक राशि

सूर्य ग्रहण के प्रभाव से आपको शारीरिक कष्ट परेशान करेंगे। मानसिक कष्ट, शारीरिक रूप से चोट इत्यादि लगने या बीमार पड़ने की संभावना होगी। बेवजह की चिंताओं से दूर रहें। आपके आत्मबल में कमी महसूस होगी। सकारात्मक सोच रखें।
उपाय- ग्रहणकाल के दौरान हनुमान चालीसा का अधिक से अधिक पाठ करें।

धनु राशि

धन हानि होने की प्रबल संभावना बनेगी। इस दौरान धन का इन्वेस्टमेंट करना नुकसानदायक हो सकता है। शारीरिक और मानसिक तनाव से ग्रसित रहेंगे, क्योंकि स्वास्थ्य कमजोर रहने से बीमार पड़ने की संभावना होगी। बेवजह की यात्राएं परेशानी बढ़ाएंगी।
उपाय- भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की एक साथ स्तुति करें।

मकर राशि

आर्थिक तौर पर यह समय लाभ प्रदान करने वाला होगा। आपको उत्तम प्रगति के अवसर मिलेंगे और प्रचुर मात्रा में धन लाभ होगा। स्वास्थ्य कष्ट परेशान कर सकते हैं लेकिन महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति होने और कामों के समय से पूरा होने से आप अच्छी स्थिति में रहेंगे।
उपाय- ग्रहण काल में गायत्री चालीसा का पाठ करते रहें।

कुंभ राशि

काम के सिलसिले में किए गए प्रयास सफल रहेंगे। कार्यक्षेत्र में पद वृद्धि की संभावना रहेगी और आपको अच्छे नतीजे हासिल होंगे। मन किसी अनजाने डर से परेशान रहेगा। रोग उत्पत्ति के प्रति सावधानी रखें और पिता से संबंधों पर असर पड़ेगा।
उपाय- ग्रहण काल में राम रक्षा स्तोत्र का यथासंभव पाठ करें।

मीन राशि

मानसिक चिंताओं में बढ़ोतरी होगी। संतान की तरफ से चिंताएं परेशान करेंगी। किसी तीर्थ स्थान पर जाकर स्नान करने से लाभ होगा। बिना प्लानिंग किये बेवजह की यात्रा पर ना जाएं, नुकसान होगा। आर्थिक तौर पर सामान्य नतीजे हासिल होंगे। मान सम्मान में कमी आएगी।
उपाय- ग्रहण के बाद भगवान शिव का अभिषेक करें। ग्रहण के दौरान शिव पंचाक्षर मंत्र का जाप करें।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

ये भी पढ़ें-
मेष राशि के लिए कैसा होगा 2021?
कुंभ राशि के लिए 2021 क्या सौगात लेकर आने वाला है?
तुला राशि के लिए क्या छिपा है आने वाले साल के गर्भ में?

Follow Us