https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

mercury in aquarius: बुध का कुम्भ राशि में गोचर आपकी राशि पर क्या प्रभाव डालेगा?

mercury in aquarius: बुध का कुम्भ राशि में गोचर आपकी राशि पर क्या प्रभाव डालेगा?

मकर राशि में गोचर का बुध, सूर्य और शनि से युति (mercury in aquarius) कर रहा है। 31 जनवरी, 2020 को सूर्य के सबसे निकट का ग्रह बुध कुंभ राशि में गोचर कर रहा है। कुंभ राशि में बुध का प्रभाव हमें नई चीजें सीखने की इच्छा से भर देगा क्योंकि हम ज्ञान के भूखे हैं और गोचर अवधि के दौरान नए और मूल विचारों के लिए खुले हैं। जब बुध का कुम्भ राशि में गोचर होता है, तो आमतौर पर कुछ हटकर सोचने की प्रवृत्ति होती है। हमारी सोच भी अधिक प्रगतिशील और वस्तुपरक हो जाती है। हम अपनी विचार प्रक्रिया में और दूसरों के साथ संवाद करते समय भी अधिक सहज और उदार होंगे। जो लोग क्रिएटिव और नवीन विचारों के प्रति रूझान रखते हैं, उनके लिए यह सही समय हो सकता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बुध ग्रह के कुंभ राशि में गोचर के दौरान आपकी क्रिएटिविटी और बुद्धिमता अपने चरम पर होगी। कुंभ राशि में बुध का प्रभाव न केवल आपकी रचनात्मक सोच और संचार बल्कि आपके कॅरियर, व्यवसाय, फाइनेंस, प्रेम और वैवाहिक जीवन और स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है। यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि आपकी कुंडली में बुध किस भाव में गोचर करेगा।

इस अवधि में बुध गतिशील रहेगा और 7 अप्रैल, 2020 तक कुंभ राशि में वक्री रहेगा और उसके बाद यह मीन राशि में गोचर करेगा। जिन जातकों की कुंडली में बुध वक्री या प्रतिकूल है, वे इस गोचर काल में अधिक प्रभावित होंगे। 17 फरवरी से 10 मार्च तक वक्री बुध उनके जीवन में कुछ आर्थिक उथल-पुथल ला सकता है।

आपके जीवन में आने वाली समस्याओं को बारे में जन्मपत्री के माध्यम से जानिए…

बुध के कुम्भ में गोचर (mercury in aquarius) का सभी राशियों पर प्रभाव

मेष राशि

मेष राशि वालों के लिए बुध तीसरे और छठे भाव का स्वामी है। कुंभ राशि में गोचर के दौरान बुध आपकी कुंडली के 11वें भाव में गोचर करेगा। यह घर व्यापार और अप्रत्याशित स्रोतों से लाभ, विदेशी भूमि से एक व्यावसायिक क्षमता, एक मित्र मंडली और एक बड़े भाई से जुड़ा है। कॅरियर के मोर्चे पर आपको अपनी कड़ी मेहनत और ईमानदारी से किए गए प्रयासों का लाभ मिलने की संभावना है। साथ ही, आपकी कमाई की शक्ति में वृद्धि हो सकती है और आपके द्वारा अधिक इन्वेस्टमेंट करने की संभावना बन सकती है। इसलिए, इन निवेशों से आपका रिटर्न बढ़ेगा। फाइनेंशियल मोर्चे पर यह अवधि थोड़ी आकर्षक और गतिशील रहेगी। आपके कार्यों में आत्मविश्वास और उत्साह का प्रदर्शन होगा। यह आपको वित्तीय लाभ आकर्षित करने में मदद कर सकता है लेकिन यह आपके दृष्टिकोण में यथार्थवादी होने में मदद करेगा।

वृषभ राशि

वृषभ राशि वालों के लिए बुध दूसरे और पांचवें भाव का स्वामी है। बुध के कुंभ राशि में गोचर के दौरान यह आपकी कुंडली के दसवें भाव में गोचर करेगा। यह घर कॅरियर, पेशे, प्रसिद्धि, कद, समाज में स्थिति और पदोन्नति का कारक है। आपके जीवन के अधिकांश क्षेत्रों में अधूरे पड़े कार्यों में तेजी आने की संभावना है और हो सकता है कि आपको उनसे कोई अच्छा लाभ मिले। दसवें भाव में विराजमान बुध का प्रभाव आपको अपने कार्यों में अधिक तेजी से काम करने में मदद कर सकता है। इस गोचर की अवधि आपके कॅरियर में प्रगति के लिए अनुकूल प्रतीत होती है। आप अपनी बुद्धिमत्ता और त्वरित बुद्धि के कारण सही निर्णय लेने में सक्षम हो सकते हैं। लेकिन इस चरण के दौरान आपका पेशेवर जीवन व्यस्त रह सकता है। आप अपनी कड़ी मेहनत, निरंतर ईमानदार प्रयासों और सही दिशा में सक्रिय स्वभाव के कारण करियर के मोर्चे पर सफल हो पाएंगे।

मिथुन राशि

मिथुन राशि वाले जातकों के लिए बुध प्रथम और चतुर्थ भाव का स्वामी है। कुंभ राशि में गोचर के दौरान बुध आपकी कुंडली के नौवें भाव में गोचर कर रहा है। यह भाव पिता, लंबी दूरी की यात्रा, वित्तीय संभावित वादा, धर्म, भाग्य और गुरु का प्रतिनिधित्व करता है। आप में से कुछ लोगों को ऑनसाइट प्रोजेक्ट सफलतापूर्वक प्राप्त हो सकते हैं। मिथुन राशि के छात्र अपनी उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए विदेश यात्रा कर सकते हैं क्योंकि विदेशों में स्थित संस्थानों या विश्वविद्यालयों में प्रवेश मिलने की संभावना अधिक होती है। कॅरियर के मोर्चे पर, आप वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने की योजना बना सकते हैं। आप महत्वाकांक्षा की भावना और कार्यस्थल पर अपनी स्थिति को उन्नत करने की इच्छा से प्रेरित हो सकते हैं। आपके बोलने और काम से संबंधित अपने दृष्टिकोण को बेहतर तरीके से व्यक्त करने की संभावनाएं बन रही हैं। इस दौरान आपके आत्मविश्वास का स्तर भी बढ़ेगा।

कर्क राशि

कर्क राशि के लिए बुध तीसरे और बारहवें भाव का स्वामी है। कुम्भ राशि में गोचर के दौरान बुध आपकी कुंडली के आठवें भाव में गोचर करेगा। यह घर विरासत, दुर्भाग्य, जीवन में अचानक होने वाली घटनाओं, गुप्त विद्या, सामान्य ज्ञान, जीवन की लंबाई और कर्ज, किसी के कर्ज से अप्रत्याशित लाभ, अनुसंधान और धार्मिक झुकाव, गहरा अंधेरा और किसी और के धन से जुड़ा है। अष्टम भाव में बुध के प्रभाव के कारण, आप में से कुछ को विरासत और विवेकपूर्ण निवेश से लाभ हो सकता है। शोध कार्य में रुचि रखने वाले जातकों को अपने क्षेत्र में सफलता मिलने की संभावना है। आपके लिए अधूरी या लंबित प्रोजेक्ट्स या थीसिस को सफलतापूर्वक और सकारात्मक रूप से पूरा करने का यह सबसे अच्छा समय है। बुध का यह गोचर आपके लिए शुभ है और यह आपको सभी लंबित प्रोजेक्ट्स या थीसिस कार्यों में सफलता प्रदान करने की संभावना है। आपके लिए बेहतर होगा कि वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए आप अपने प्रयासों को अभी से तेज कर दें। आपके लिए यह मददगार होगा कि आप अपने आधिकारिक कार्यों के साथ खिलवाड़ करने से बचें। इसके अलावा, सांसारिक चीजों के प्रति रूखा होने से बचें क्योंकि यह आपके लिए मददगार होगा। अपने क्षेत्र में सफल होने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अच्छे और बुरे लोगों की पहचान करना सीखें।

सिंह राशि

सिंह राशि के लिए बुध दूसरे और 11वें भाव का स्वामी है। बुध के कुंभ राशि में गोचर के दौरान यह आपकी कुंडली के सातवें भाव में गोचर करेगा। इस घर को दाम्पत्य जीवन, साथी, व्यावसायिक संभावनाओं, आपके जीवन में अन्य लोगों, लोकप्रियता और समर्थन का घर माना जाता है। रोमांटिक और वैवाहिक जीवन के लिए यह गोचर अनुकूल है। इस दौरान आप और आपका पार्टनर एक-दूसरे से बिना शर्त प्यार करेंगे। एक-दूसरे के प्रति आपके प्यार की भावना बढ़ेगी और आप दोनों एक-दूसरे को बेहतर ढंग से समझ पाएंगे। आप दोनों के दिल एकमेल होंगे और दोनों में एक-दूसरे के लिए विचारों और भावनाओं की अधिक स्पष्टता होगी। इस अवधि के दौरान आप अपने रिश्ते में सकारात्मक ऊर्जा का अनुभव कर सकते हैं। सप्तम भाव में बुध का प्रभाव आपको निरंतर चर्चा या अपने उन्मुखीकरण के तरीके के माध्यम से अतीत के सभी मतभेदों को सुलझाने में मदद करेगा।

कन्या राशि

कन्या राशि के जातकों के लिए बुध पहले और दसवें भाव का स्वामी है। कुंभ राशि में गोचर के दौरान बुध आपकी कुंडली के छठे भाव में गोचर कर रहा है। यह घर ऋण, बीमारी, मुकदमेबाजी, मातृ पक्ष, दैनिक कार्यालय वातावरण, तलाक, बाधाओं और शत्रुओं का प्रतिनिधित्व करता है। इस चरण के दौरान, आपकी इम्यूनिटी बेहतर होने की संभावना है। हालांकि, आपके लिए यह अच्छा होगा कि आप अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में नियमित गतिविधियां करते हुए अपने मानसिक तनाव का प्रबंधन करें। अन्यथा, यह गोचर आपके लिए किसी बड़ी स्वास्थ्य समस्या का संकेत करता है। आने वाले समय में आप अपनी बुद्धि और चातुर्य को बेहतर तरीके से लागू करने में सक्षम होंगे। यह आपको तनावपूर्ण स्थितियों से निपटने में मदद कर सकता है। आपके लिए इस अवधि के दौरान नकारात्मक भावनाओं से बचना सबसे अच्छा होगा क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है।

तुला राशि

तुला राशि वालों के लिए बुध नौवें और बारहवें भाव का स्वामी है। बुध के कुंभ राशि में गोचर के दौरान यह आपकी कुंडली के पांचवें भाव में गोचर करेगा। जन्मकुंडली का यह घर बुद्धि, संतान, पिछले जन्म के अच्छे कर्मों, मनोरंजन, रचनात्मकता, आत्म-अभिव्यक्ति, अचानक वित्तीय लाभ, उच्च शिक्षा, हृदय और प्रेम के मामलों से जुड़ा है। इस चरण के दौरान, आपमें एनर्जी और उत्साह बढ़ा-चढ़ा रहेगा। इससे आपको विशिष्ट चीजों में भाग लेने में मदद मिलेगी। लचीला और सुझावों के लिए अधिक खुला होना विवादात्मक होने के बजाय आपके लिए अधिक सहायक होगा। विद्यार्थियों के लिए बेहतर होगा कि आप अपनी पढ़ाई में अतिरिक्त मेहनत और समय लगाएं। पंचम भाव में बुध के प्रभाव के कारण आपको शिक्षा में कुछ बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। आपके लिए बेहतर होगा कि आप केवल अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करें और बाधाओं की चिंता करने के बजाय उस क्षेत्र में आगे बढ़ें जो आप चाहते हैं।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि के लिए बुध आठवें और ग्यारहवें भाव का स्वामी है। बुध, कुंभ राशि में गोचर के दौरान आपकी कुंडली के चौथे भाव में गोचर करेगा। यह खाना संपत्ति, माता, गृह सुख, वाहन, जीवन में विलासिता और सिंहासन से जुड़ा है। इस अवधि के दौरान, इस बात की संभावनाएं हैं कि आप शांतिपूर्वक अपना जीवन जिएंगे। आप में से कुछ लोग नई संपत्ति खरीद सकते हैं या संपत्ति संबंधी मामलों के लिए एक सौदे पर हस्ताक्षर कर सकते हैं। आप चल संपत्ति जैसे कार या अचल संपत्ति जैसे घर या जमीन का टुकड़ा भी खरीद सकते हैं। आपका मिलनसार स्वभाव आपको अपने परिवार के सदस्यों पर निर्भर बना सकता है। कुंभ राशि में बुध के गोचर के दौरान आप परिवार के साथ बाहर घूमने का आनंद ले सकते हैं।

धनु राशि

धनु राशि वालों के लिए बुध सातवें और दसवें भाव का स्वामी है। बुध आपकी कुंडली के तीसरे भाव में गोचर कर रहा है। ज्योतिष में इस घर को साहस, आस-पास के परिवेश, प्रयास, संचार, भाई-बहन, आपकी संपत्ति की हानि, आपके माता-पिता और भाई-बहनों की मृत्यु का घर माना जाता है। यह संकेत देता है कि आपके द्वारा अब तक की गई आपकी मेहनत का लाभ मिलने का समय आ रहा है। साथ ही, यह आपके लिए एक शुभ समय है क्योंकि आपकी इनकम बढ़ेगी और इन्वेस्टमेंट से लाभ मिलेगा। आपकी वित्तीय स्थिति के लिए यह अवधि आकर्षक और गतिशील रह सकती है। इस अवधि के दौरान आपके कार्यों में अधिक उत्साह और आत्मविश्वास देखने को मिलेगा जिसके कारण आपको फाइनेंशियल लाभ होगा। इस चरण के दौरान यथार्थवादी दृष्टिकोण रखने से वित्तीय लाभ को आकर्षित करने में अधिक मदद मिलेगी।

मकर राशि

मकर राशि के जातकों के लिए बुध छठे और नौवें भाव का स्वामी है। बुध के कुंभ राशि में गोचर के दौरान यह आपकी कुंडली के दूसरे भाव में गोचर करेगा। यह घर फाइनेंस, परिवार और वाणी का कारक होता है। इस अवधि के दौरान, आप अपने अनुभव और वित्तीय कौशल का चतुराई से उपयोग करते हुए परिस्थितियों से अधिक कुशलता से निपटने में सक्षम हो सकते हैं। बुध के कुम्भ में गोचर का प्रभाव आपको अधिक जटिल परियोजनाओं को समझने में मदद करेगा। साथ ही, यह आपको अधिक कुशलता से बातचीत करने में मदद करेगा। इसलिए, इस चरण के दौरान नए सौदों और अनुबंधों पर हस्ताक्षर करने की अच्छी संभावनाएं बन रही हैं।

कुंभ राशि

कुम्भ राशि के लिए बुध पंचम और अष्टम भाव का स्वामी है। बुध, कुंभ राशि में गोचर के दौरान आपकी कुंडली के पहले भाव (लग्न भाव) में गोचर करेगा। यह घर आत्मा, व्यक्तित्व, मानसिक क्षमताओं और जीवन में विकट स्थितियों से निपटने की क्षमता का प्रतिनिधित्व करता है। आपका ध्यान इस अवधि के दौरान उच्च रचनात्मक संतुष्टि प्राप्त करने और कुछ नया करने की ओर स्थानांतरित हो सकता है। गोचर की अवधि आपके लिए शुभ है क्योंकि यह आपको नए विचार उत्पन्न करने और नई रणनीतियां बनाने में मदद करेगी। यह आपको जीवन में आगे बढ़ने में मदद कर सकता है। बुध के कुंभ राशि में गोचर के दौरान आपके सामने कुछ दिलचस्प विचार या बौद्धिक दृष्टिकोण आ सकते हैं। प्रथम भाव में बुध का प्रभाव आपके स्वरूप को अधिक आकर्षक बना सकता है। आपको सम्मान, प्रशंसा और सम्मान प्राप्त होने की संभावना है। गोचर की अवधि के दौरान आपके विचारों में अधिक शुद्धता और आपके दृष्टिकोण में ईमानदारी आएगी।

मीन राशि

मीन राशि के जातकों के लिए बुध चौथे और सातवें भाव का स्वामी है। कुंभ राशि में गोचर के दौरान बुध आपकी कुंडली के बारहवें भाव में गोचर कर रहा है। यह घर खर्च, जेल, विदेश यात्रा, बिस्तर सुख, बिस्तर गतिविधियों, नुकसान, नींद पैटर्न, विदेशी भूमि, अस्पताल और प्रतिकूलता से जुड़ा हुआ है। 12वें भाव में बुध का प्रभाव आपकी आर्थिक योजना के लिए चेतावनी देता है। आपका लापरवाह रवैया या निजी संपत्ति को बहुत जल्दी जमा करने का प्रलोभन आपकी इनकम को प्रभावित कर सकता है। आपकी कमाई की क्षमता के बारे में अति आत्मविश्वास आपको भारी पड़ सकता है। इसके विपरीत, यह आपको अनुचित जोखिम लेने के लिए प्रेरित कर सकता है, जैसे कि आपकी सीमा से अधिक उधार लेना। गोचर के दौरान कुछ समस्याएं और व्यवधान आ सकते हैं। इस प्रकार, आप विचारों और नीतियों को कुशलता से लागू करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं।

अपनी समस्याओं का व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, अभी ज्योतिषी से बात करें!

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम