https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

फेंग सुइ में योग्य स्थान का महत्व

फेंग सुइ एक कला है जो वस्तुओं को योग्य स्थान में जमाने से समृद्घि देता है। फेंग सुइ मे बहुत सारा मार्गदर्शन उपलब्ध है और वह चीज़ को उसके योग्य स्थान पर रखने में सबसे अधिक महत्व सोने की जगह और काम करने के मेज के स्थान को दिया गया है जिससको को कि कमांड पोजिशन कहा जाता है। श्रेष्ठ कमांड पोजिशन कमरे के कोने से देख सकते हैं जो कि प्रवेश द्वार से तिरछे सबसे दूर होता है। कमरे के सबसे दूर कोने में खड़े रह कर भी प्रवेश द्वार देखा जा सकता है लेकिन वह बिल्कुल सामने नहीं होता, इसको कमांड पोजिशन कहा जाता है। योग्य कमांड पोजिशन दिवार की तरह सहारा देता है।

कमांड पोजिशन की मदद से आप उस जगह पर अपना प्रभुत्व जमा सकते है। यह आपको लड़ने की शक्ति देता है। उस जगह से आपको दूसरा एक फायदा यह भी होगा कि चाइ का प्रवाह भी उसके साथ आयेगा। आप मुख्य द्वार से दूर होने के कारण आपको बहुत सारी उग्र चाइ का सामना नहीं करना पड़ेगा।

आप काम करते या सोते समय मुख्य द्वार के सामने होंगें तो उसके भी अलग अलग परिणाम होते हैं। जो आप द्वार के सामने ही सोते हो या काम करते हो तो आप ज्यादा की चाइ के सामने हो जाओंगें। जिसके परिणाम स्वरूप स्वास्थ्य से संबंधित समस्याएं, तुनक मिज़ाज़, तनाव हो सकने की संभावना है। आप जिस जगह से काम करते है अथवा सो जाते हैं तो उधर से मुख्य द्वार दिखता न हो तो उसका अर्थ ऐसा है कि आप जीवन में कठिनाइयों का सामाना करना नहीं चाहते है। उसका अर्थ ऐसा भी होता है कि आप सतत अनपेक्षित घटनाआं का सामना कर रहे हैं। किन्तु अगर आप कमांड पोजीशन में हो तो आप जीवन को बहुत अच्छी तरीके से नियंत्रित कर सकते हैं और नकारात्मक असरों से बच सकते हैं।

एक महत्व का फेंग सुइ मार्गदर्शन यह है कि आपके काम करने के डेस्क अथवा घर की आफीस शयन कक्ष में नहीं होनी चाहिए। इसके पीछे कारण यह है कि काम और आराम की अर्जा के बीच विसंवादिता हो सकती है, ये दोनों एक स्थान पर नहीं होनी चाहिए।

उपर्युक्त मार्गदर्शन के उपरांत भी कितने ही परिबल है जिनका महत्व है। सोने का बिस्तर और काम करने का मेज अलग- अलग स्थान पर होने चाहिए। संपूर्ण योग्य कमांड पोजिशन वाली जगह आपके वास्ते शारीरिक तौर पर आरामदायक न भी हो सकें। जैसे कि आपके काम करने की जगह मुख्य द्वार के सामने हो तो आपके पीछे खिडकी होनी चाहिए। वह आपके कैरियर में योग्य सहायता का अभाव सूचित करता है और इसके साथ यदि आपके मेज पर कम्प्युटर हो तो उसमें से आता हुआ प्रकाश आपके काम में विघ्न ड़ाल सकता है।

कितनी ही समस्याएं ऐसी है कि जो कमांड पाजिशन को कम इच्छित बनाती है। यदि मोटी मोटी समस्याओंकी बात करें तो अंदर की तरफ आए हुए नुकीले कोने , नीची छत और सिर के उपर पंखा, नीचे छप्पड इत्यादि। बाहर के कमरे में या घर के बाहर जो कुछ भी घटित हो रहा है उसकी आप उपेक्षा नहीं कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर फव्वारा, गेस का चूल्हा, फरीज और आपके सोने की जगह एक दीवार से सट कर हो वैसा संभव है। सड़क के समीप आया हुआ शयनखंड भी उसका उदाहरण है। इस परिस्थिति में, कमांड पोजिशन आपके सोने की जगह पर सिर का ाभाग बहार की दीवाल के विरुद्घ की दिशा में रखने का निर्देश दिया जाता है। लेकिन इस जगह पर आप अच्छी नींद नहीं ले सकते हैं।ऐसा देखने में आया है कि बहुत बार जगह की अच्छी या बुरी विशेषताएं बारीकि से अवलोकन करने से यह जानने में आता है कि आपके मेज या बिस्तर के वास्ते सबसे योग्य जगह कमांड पोजिशन में न हो या नहीं होनी चाहिए, परन्तु खराब असरों से आपको अवश्व बचाया जा सकता है।

आपके घर की विविध जगहों पर असर करती हुइ इन सब बाबतों की सूचना आपको योग्य स्थान के चयन में मददगार हो सकती है। फेंग सुइ के विविध मार्गदर्शन को ध्यान में रखते हुए आप सबसे श्रेष्ठ जगह को ढुंढ सकते हैं।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित
भावेश एन पट्टनी
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us