https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

अपने दीवानखाने में फेंग शुइ का स्वागत करें

दिवानखाना जिसको आप बैठक कक्ष के तौर से भी जानते है, हमारे घरेलू जीवन का केन्द्र स्थान है। इस कमरे में आप महेमानों का स्वागत करते हैं, पार्टियां करते है और पारिवारिक प्रसंगों को मनाते हैं। इस जगह पर आप आराम की अनुभूति करते हैं।

अधिकतर मामलों में दीवानखाना घर का सबसे बड़ा कमरा होता है और उसकी सफलता के लिए बहुत सारी जगह की आवश्यकता पड़ती है। यदि यह कमरा बहुत अधिक सामान से लदा हो तो चाइ उर्जा यहां पर बंध कर रह जाती है। यदि आपका दीवानखाना छोटा हो तो उसमें दर्पण लगाकर बहुत अधिक जगह का आभास पैदा किया जा सकता है।

दीवानखाने में चूल्हे की जगह केन्द्र का स्थान होता है। अग्नि ऊर्जा के साथ उसका जुडान होने के कारण यह अवसर और जोखिम दोनों देता है अतः इसका ध्यान रखना जरूरी है। अग्नि ( जहां कोयला, लकड़ी या गेस जलता हो) शीत काल के दौरान आपके घर में आरामदायक वातावरण तैयार करता है। वह ज़ोश, उत्साह, स्वयंस्फूरिता और तेजस्विता को बढ़ाती है। इलेक्ट्रीकल फायर प्लेस की सिफारिश नहीं की जा रही है क्योंकि इलेक्ट्रीकल रेडिएशन में वृद्घि करता है।

बहुत बार दीवानखाना और भोजन कक्ष व्यावहारिक तौर पर साथ में रखने में आता है। सामान्य तौर पर, मनोरंजन और भोजन साथ में चलते रहता है और उसमें बहुत अधिक समय ऐसा वातावरण तैयार करते हैं कि जहां दोनों काम साथ में हों। बहुत बार बैठक और भोजन के स्थान में रसोइघर का भी समावेश होता है। खासकरके रसोइ की जगह को हमेंशा स्वच्छ और सुघड रखनी चाहिए। यदि ऐसा न हुआ तो चाइ उर्जा पर उसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है जो कि कमरे के दूसरे स्थानों पर फैल सकता है। तेजोमय उजास वाला कमरा जीवंत, उन्नतिकाकरक स्थान बनाने में मदद करता है जहां पर आप अपने परिवार के साथ सारा समय बिता सकते हैं। सूर्य का प्रकाश चाइ उर्जा को चार्ज करता है और समग्र कक्ष में उर्जा प्रवाह को प्रसारित करने में मदद करता है।

एक आदर्श दीवानखाने में सजावट की वस्तुओं का उपयोग कमरे को बहुत आरामदायक बनाने में किया जा सकता है। इसके साथ ही, समाज और परिवार में संवादिता को प्रोत्साहित करने में प्रयत्न किया जाता है। चाइ उर्जा स्वतंत्रता से फैल सकें इसके लिए बड़े बड़े फर्नीचर का उपयोग जहां तक हो सकें कम करें और बहुत ज्यादा फेब्रीक्स और गददों का उपयोग न करें। आराम की ज़रूरत और चाइ उर्जा को बंधने के बीच में संतुलन बनाये रखें।

गणेशजी के आशीर्वाद सहित
भावेश एन पट्टनी
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us