गुरु गोचर 2021 – मिथुन राशि पर जानिए गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव

गुरु गोचर 2021 – मिथुन राशि पर जानिए गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव

गुरु का कुंभ गोचर और मिथुन पर प्रभाव

किसी जन्म कुंडली में मौजूद ग्रहों और मौजूदा समय में उन ग्रहों की स्थिति के आधार पर उसके आने वाले समय का आकलन किया जाता है। हर ग्रह की अपनी एक निर्धारित गति होती है, जिसके बाद वे राशि परिवर्तन कर आगे बढ़ जाते हैं। राशियों में होने वाला ग्रहों का यह गोचर राशिचक्र की विभिन्न राशियों को प्रभावित करने का काम करता है। 6 अप्रैल 2021 को गुरु राशि परिवर्तन कर कुंभ राशि में गोचर करने वाले है। गुरु के कुंभ गोचर 2021 का राशिचक्र की सभी राशियों पर गहरा प्रभाव पड़ने वाला है। फिलहाल हम मिथुन राशि पर गुरु के कुंभ गोचर 2021 के प्रभावों को जानने का प्रयास करेंगे।

मिथुन राशि में गुरु की स्थिति

मिथुन लग्न कुंडली के अनुसार गुरु का राशि परिवर्तन 2021 मिथुन राशि के लोगों की कुंडली के नवें भाव में गोचर करने वाला है। कुंडली के नवें भाव को भाग्य स्थान या धर्म स्थान के नाम से जाना जाता है। 

गुरु का राशि परिवर्तन: मिथुन राशि के कॅरियर और फाइनेंस पर प्रभाव

मिथुन राशि के लोगों के कॅरियर और फाइनेंस के संबंध में गुरु गोचर 2021 का यह दौर बेहद कारगर होने वाला है। इस दौरान आपको अपने कॅरियर को विकास के मार्ग पर आगे लेकर जाने के कई नए अवसर मिलने की संभावना है। जो लोग बैंकिंग और वित्त क्षेत्र से जुड़े हैं वे शेयर बाजार में पैसा लगाने पर अच्छा लाभ कमा सकते हैं। इसके अलावा किसी तरह की संपत्ति में निवेश करने से भी आपको लाभ प्राप्त करने में मदद मिलेगी। जो लोग सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं उनके लिए समय अच्छा रहने वाला है। गुरु राशि परिवर्तन 2021 के अप्रैल, मई और जून के महीने आपके लिए अधिक आनंदपूर्ण रहने वाले है। जो लोग निजी या एमएनसी कंपनियों में काम कर रहे हैं, ऑफिस में उनकी जगह बदल सकती है। इसके अलावा, आपको पदोन्नति या वेतन वृद्धि मिल सकती है। आप एक नई नौकरी की तलाश कर सकते हैं, लेकिन यदि संभव हो तो 20 सितंबर 2021 के बाद ही नौकरी बदलने की कोशिश करें, क्योंकि यह आपको सकारात्मक परिणाम दे सकता है। जो लोग माकेर्टिंग के क्षेत्र से जुड़े हैं उन्हे अच्छा लाभ मिलने की संभावना हैं। विदेशी कंपनियों से जुड़े लोगों को लंबी यात्रा करने का मौका मिल सकता है। डॉक्टरों को अपने पेशे में नई चीजें सीखने के अवसर मिल सकते हैं, जो आपके कॅरियर को नई ऊंचाइयों पर लेकर जाने में काम कर सकती है। विशेष रूप से न्यूरोसर्जन और कैंसर आर्थोपेडिक डॉक्टर वांछित सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

उपाय –  गुरु का कुंभ गोचर 2021 के दौरान मिथुन राशि के लोगों को भगवान गणेश की पूजा करनी चाहिए और गणपति स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। इससे आपको अपने कॅरियर में वांछित सफलता प्राप्त करने मदद मिलेगी। इसके अलावा आपको भगवान सूर्य को अर्घ्य देना अच्छा फायदा देगा।

गुरु का राशि परिवर्तन: मिथुन के लव और रिलेशन पर प्रभाव

गुरु का कुंभ गोचर 2021 मिथुन राशि के लोगों के लिए काफी बेहतरीन दिखाई देता है। इस दौरान आपकी लव लाइफ में किसी नए साथी के प्रवेश की संभावना है। अपने लिए साथी की खोज कर रहे लोगों की इच्छा पूरी होगी। आपके जीवन में एक नए व्यक्ति का प्रवेश आपको अपने इच्छित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रेरित कर सकता है। हालांकि इस दौरान आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आप कोई भी फैसला जल्दबाजी में न करें, विशेष रूप से प्रेम का प्रस्ताव रखने में इस बात का विशेष ध्यान रखें। पहले उसके साथ दोस्ती करें, उसके बाद कभी – कभी उन्हें अपनी सच्ची भावनाओं से अवगत कराएं। ऐसा करने से आप अपने साथी से अनुकूल उत्तर की उम्मीद कर सकते हैं। इस दौरान आपको बड़ों से बहस करने से बचना चाहिए। अगर कोई आपके बारे में गलत बात करता है, तो आपको बुरा महसूस करने से बचना चाहिए। इसी के साथ आपको अपने परिवार के साथ भी अपने संबंधों को बेहतर बनाए रखने का प्रयास करना चाहिए। माता – पिता को अपने बच्चे के साथ दोस्ताना व्यवहार करना चाहिए। आपको चचेरे भाइयों के साथ अपने संबंधों का ध्यान रखना चाहिए और एक – दूसरे को समझने की कोशिश करनी चाहिए, ताकि आप अच्छे पारिवारिक संबंधों को बनाए रख सकें। आपको अपने घर के किशोरों का ध्यान रखना चाहिए और सुनिश्चित करना चाहिए कि वे पढ़ाई से विचलित न हों।

उपाय – अपने परिवार के सदस्यों के साथ शांतिपूर्ण संबंध बनाए रखने के लिए अपने कुल देवता की पूजा करनी चाहिए या दुर्गा सप्तमी का पाठ करना चाहिए। प्रेमी संबंधों को बेहतर बनाएं रखने के लिए आपको ओम शुक्राय नमः का पाठ करना चाहिए और शुक्रवार के दिन भगवान शुक्र की पूजा करें।

गुरु का राशि परिवर्तन: मिथुन राशि के स्वास्थ्य पर प्रभाव

गुरु आने वाले 6 महीने कुंभ राशि में रहने वाले है, इस दौरान मिथुन राशि के लोगों का स्वास्थ्य एवरेज रहने की संभावना है। इस समय के दौरान आपको बाहर के खाद्य पदार्थों को खाने से बचना चाहिए, अन्यथा आपको पेट में दर्द या गैस एसिडिटी की समस्या हो सकती है, संभव हो तो शाम के बाद भोजन करने से बचें। गुरु के कुंभ राशि में गोचर के दौरान उन मिथुन महिलाओं को अधिक ध्यान रखने का प्रयास करना चाहिए जो बच्चे की उम्मीद कर रही हैं। उन्हें घर में बना शुद्ध और कम तैलीय भोजन करना चाहिए। मिथुन राशि के बच्चों का स्वास्थ्य बेहतरीन रहने वाला है, लेकिन बड़े और बुजुर्गों को सीधे पैर या पीठ दर्द से जूझना पड़ सकता है। गृहिणियों के लिए गुरु गोचर 2021 का यह दौरा स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी अच्छा रहने वाला है। यात्रा करते समय आपको बाहर का अनहेल्दी खाना खाने के बचना चाहिए। जो लोग कैंसर या रक्त संबंधी समस्याओं से जूझ रहे हैं, वे इस दौरान अपने स्वास्थ्य में सुधार की उम्मीद कर सकते हैं। यदि आप हृदय की समस्याओं या रक्तचाप से जूझ रहे हैं, तो आपको समय पर गोलियां लेनी चाहिए। यह उन जोड़ों के लिए अनुकूल समय है जो गर्भाधान की तैयारी कर रहे हैं।

उपाय – अपने पूरे परिवार के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए गृहणियों को भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए और पुरूष मिथुन जातकों को हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। 

श्री गणेशजी की कृपा के साथ

गणेशास्पीक्स डॉट कॉम/हिंदी

जानिए मेष राशि के लोगों पर गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव, क्लिक करें यहां

वृषभ राशि के लिए क्या उपहार लाना वाला है गुरु का राशि परिवर्तन

गुरु नीच राशि से बाहर जाकर अब कुंभ में ट्रांजिट करेंगे, कर्क राशि के लोगों के लिए होगा विशेष प्रभाव

सिंह राशि के लोगों के लिए गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव, क्लिक करें यहां

कन्या राशि के लिए क्या उपहार लाना वाला है गुरु का राशि परिवर्तन

तुला राशि के लिए राशि परिवर्तन करके पांचवें भाव में जाएंगे गुरु, पढ़िए कुंभ के गुरु का प्रभाव यहां

गुरु नीच राशि से बाहर जाकर अब कुंभ में ट्रांजिट करेंगे, वृश्चिक राशि के लोगों के लिए होगा विशेष प्रभाव

धनु राशि के लोगों के लिए गुरु के राशि परिवर्तन का प्रभाव, क्लिक करें यहां

मकर राशि के लिए क्या उपहार लाना वाला है गुरु का राशि परिवर्तन

कुंभ राशि के लिए राशि परिवर्तन करके पहले भाव में आएंगे गुरु, पढ़िए कुंभ के गुरु का प्रभाव यहां

गुरु नीच राशि से बाहर जाकर अब कुंभ में ट्रांजिट करेंगे, मीन राशि के लोगों के लिए होगा विशेष प्रभाव

17 Feb 2021

View All blogs

Follow Us