https://www.ganeshaspeaks.com/hindi/

मीन राशि में बृहस्पति की वक्री चाल: आपके लिए कठिन या आसान?

Published on जून 27, 2022

Jupiter’s Backspin In Pisces

जैसा कि आधा साल बीत चुका है, इस दौरान कई पारगमन और प्रतिगामी स्थितियां निर्मित हुई। अब एक और बड़ी खगोल घटना के लिए तैयार रहें, जो कि मीन राशि में बृहस्पति के वक्री के रूप में होने वाली है। लेकिन दोस्तों, चिंता मत करें, बस बृहस्पति को मीन राशि में वक्री होकर सकारात्मक तरीके से लें। भाग्य और वृद्धि का ग्रह बृहस्पति 29 जुलाई, 2022 से 24 नवंबर, 2022 तक मीन राशि में वक्री हो रहा है।

जब “महान लाभकारी” ग्रह बृहस्पति वक्री होता है, तो यह हमारे जीवन में आवश्यक अवसर लाता है। यह हमें अपने विचारों पर पुनर्विचार करने का मौका देता है और हमें हमारे जीवन में सही रास्ता दिखाता है। यह राशि चक्र के लिए कठिन समय भी ला सकता है। लेकिन, इस एस्ट्रो घटना को अपने जीवन में बढ़ने के अवसर के रूप में लें। तो आइए, आप किसका इंतजार कर रहे हैं? देखें कि मीन राशि में वक्री बृहस्पति प्रत्येक राशि को कैसे प्रभावित करता है:-

मीन राशि में गुरु के वक्री होने का मेष राशि पर प्रभाव

मेष राशि के जातकों के लिए वक्री बृहस्पति बारहवें भाव से अपनी वक्री यात्रा शुरू करेगा। मीन राशि में वक्री बृहस्पति आपके लिए औसत से बेहतर साबित हो सकता है। इस दौरान आपको अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। आर्थिक रूप से यह आपके लिए औसत अवधि हो सकती है। हालांकि, वेतनभोगी कर्मचारियों और कारोबारी लोगों दोनों के लिए कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। जो लोग शादीशुदा हैं या किसी रिश्ते में हैं, उनका जीवन सद्भाव और शांति से भरा रहने की संभावना है।

जानना चाहते हैं कि यह क्या आपके रिश्ते को प्रभावित कर सकता है? तो अपनी मुफ्त संगतता रिपोर्ट का लाभ उठाएं और जानें कि आपके प्रेम जीवन में क्या समस्याएं हो सकती हैं।

बृहस्पति के वक्री होने का वृषभ राशि पर प्रभाव

बृहस्पति आपके 11वें भाव से वक्री होगा। यह वक्री वृषभ राशि के जातकों के लिए मिले-जुले परिणाम लेकर आने की संभावना है। कोई बड़ी स्वास्थ्य समस्या की आशंका नहीं है। जो लोग अपना पैसा निवेश करना चाहते हैं, उनके लिए समय अनुकूल नहीं है। बृहस्पति की वक्री चाल के दौरान आपको अपने व्यवसाय में अपेक्षित लाभ नहीं मिल सकता है। दाम्पत्य जीवन औसत से ऊपर रहने की संभावना है।

बृहस्पति के वक्री होने का मिथुन राशि पर प्रभाव

मिथुन राशि के जातकों के लिए वक्री बृहस्पति दसवें घर से यात्रा शुरू कर देगा। इस चरण के दौरान, आप अपने स्वास्थ्य का आनंद ले सकते हैं। हो सकता है कि आपको छोटी अवधि के निवेश से अपेक्षित प्रतिफल न मिले। इसलिए आपको कुछ समय के लिए इससे बचने की सलाह दी जाती है। जो लोग वेतनभोगी कर्मचारी और व्यवसायी हैं, उन्हें इस बृहस्पति वक्री के दौरान अपने काम पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। आपकी लव लाइफ के फलने-फूलने की संभावना है। जो लोग शादीशुदा हैं, वे भी अपने वैवाहिक जीवन का आनंद ले सकते हैं।

यदि आप विवाहित जीवन में देरी या समस्याओं का सामना करते हैं, तो संभावना है कि आपकी कुंडली में मंगल दोष है। निःशुल्क मंगल दोष रिपोर्ट के साथ जांचें कि आपकी कुंडली में दोष है या नहीं!

वक्री बृहस्पति का कर्क राशि पर प्रभाव

कर्क राशि के जातकों के लिए बृहस्पति नवम भाव से वक्री हो रहा है। आने वाला समय आपके लिए थोड़ा कठिन हो सकता है। बृहस्पति की इस वक्री चाल के दौरान स्वास्थ्य संबंधी मामूली परेशानी होने की संभावना है। आर्थिक रूप से, आपको अपने व्यवसाय के बारे में ध्यान से सोचने का सुझाव दिया जाता है। कार्यक्षेत्र में आपको कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। विवाहित जातकों के लिए समय औसत रहने की संभावना है।

सिंह राशि पर बृहस्पति के वक्री होने का प्रभाव

सिंह राशि के जातकों के लिए बृहस्पति मीन राशि में वक्री होकर आठवें भाव में रहेगा। यह समय आपके लिए चुनौतीपूर्ण हो सकता है। इस दौरान स्वास्थ्य का ध्यान रखने की जरूरत है, क्योंकि आपको कुछ स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। कुछ अप्रत्याशित खर्चे आपको परेशान कर सकते हैं। हालांकि, इस समय के दौरान व्यापारी और वेतनभोगी कर्मचारी को सावधान रहने की सलाह दी जाती हैं। क्योंकि समय आपके लिए अनुकूल नहीं है। विवाहित जोड़ों के बीच मामूली विवाद हो सकता है।

बृहस्पति के वक्री होने का कन्या राशि पर प्रभाव

कन्या राशि के जातकों के लिए वक्री बृहस्पति सप्तम भाव में होने वाला है। यह चरण आपके लिए कठिन हो सकता है। इस वक्री अवस्था में अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दें। अगर आप लंबी अवधि के निवेश की योजना बना रहे हैं, तो इस समय से बचें। उद्यमियों को वांछित परिणाम नहीं मिल सकते हैं। विवाहित जोड़ों को अपने जीवनसाथी के साथ गलतफहमी और विवाद का सामना करना पड़ सकता है।

बृहस्पति के वक्री होने का तुला राशि पर प्रभाव

तुला राशि के जातकों के लिए गुरु वक्री होकर छठे भाव में रहने वाला है। इस समय आपको अपने स्वास्थ्य का आनंद लेने की संभावना है। किसी भी तरह के निवेश में सावधानी बरतें। काम करने वाले पेशेवरों या व्यावसायिक व्यक्तियों को अपने कार्यस्थल पर कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यदि आप साझेदारी में काम करते हैं, तो आपको सावधान रहने की आवश्यकता हो सकती है। वहीं दूसरी ओर आपके जीवन साथी से विवाद भी हो सकता है।

बृहस्पति के वक्री होने का वृश्चिक राशि पर प्रभाव

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए वक्री बृहस्पति पंचम भाव से वापस घूमना शुरू कर देगा। इस समय आपको अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देना चाहिए, क्योंकि छोटी-मोटी स्वास्थ्य समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं। वहीं, अपना पैसा निवेश करने से पहले दो बार सोचें। वेतनभोगी कर्मचारियों या व्यवसायियों को अपने कार्यस्थल पर कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। शादीशुदा जातकों के लिए यह समय अनुकूल है।

बृहस्पति के वक्री होने का धनु राशि पर प्रभाव

धनु राशि के जातकों के लिए बृहस्पति चतुर्थ भाव से वक्री हो रहा होगा। इस अवधि के दौरान आपके स्वास्थ्य में कुछ उतार-चढ़ाव हो सकते हैं। अगर आप छोटी अवधि के निवेश की योजना बना रहे हैं, तो इस समय से बचें। यह गोचर आपके कार्यक्षेत्र में आपके प्रदर्शन को प्रभावित कर सकता है। आपके और आपके साथी के बीच मामूली बहस होने की संभावना है।

वक्री बृहस्पति का मकर राशि पर प्रभाव

मकर राशि के जातकों के लिए वक्री बृहस्पति तीसरे भाव से अपनी पिछड़ी यात्रा शुरू करेगा। स्वास्थ्य की दृष्टि से आपको किसी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ सकता है। इस अवधि के दौरान, आपको किसी भी जोखिम भरी वित्तीय गतिविधियों को करने से बचने का सुझाव दिया जाता है जो आपके जीवन में समस्याएं पैदा कर सकती हैं। नौकरीपेशा और बिजनेस से जुड़े लोगों के लिए यह समय मध्यम रहने की संभावना है। यदि आप साझेदारी में काम कर रहे हैं तो आपको सावधान रहने की आवश्यकता हो सकती है। विवाहित जातकों को अपने पार्टनर के साथ कुछ विवादों का अनुभव हो सकता है।

वक्री बृहस्पति का कुंभ राशि पर प्रभाव

कुंभ राशि के जातकों के लिए बृहस्पति का मीन राशि में गोचर दूसरे भाव में होने जा रहा है। यह वक्री आपके लिए मिले-जुले परिणाम लेकर आने की संभावना है। इस समय आपको अपने स्वास्थ्य का आनंद लेने की संभावना है। आपके ख़र्चे बढ़ने की संभावना है, इसलिए आपको इस दौरान किसी भी जोखिम भरी वित्तीय गतिविधियों से बचने का सुझाव दिया जाता है। आपके और आपके साथी के बीच मामूली बहस हो सकती है।

बृहस्पति के वक्री होने का मीन राशि पर प्रभाव

मीन राशि के जातकों के लिए वक्री बृहस्पति अपने ही घर में फिर से घूमना शुरू कर देगा। इस दौरान आपको छोटी-मोटी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आर्थिक मोर्चे पर आपको कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही व्यापार और वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए भी यह चेहरा कठिन रहने की संभावना है। जो लोग रिलेशनशिप में हैं या शादीशुदा हैं उन्हें अपने पार्टनर से दूरी का अनुभव होने की संभावना है।

समापन

अब आप जानते हैं कि बृहस्पति का वक्री होना, आपके लिए कठिन या आसान होने की संभावना है। याद रखें कि बृहस्पति अवसरों और प्रचुरता का ग्रह है, और इसलिए यदि यह आपके लिए कोई भी चुनौती ला रहा है, तो चिंता न करें, यह सिर्फ आपको मजबूत बनाने के लिए है। लेकिन, आपको ऊर्जा को सही दिशा में लगाने की जरूरत है। यदि आपको व्यक्तिगत मार्गदर्शन की आवश्यकता है तो हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों से परामर्श लें