https://www.ganeshaspeaks.com

कुंडली के सातवें भाव में सूर्य की महत्ता जातक को सहयोगियों के प्रति निर्भर बनाती है

कुंडली के सातवें भाव में सूर्य की महत्ता जातक को सहयोगियों के प्रति निर्भर बनाती है

वैदिक ज्योतिषी के अनुसार किसी भी जातक की कुंडली का सातवां भाव साझेदारी का भाव होता है। साझेदारी का सबसे बड़ा उदाहरण दो लोगों का मिलन या विवाह होता है। वैसे कुंडली का सातवां भाव लग्न या पहले भाव का प्रतिलग्न या प्रति भाव भी होता है। लग्न या पहला भाव जातक के स्वयं के बारे में होता है जबकि सातवां भाव साथी, साझेदार या जीवनसाथी का भाव होता है। इसलिए विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण, एक साथी की इच्छा, यौन संकल्पनाएं, जुनून, संपत्ति, दूसरों के प्रति समझ का स्तर आदि सभी सातवें भाव से प्रभावित होते हैं। जिन लोगों की कुंडली में सूर्य सातवें भाव में होता है, उनके अंदर बहुत अधिक क्षमता होती है, लेकिन उन्हें अपनी क्षमताओं का उपयोग करने और सपनों को साकार करने के लिए अपने सहयोगियों के समर्थन और साथ की जरुरत होती है।

सातवें भाव में सूर्य के कारण प्रभावित क्षेत्र

पेशा या व्यवसायसामाजिक स्थानप्रेम जीवन और रिश्तेजीवन के प्रति दृष्टिकोणशारीरिक स्वास्थ्य और काया

सकारात्मक लक्षण/प्रभाव

जिन लोगों की कुंडली में सूर्य सातवें भाव में स्थित होता है उन्हें साझेदारी, देखभाल और बंधन की सख्त जरूरत होती है। अगर उन्हें सही साथी मिले, तो वे अपने व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में बहुत ऊपर तक जा सकते हैं। इसके विपरीत, यदि उनका साथी उचित स्वभाव का नहीं होता है, तो यह उन्हें बहुत घातक और विनाशकारी हो सकता है। वे अपने रिश्ते में बहुत समय और ऊर्जा का निवेश करते हैं, और अपने सहयोगियों से बहुत उम्मीद रखते हैं। यह दोनों, जीवन साथी के साथ-साथ व्यावसायिक भागीदारों पर भी समान रूप से लागू होता है।

सातवें भाव में सूर्य की स्थिति के कारण जातक सही साथी की तलाश के लिए कुछ अधिक समय ले सकते हैं। लेकिन एक बार जब वे उसे ढूंढ लेते हैं, तो वे अपना पूरा जीवन उसके साथ बिता सकते हैं। यदि उनके जीवनसाथी की मृत्यु हो जाती है, तो वे जीवन के प्रति उदासीन हो जाते हैं या कहीं और चले जाते हैं, वे पूरी तरह से बिखर सकते हैं, और उनका जीवन बुरी तरह से पटरी से उतर सकता है।

आज ही अपनी जन्मपत्री प्राप्त करें और वैवाहिक जीवन/विवाह की संभावनाओं के लिए अनुकूल समय जान जानें।

इसके अलावा, सातवें भाव में सूर्य वाले जातक काफी लोकप्रिय होते हैं। वे अपने जीवन में लोगों के बीच व्यापक लोकप्रियता से भारी सम्मान और श्रद्धा भी प्राप्त करते हैं। वास्तव में, सातवें भाव में सूर्य वाले जातक वाकई में नेतृत्व गुण रखते हैं और अपने सहयोगियों का काम के क्षेत्रों के साथ साथ व्यक्तिगत जीवन में मार्गदर्शन कर सकते हैं। वैदिक ज्योतिष में सूर्य की सातवें भाव में स्थिति के अनुसार वे दूसरों के साथ साझा किए गए प्यार और स्नेह से स्वयं को प्रेरित महसूस करते हैं।

यह भी पढ़ें –
कुंडली के छठे भाव में सूर्य की महत्ता

नकारात्मक लक्षण/प्रभाव

भाव में सूर्य की उपस्थिति जातकों के लिए संघर्ष की स्थिति से निपटना मुश्किल होता है। जब चुनौतियाँ इनके जीवन में आती हैं तो ये अपने कदम पीछे हटा लेते हैं। ये न तो समझौता करने के लिए तैयार रहते हैं और न की उनका सामना। कई बार ये अभद्र व्यवहार भी कर सकते हैं और भ्रमित विचारों में फंस सकते हैं। जब ये जीवन के चौराहे पर खड़े होते हैं तो कई विकल्पों में से एक का चयन करने में पूरी तरह असमर्थ होते हैं। यदि आप भी जीवन में किसी संकट से गुज़र रहे हैं और उसका समाधान नहीं मिल रहा है तो आज ही अपना व्यक्तिगत वार्षिक राशिफल 2020 प्राप्त करें और समस्याओं से छुटकारा पाएं

इसके अलावा, ये हमेशा जीवन में संतुलन प्राप्त करने के लिए प्रयासरत रहते हैं। जैसा कि सातवें भाव में सूर्य की उपस्थिति पर विवाह ज्योतिष के अनुसार बताया गया है कि वास्तव में अपने साथी के साथ जुड़ना हर समय उस संतुलन को बनाए रखने का सर्वोत्तम तरीका हो सकता है। निश्चित रूप से, आप संबंध और आपसी तालमेल पसंद करते हैं और आप एक व्यक्तिवादी या एक स्वतंत्र जीवन शैली का दृढ़ता से विरोध करते हैं।

इसके अलावा, ऐसे जातक सभी से सराहना पाना चाहते हैं, और चाहते हैं कि सभी उन्हें पसंद भी करें। इस प्रकार, वे अपने दृष्टिकोण में बहुत सुरक्षित और सकुशल होते हैं। इसलिए, वे अलग-अलग लोगों से मिलने और नए दोस्त बनाने के बजाय, अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ समय बिताना पसंद करते हैं। ये अस्वीकार किए जाने की संभावनाओं को दृढ़ता से नापसंद करते हैं। इसके अलावा, इन्हें सलाह दी जाती है कि ये इस बात पर ध्यान न दें कि दूसरे इनको कैसे समझते और अनुभव करते हैं।

निष्कर्ष

कुंडली के सातवें भाव में सूर्य की उपस्थिति होने पर हम कह सकते हैं कि जातक अपने सहयोगियों और भागीदारों पर दृढ़ता से निर्भर होते हैं। वे अपनी ताकत और शक्ति को उस बंधन से प्राप्त करते हैं, जिसे वे दूसरों के साथ साझा करते हैं। इसके साथ ही इन्हें यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि वे अपने साथी से बहुत अधिक उम्मीद न रखें। यह दूसरों के साथ इनके रिश्ते को बेहतर बनाएगा। जिसके तहत आपको लाभ भी मिलेगा।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!

गणेशजी की कृपा से,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम

Follow Us