मेजर अरकाना


परिचय

अरकाना शब्द आरकेन शब्द से आया है | मेजर अरकाना का अर्थ है “बड़ा रहस्य”| मेजर अरकाना कार्ड के सेट में प्रथम 22 कार्ड आते है | ये कार्ड किसी व्यक्ति के जन्म से लेकर मृत्यु तक और उसके पुनर्जन्म कि मुख्य घटनाओं को दर्शाता है | प्रत्येक कार्ड का अपना एक महत्व है जैसे प्रथम कार्ड द फ़ूल का अर्थ है एक मासूम बच्चे कि जीवन यात्रा , द लवर कार्ड दिल और आपसी संबध को दर्शाता है | द चैरिओट हमेशा चलने वाली यात्रा को, द डेथ आन्तरिक परिवर्तन या पुर्नजन्म को, द मून आन्तरिक ज्ञान को पाने, और द संसार का कार्ड जन्म और पुर्नजन्म के चक्र के समाप्त होने को प्रदर्शित करता है |

हर्मिट

हर्मिट ( सन्यासी या यति ) का कार्ड यह दर्शाता है कि हम जब आग बढ़ रहे होते हैं तब थोड़ा धीरे कदम से आगे बढ़ने की आवश्यकता है, ताकि हम रूक कर यह निश्चित कर सकें कि हमें किधर जाना है। इस दौर में हमें दिल की बात भी सुननी आवश्यक है, क्योंकि वह अर्द्घजागृत मस्तिष्क के विचारों को दर्शाता है और हमें स्थिरता के साथ साथ सोचने का भी समय देता है। यह कार्ड हमें अति व्यस्त कार्यसूची में से थोड़ा समय दूर रहने का संकेत देता है जिससे हम दिशाहीन बन कर भटकने के बदल में धीरजपूर्वक सोच कर भविष्य की राह सोच सकते हैं। किसी भी परिस्थिति के बारे में प्रतिक्रिया देने के पहले उसका पूरा अवलोकन कर लेना आवश्यक है।

व्हिल आफ फार्च्युन

टेरो में व्हिल का चिन्ह हमारे जीवन में जो कुछ भी चल रहा है उसमें भाग्य का भी साथ होता है। हम जानते हैं कि अगर हम कुछ बोयेंगें तभी तो काट पाएंगें। इस कारण से हमारे जीवन में किसी भी तरह की कुछ घटनाएं आएगी जो कि अकस्मात् आश्चर्य भी साथ में लाएगी। इस लिए यह कार्ड यह भी याद दिलाता है कि कर्म ही जीवन का सत्य है, और अन्यों पर हमारे क्रियाओं के असर को हम नकार नहीं सकते हैं। इससे अपने आप ही हमारे विचारों और कार्यों में हम बहुत समय निकालने और स्वार्थीपने को कम करने की आवश्यकता पड़ती है। हमारी कल्पनाएं आस्था के आधार पर रची हुइ होती है ‘दिमाग में नये विचार लाने के लिए पुराने विचारों को निकालना आवश्यक है’ यह मानना भी महत्वपूर्ण है।

जस्टिस

जस्टिस (न्याय ) का कार्ड हमें अपने अंतरआत्मा की आवाज या सदविवेक बुद्घि का संकेत देता है। यह सूचित करता है कि सत्य बोलने की आवश्यकता है औरहमें उन समस्याओं को नज़रअंदाज करना छाड़ देना होगा जिस पर कि हमें ध्यान देना है। हम अपने कृत्य के लिए उत्तरदायी है, और यह आवश्यक है कि हमने भूत में क्या किया या हम वर्तमान में क्या करने जा रहे हैं, इनका आकलन होना आवश्यक है। यह आर्ड बताता है कि हमारे जीवन में आ रहें किसी भी प्रश्न को नज़रअंदाज नहीं करना है अन्यथा ये ही प्रश्न किसी समय हमारे सामने प्रस्तुत होते हैं और हमें हानि पहुंचा सकते हैं। हमें धीरज और समझदारी से कार्य लेना चाहिए और जीवन में जो कड़ियां नहीं है उनको ढुंढ़कर उन्हें योग्य स्थान में रखने के लिये आत्मविश्लेषण करना चाहिए।