चैत्र 2021 : कलश स्थापना विधि और मुहूर्त एवं तिथियां

चैत्र नवरात्रि
h2 style=”text-align: justify;”>चैत्र नवरात्रि :  सुबह 6.21 से 10.16 बजे तक है कलश स्थापना का मुहूर्त

एक वर्ष में चार चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ मास में आती है, जो शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक चलते हैं। इनमें चैत्र और आश्विन नवरा‍त्र प्रमुख माने जाते हैं। इसमें भी आश्विन नवरा‍त्र का काफी महत्व है, इसे वासंती नवरात्रि भी कहा जाता है। चैत्र नवरात्रि को वासंती नवरात्रि भी कहा जाता है, जो चैत्र मास शुक्ल पक्ष की प्रतिप्रदा से शुरू होता है। यह भगवान श्री राम के जन्मोत्सव से जुड़ा महीना है। इस साल यानी वर्ष 2021 में चैत्र नवरात्रि की शुरुआत 13 अप्रेल से होगी।

पर कलश स्थापना मुहूर्त

नवरात्रि के 9 दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों क्रमशः शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री देवी की पूजा की जाती है। नवरात्रि के दौरान नौ दिनों तक देवी दुर्गा का पूजन और दुर्गा सप्तशती का पाठ किया जाता है। चैत्र नवरात्रि की शुरुआत कलश स्थापना से होती है। इस वर्ष कलश स्थापना का मुहुर्त6  अप्रेल शनिवार सुबह 06 बजकर 21 मिनट से लेकर 10 बजकर 16 मिनट तक रहेगा। हालांकि इसके पश्चात अभिजित मुहुर्त में भी कलश स्थापना की जा सकती है।

कलश स्थापना विधि

कलश स्थापना के लिए शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि के दिन सुबह स्नानादि से निवृत्त हो कर पूजा का संकल्प लिया जाता है। संकल्प लेने के पश्चात मिटटी की वेदी बनाकर जौ बोया जाता है और इसी वेदी पर कलश की स्थापना की जाती है। घट के ऊपर कुल देवी की प्रतिमा स्थापित कर पूजन किया जाता है और दुर्गा सप्तशती का पाठ किया जाता है। इस दौरान अखंड दीप जलाने का भी विधान है। इन दिनों में मंत्र जाप करने से मनोकामना शीघ्र पूरी होती है। नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना के बाद मां दुर्गा की पूजा आरंभ की जाती है।

चैत्र नवरात्रि तिथि 2021

पहला नवरात्रि, पहली तिथि, 13 अप्रेल 2021, दिन  मंंगलवार

-घटस्थापना

– शैलपुत्री पूजा

दूसरा नवरात्रि, द्वितीया तिथि, 14 अप्रेल 2021, दिन बुधवार

– ब्रह्मचारिणी पूजा

तीसरा नवरात्रि, तृतीया तिथि, 15 अप्रेल 2021, दिन गुरुवार

– चन्द्रघन्टा पूजा

चौथा नवरात्रि, चतुर्थी तिथि, 16 अप्रेल 2021, दिन शुक्रवार

– कुष्माण्डा पूजा

पांचवां नवरात्रि, पंचमी तिथि, 17 अप्रेल 2021, दिन शनिवार

– स्कन्दमाता पूजा

छठा नवरात्रि, षष्ठी तिथि, 18 अप्रेल 2021, दिन रविवार

– कात्यायनी पूजा

सातवां नवरात्रि, सप्तमी तिथि , 19 अप्रेल 2021, दिन सोमवार

– महासप्तमी

– कालरात्रि पूजा

आठवां नवरात्रि, अष्टमी तिथि, 20 अप्रेल 2021, दिन मंगलवार

– महाअष्टमी

– महागौरी पूजा

– सन्धि पूजा

नौवां नवरात्रि, नवमी तिथि, 21 अप्रेल, दिन बुधवार रामनवमी

– नवरात्रि पारण

श्रीगणेशजी के आशीर्वाद के साथ

गणेशास्पीक्स डॉट कॉम/हिंदी

 ये भी पढ़ें-

मां दुर्गा के चमत्कारी मंत्रों से पाएं सफलता

कब और क्यों मनाया जाता है गुड़ी पड़वा

12 Apr 2021

View All blogs

Follow Us