३० अक्तूबर २०१४, निफ़्टी भविष्यवाणी

Market Predictions

  • विक्रम संवत २०७१ के लिए राशि भविष्य
    कुंभ राशि
  • मंत्र :-
  • अलसत्तासहितोडन्यसुतप्रियः कुशलताकलितोडतिविचक्षणः ।
    कलशगामिनि शीतकरे नमः प्रशमितः शमितोरुरिपुवजः ।।
  • अर्थ :- कुंभ स्थित चंद्र में जन्म लेने वाला आलसी, दूसरे के संतानों पर प्रेम रखने वाला, कार्य में कुशल- पंडित, शांत और शत्रु को जीतने वाला होता है।
  • विक्रम संवत 2071 – एक नज़र:-आपकी चंद्रराशि के अनुसार गुरू ग्रह आपके नौकरी के स्थान में पारगमन कर रहा है, जबकि केतु आपके आर्थिक स्थान में परिभ्रमण कर रहा है। इसको देखते हुए गणेशजी कहते हैं कि नौकरी में बदलाव देखने को मिल सकते हैं, लेकिन आर्थिक तौर पर किसी प्रकार का फायदा हो, ऐसा कहना मुश्किल है। नवंबर महीने से शनि आपके कर्म-व्यवसाय स्थान में परिभ्रमण करेगा, जिसके कारण व्यवसाय में प्रगति की चाल धीमी होने की संभावना है। इस चुनौतीपूर्ण समय से बचने के लिए आपको श्री हनुमानजी की पूजा करनी चाहिए।
  • आर्थिक तथा व्यवसाय :- आर्थिक मामलों में लिए यह समय काफी दुविधाजनक है। इसका मुख्य कारण है कि इस समय आर्थिक मामलों से संबंधित घर के बीच से केतु परिभ्रमण कर रहा है, जो आपके रास्ते में अड़चन पैदा करेगा। इसको ध्यान में रखते हुए आपको इस तरह का उपाय करने चाहिए, ताकि राहु परिभ्रमण के कारण उत्पन्न होने वाली अड़चनों का प्रभाव कम हो जाए। इसके अलावा व्यवसाय के स्थान में शनि की मौजूदगी प्रगति की चाल को धीमा करेगी।
  • स्वास्थ्य :- आपकी राशि कुंडली के मुताबिक आपके स्वास्थ्य से संबंधित स्थान का मालिक शनि महाराज है जबकि रोग स्थान का मालिक चंद्रमा है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि धीमी गति से आगे बढ़ता है जबकि चंद्रमा बहुत तेज गति के साथ आगे बढ़ता है। इस ग्रहीय परिवर्तन के कारण आपको मौसमी बीमारियां बहुत जल्द अपनी गिरफ्त में लेती हैं एवं बहुत जल्द तबीयत सामान्य भी हो जाती हैं। इसके अलावा आपको 04/04/2015 तथा 28/09/2015 तारीख के आस पास संभलकर रहने की सलाह है।
  • प्रेम तथा वैवाहिक जीवन :- वैवाहिक जीवन के लिए आने वाला समय काफी शुभ है। गणेशजी ग्रहीय स्थिति देखने के बाद कहते हैं कि जिन विवाहित जातकों की रिश्ते संबंधी बात आगे न बढ़ती हो, उनको चिंतित होने की जरूरत नहीं, क्योंकि 14/07/2015 के बाद का समय गुरू महाराज की कृपया के कारण बहुत अच्छा है। इस कारण आपको सुंदर जीवन साथी मिलने की संभावना है।
  • करियर तथा शिक्षा :- ग्रहीय स्थितियां देखने के बाद शिक्षा के मामले में गणेशजी आपको इस वर्ष विशेषकर 24/08/2015 से 29/10/2015 तक की समय अवधि के दौरान सचेत रहने की सलाह देते हैं। इसका मुख्य कारण बुध का कमजोर होना है। और साथ ही, आपकी कुंडली में शिक्षा संबंधी इस ग्रह का बहुत महत्व है।
  • उपाय :- भोजन में काला नमक और काली मिर्च का प्रयोग करें।
  • शनि कवच और शनि स्तोत्र का पाठ करें।
  • काले उड़द जल में प्रवाहित करें।
  • घर में नीले परदे और चादरों का प्रयोग करें।
  • रुद्राक्ष या स्फटिक से बानी माला धारण करें. आप यह मंत्र उच्चारण भी कर सकते हैं –
  • ।। अनंतं वासुकिं शेषं पद्मनाभं च कंबलं, शंखपालं धार्तराष्ट्रं तक्षकं कालियस्तथा, एतानी नवनामामिनागानां च महात्मनः सायंकाले पठेन् नित्यं प्रातः काले विशेषतः तस्य विषभयं नामि सर्वत्र विजयी भवेत् ।

व्यक्तिगत मार्गदर्शन के लिए हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषी से सीधी बात करें।

गणेशजी के आशीर्वाद के साथ,
श्री धर्मेश जोशी
गणेशास्पीक्स दल
9909941816

Follow Us