आपकी कुंडली में सूर्य प्रथम भाव में है? जानिए पहले घर में सूर्य का महत्व!

सूर्य प्रथम भाव

वैदिक ज्योतिष में पहले घर को लग्न या स्वयं का घर भी कहा जाता है। यह सबसे महत्वपूर्ण घर होता है, क्योंकि यह जीवन की शुरुआत का प्रतीक है। सूर्य समस्त ग्रह-नक्षत्रों का राजा कहलाता है, क्योंकि सभी ग्रहों के लिए यह केंद्र बिंदु होता है। सूर्य सरकारी अधिकार, नेतृत्व कौशल, सम्मान और अनुग्रह का प्रतीक होता है। जिस किसी भी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य प्रथम भाव में स्थित होता है, वह दूसरों से अधिक श्रेष्ठता की भावना रखता है।

पहले घर में स्थित सूर्य से प्रभावित क्षेत्र

स्वास्थ्य और भलाई
सामाजिक प्रतिष्ठा
स्वयं और दूसरों के प्रति दृष्टिकोण
पेशे का प्रकार (या प्रकृति)
व्यावसायिक सफलता
बुद्धि का स्तर

प्रथम भाव में स्थित सूर्य के सकारात्मक लक्षण या प्रभाव

कुंडली के प्रथम भाव (पहले घर) में स्थित प्रमुख ज्योतिषीय ग्रह (सूर्य), व्यक्तियों को एक बहुत अलग प्रकार का व्यक्तित्व देता है। किसी व्यक्ति के मूल व्यक्तित्व पर सूर्य की ऊर्जा और तीव्रता का प्रभाव एक धर्मी व्यक्तित्व को जन्म देता है। इसके साथ ही इन व्यक्तियों में शक्ति और अधिकार की तीव्र इच्छा हो सकती है। जातकों की कुंडली के पहले भाव में स्थित सूर्य उन्हें शानदार प्रभावशाली क्षमता देता है। ऐसे लोग जन्मजात नेता होते हैं, और एक बड़े जनसमूह का मार्गदर्शन कर सकते हैं। लेकिन उन्हें सबके साथ निष्पक्ष और समानता का व्यवहार करना चाहिए। किसी व्यक्ति विशेष को अत्यधिक, अनुचित महत्व नहीं देना चाहिए। इसके अलावा प्रथम भाव में स्थित सूर्य जातक को गतिशीलता और स्वतंत्रता प्रदान करता है। सूर्य के पहले भाव के कैरियर ज्योतिष के अनुसार यह उन्हें राजनीति या नेतृत्व के क्षेत्र में सफलता देता है। जिसके फलस्वरूप जातक आसानी से दूसरों पर राज कर सकता है। प्रथम भाव में सूर्य की उपस्थिति व्यक्ति को मजबूत इच्छाशक्ति और दृढ़ संकल्प के साथ सशक्त बनाती है। वे सकारात्मकता, व्यावहारिकता और आत्मविश्वास से परिपूर्ण होते हैं। वे अन्य लोगों की तुलना में अधिक समझदार और बुद्धिमान भी होते हैं। इसके अलावा इनका स्वभाव बहुत उत्सुक और जिज्ञासु प्रवर्ति का होता है। ये हमेशा कुछ नया सीखने की कोशिश में लगे रहते हैं। यही जिज्ञासा उनके ज्ञान और अनुभव में विकास लाती है। जिन व्यक्तियों की कुंडली के पहले भाव में सूर्य स्थित होता है, उन्हें समाज में मान-सम्मान और प्रतिष्ठा मिलती है। दूसरे लोग नेतृत्व गुणों और ज्ञान के कारण उन्हें पसंद करते हैं। इसलिए जिन लोगों की कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य होता है, उनके करियर में सफलता की संभावना भी अधिक होती है। उनके पास जो मजबूत ऊर्जा और उत्साह होता है, वह उन्हें बेहतर और सरलता से जीवन की चुनौतियों का सामना करने में मदद करते हैं। वे समाज में एक बड़ा बदलाव ला सकते हैं।

यह भी पढ़ें – मंगल करने जा रहा है वृश्चिक राशि में प्रवेश, क्या ये आपके लिए मंगलकारी होगा?

प्रथम भाव में स्थित सूर्य के नकारात्मक लक्षण या प्रभाव

कुछ परिस्थितियों में कुंडली के प्रथम भाव में स्थित सूर्य जातक को अभिमानी और दंभी बना सकता है। इसका मुख्य कारण होता है, कि वे सत्ता और प्रभाव में अधिक होते हैं। उनका आत्मविश्वास, अति आत्मविश्वास में बदल सकता है। उन्हें ऐसा लग सकता है कि वे ही सर्वश्रेष्ठ हैं, और उनसे बेहतर कोई नहीं हो सकता। वे जो निर्णय करते हैं, वैसा कोई नहीं कर सकता। एक नेता या प्रमुख के रूप में वे अपने अनुयाइयों के साथ अनुचित व्यवहार कर सकते हैं। जो लोगों के बीच उनकी लोकप्रियता को ख़त्म कर सकते हैं, जो उनके अधीनस्थ हैं। उनमें से कुछ उनके दुश्मन भी बन सकते हैं। इसके अलावा प्रथम भाव में सूर्य की उपस्थिति वाले जातक सनकी और आत्म-केंद्रित हो सकते हैं। विशेषतः तब, जब हालत उनके पक्ष में नहीं चल रहे हों। ऐसी स्थिति में वे मात्र अपना स्वार्थ देखते हैं, और दूसरों के हितों को नुकसान भी पहुंचा सकते हैं। वैदिक ज्योतिषी के अनुसार यह उन्हें अनैतिक और अधर्मी भी बना सकता है। प्रथम भाव में सूर्य की स्थिति वाले जातक काफी मनमौजी हो सकते हैं। उनकी अत्यधिक गुस्सैल प्रवर्ति आस-पास के परिवेश के सामंजस्य को बिगाड़ सकती है। जो उनके दूसरों के साथ संबंधों को भी शर्मसार कर सकती है।

अपनी कुंडली में सूर्य की स्थिति पता करने के लिए परामर्श लीजिये हमारे ज्योतिषी विशेषज्ञों से अभी!

निष्कर्ष

इसलिए हम देखते हैं कि कुंडली के प्रथम भाव में उपस्थित सूर्य ऊर्जा, महत्वाकांक्षा, सफलता, उपलब्धि और परिपूर्णता का प्रतीक होता है। लेकिन इन क्षमताओं का लाभ उठाने के लिए जातक को कठिन परिश्रम करना ही पड़ता है। कुंडली के प्रथम भाव में सूर्य की उपस्थिति वाले जातक जीवन में बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं। बशर्ते वे अपने गुस्से और अहंकार पर नियंत्रण रखें। अन्यथा उनके दुर्व्यवहार से उनकी तुलना की जा सकती है।

अपने व्यक्तिगत समाधान प्राप्त करने के लिए, एक ज्योतिषी विशेषज्ञ से बात करें अभी!

गणेशजी के आशीर्वाद सहित,
गणेशास्पीक्स डाॅट काॅम