नई जगह क्यों नहीं आती नींद, वजह जान हैरान रह जाएंगे आप


Share on :


शोधकर्ताओं का मानना है कि, एक अच्छे दिन की शुरूआत के लिए कम से कम 8 घंटे की नींद जरूरी होती है। लेकिन क्या होता है जब आप अपना घर, शहर या देश छोड़कर किसी दूसरी जगह जाते है और बेहद मानसिक और शारीरिक थकान के बावजूद आपको नींद नहीं आती ? आप सोचते रहते है, करवटें बदलते है, अपने सोने की दिशा और बिस्तर की दिशा बदलने के बाद भी आप सूकून की नींद को तरस रहे होते है। शायद ऐसी स्थिति में थकान के कारण कुछ पलों के लिए आपकी आंखें बंद हो भी जाएं, लेकिन फिर भी आप पूर्ण निंद्रा प्राप्त नहीं कर पाते। इस समय आप जिस स्थिती में होगें, वह होती है अल्पनिंद्रा, यह वह स्थिती है जब थकान के कारण आपकी आंखें तो बंद है लेकिन आपका दिमाग अभी भी कार्यशील है। सामान्यतः सोने की जगह बदलने के कारण होने वाली इस परेशनी से लगभग हर इंसान को कभी ना कभी जूझना पड़ता है। तो ऐसा क्या है, जो आपके सोने की जगह बदलने पर आपको नींद नहीं आने देता ? आप सोच रहे होगें कि मुझे तो सिर्फ अपने ही बिस्तर पर नींद आती है या मेरा दिमाग मुझे परेशान कर रहा होता है। लेकिन इसके पीछे की वजह जान आप हैरान रह जाएंगे आप कहेगें इस तरह तो मैंने कभी सोचा ही नहीं था। क्या सच में, मुझे सामान्य नींद आने पर या नहीं आने के पीछे इतना सब कुछ काम कर रहा है।

आपकी नींद और ब्रह्मांड

कुछ सालों पहले एक फिल्म आई थी जिसमें हीरो बार-बार एक वाक्य दोहराता है… अगर किसी चीज को पूरी शिद्दत से चाहों तो पूरी कायनात उसे आपसे मिलाने की साजिश (कोशिश) में जुट जाती है। आप सोच रहे होगें कि आपकी नींद का इससे क्या संबंध है ? लेकिन संबंध है, वह ऐसे की इस वाक्य में हीरों जिस कायनात(यूनिवर्स या ब्रह्मांड) की बात कर रहा है, वह अदृश्य रूप से हर इंसान, जीव, जंतु यहां तक की निर्जीव वस्तुओं से भी जुड़ी है। इस ब्रह्मांड को हमसे जुड़ने में जो चीज हमारी मदद करती है वह है हमारा आॅरा जिसे हिंदी में आभा मंडल कहा जाता है। यह सदैव आपके साथ होता है चाहे आप अपने आप को किसी अंधेरे कमरे में कैद कर ले या हिमालय की चोटी पर ही क्यों ना चढ़ जाएं। ब्रह्मांड अदृश्य तरंगों के माध्यम से आप पर प्रभाव डालता है। इन तरंगों को आपका आभा मंडल ग्रहण करता है और आपको ब्रह्मांड से जोड़ता है। यहां आपका यह जानना जरूरी है कि हमारी प्रथ्वी जहां हम रहते है वह ब्रह्मांड का ही एक अंश मात्र है।


ज्योतिष में है आपके हर सवाल का जवाब

आपने अभी तक ऊपर जो भी पढ़ा वह सब वैदिक ज्योतिष शास्त्र का संक्षिप्त हिस्सा है। भारतीय ज्योतिष शास्त्र वह साधान है जिससे प्रथ्वी पर रहने वाला मनुष्य यह जान सकता है कि उसके जीवन पर प्रथ्वी के ही समान बड़े-बडे़ गृह किस तरह प्रभाव डाल रहे है। साथ ही उनके निवारण और निराकरण के लिए क्या करना चाहिए।


आपकी नींद से ऐसे जुड़ा है यह सिद्धांत

अब-जब आपने यह समझ लिया कि कैसे आप इस दुनिया से और यह दुनिया आप से जुड़ी है तो आपके लिए यह समझना आसान होगा कि कैसे यह सिद्धांत आपकी नींद से जुड़ा है। आमतौर पर हमारी दिनचर्या, रहने, खाने और सोने की जगह एक ही होती है लेकिन जब कभी भी इनमें बदलाव आता है या ऐसी स्थिती बनती है कि हमें अपने रहने, खाने और सोने की जगह बदलनी पड़ती है तब हमारा आॅरा हमारे आसपास की चीजों से तालमेल बैठाने में कुछ समय लेता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योकि आप जिस वातावरण में हमेशा होते है वह आपके आॅरा से जुड़ जाता है, लेकिन जब आप किसी नये स्थान पर होते है तो वहां मौजूद अदृृश्य तरंगें और वहां का वातावरण आपको समझने की कोशिश कर रहा होता हैै। वह कोशिश करता है आपके साथ जुड़ने की आपकी आदतों के अनुसार ढलने की लेकिन यह उतना आसान नहीं होता जितना बोलने में लगता है इसलिए आपको किसी नई जगह आसानी से नींद नहीं आती या खाने का मन नहीं करता, यहां तक की काम करने की जगह बदलने पर भी आप अपना पुराना काम जिसमें आप निपुर्ण है वह भी ठीक से नहीं कर पाते। वैसे सामान्यतौर पर नई जगह को आपसे और आपको नई जगह से जुड़ने में ज्यादा से ज्यादा तीन दिन का वक्त लग सकता है। जैसा आपने भी महसूस किया होगा कि तीन दिन के भीतर ही आप किसी भी जगह सहजता से घुल-मिल जाते है।

आपके लिए काम करेगा पूरा ब्रह्मांड

अब आपको पता है कि कैसे ब्रह्मांड आपके साथ घटने वाली घटनाओं से जुड़ा हुआ है और आपको प्रभावित करता है। लेकिन कैसा रहे, यदि आप इसे अपने पक्ष में काम करने के लिए प्रेरित कर सकें ? इससे आने वाली तरंगों को अपनी मन चाही वस्तु या  व्यक्ति को प्रभावित करने के लिए उपयोग कर सकें ? आप सोच रहे होगें कि इतनी विशाल शक्ति को कोई कैसे अपने लाभ के लिए प्रभावित कर सकता है ? लेकिन ऐसा किया जा सकता है, और ऐसा करने के लिए आपको बहुत बड़ा तप या योग करने की जरूरत नहीं है। सिर्फ हमारे ज्योतिषियों द्वारा बताए गए छोटे-छोटे उपाय कर आप अपने लिए जरूरी हर वह चीज प्राप्त कर सकते है जिसे आप कभी ना कभी पाना चाहते है।

22 Aug 2019


View All blogs