21 नवंबर से 14 दिसंबर तक शुक्र रहेगा धनु राशि में, जानिए किस राशि पर क्या प्रभाव पड़ेगा?


Share on :


शुक्र, जिसे शुक्रा भी कहा जाता है, एक शुभ ग्रह है। जो ज्योतिष के अनुसार सकारात्मक परिणाम देता है। शुक्र राक्षसों का संरक्षक तथा भौतिकवादी चीजों, विलासिता, प्रेम संबंधों, वैवाहिक मामलों/आनंद, धन, ऑटोमोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, धन और जीवन शैली के लिए एक महत्वपूर्ण है। सौर मंडल का सबसे चमकीला ग्रह शुक्र इन सभी महत्वाकांक्षाओं पर बड़ा प्रभाव डालता है। यदि जातक की जन्मपत्री में शुक्र की स्थिति मजबूत है, तो जातक को वैवाहिक जीवन का आनंद मिलता है। प्रेम संबंधों में सफलता मिलती है। विलासिता और भौतिक सुखों की इच्छा भी पूरी होती है। जबकि, शुक्र की कमजोर स्थिति जातक को समृद्धि से दूर रखती है। प्रेम-जीवन और वैवाहिक जीवन में तनाव और समस्या पैदा करती है। शुक्र, वृषभ और तुला राशि का स्वामी है। अपनी कुंडली में शुक्र घर की स्थिति का पता लगाने, शुक्र को प्रसन्न करने और कमज़ोर शुक्र के दुष्प्रभावों दूर करने के लिए आप किसी अच्छे ज्योतिषी से सलाह और परामर्श भी ले सकते हैं।

क्या आप लक्जरी आइटम, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, ऑटोमोबाइल, सेलिब्रिटी लाइफस्टाइल और सोशल सर्कल का आनंद लेना पसंद करते हैं? यदि उत्तर हां में है तो शुक्र का गोचर और इसके प्रभाव इन सबके लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। किसी भी ग्रह के स्थान परिवर्तन का समय अपने आत्म-आत्मनिरीक्षण की अवधि होती है। आप अपने उस वास्तविक व्यक्तित्व की खोज कर सकते हैं, जिसे आप अभी तक पहचाना नहीं पाए। शुक्र का वृश्चिक राशि से धनु राशि में प्रवेश करना संकेत है कि आने वाले समय में भौतिकवादी चीजों, विलासिता, प्रेम संबंधों, वैवाहिक मामलों/आनंद, धन, ऑटोमोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, धन और जीवन शैली पर एक बहुत बड़ा प्रभाव पड़ने वाला है। इसलिए शुक्र के धनु राशि में प्रवेश करने की स्थिति का अवलोकन करना बहुत जरूरी है।

किस तारीख़ को धनु में प्रवेश करेगा और कब राशि बदलेगा शुक्र

शुक्र ग्रह ने 21 नवंबर 2019 को धनु राशि में प्रवेश कर लिया है और ये 24 दिन तक यानि 14 दिसंबर 2019 तक धनु राशि में ही गतिशील रहेगा। इसके बाद 15 दिसंबर 2019 से शुक्र, मकर राशि में प्रवेश कर जायेगा।

तो शुक्र के धनु राशि में प्रवेश करने से आपके ऊपर क्या प्रभाव पड़ेगा?

जैसा की हमने ऊपर बताया शुक्र एक शुभ ग्रह है और प्रेम और भौतिकवादी चीजों के लिए काफ़ी महत्वपूर्ण है। जिस राशि में ये ग्रह होता है, उस राशि के जातक को शुक्र रचनात्मक झुकाव, रोमांस और एक काव्यात्मक दृष्टिकोण देता है। यह व्यक्तियों को धन, समृद्धि और विलासिता दिखाता है। धनु राशि में शुक्र का पारगमन लगभग एक महीने के लिए होगा और फिर यह अगले संकेत मकर राशि में चला जायेगा। शुक्र का गोचर किसी भी राशि से संबंधित जातकों के जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है।

अब जानते हैं शुक्र के धनु में पारगमन से किस राशि पर क्या प्रभाव पड़ेगा

मेष राशि
मेष राशि के जातकों की जन्म कुंडली में शुक्र नौवें भाव में गोचर कर रहा है। जो आने वाले कल, भाग्य, धर्म, आध्यात्मिकता, लंबी दूरी की यात्रा, और सपनों के लिए एक महत्वपूर्ण कारक है। शुक्र का यह गोचर लाभकारी साबित होगा और मेष राशि वालों को अनुकूल परिणाम देगा। प्रेम जीवन के लिए यह अनुकूल समय है। आपका प्रेमी आश्चर्यचकित उपहार देगा और आप उनका आनंद लेंगे। आपका प्रेम जीवन फलता-फूलता रहेगा और आप अपने साथी के साथ अधिक समय बिताएंगे। पारगमन से आपको कार्यस्थल पर नए-नए विचारों का आशीर्वाद मिलेगा। आप इन विचारों को अमल में लाएंगे और इससे वांछित परिणाम प्राप्त करेंगे। कार्य में आपके द्वारा लगाए गए विचार और प्रयास आपको अपने कैरियर के और लक्ष्यों को दक्षता के साथ और निश्चित समय में प्राप्त करने में मदद करेंगे। योजनाओं का आसानी से निष्पादन किया जा सकेगा। सफलता की राह में बाधाएं आने की संभावना सबसे कम होंगी। आपके विरोधियों पर जीत हासिल करने और काम के मोर्चे पर तेजी से आगे बढ़ने की संभावना है। आप निजी और पेशेवर जीवन में अत्यधिक ऊर्जावान और उत्साही होंगे। अधिक ऊर्जा और उत्साह आपको जीवन में बेहतर स्वास्थ्य और खुशी बनाए रखने में मदद करेगा। पारगमन के दौरान कोई बड़ी स्वास्थ्य संबंधी बीमारी नहीं रहेगी और आप फिट और स्वस्थ रहने के लिए एहतियाती कदम उठा पाएंगे।

वृषभ राशि
शुक्र ग्रह वृषभ वालों की जन्म कुंडली के अष्टम भाव में गोचर कर रहा है। यह भाव अचानक लाभ और गुप्त चीजों के लिए महत्व रखता है। वृषभ राशि वालों के लिए यह गोचर लाभकारी साबित होगा और अनुकूल परिणाम देगा। आप अतीत में किए गए किसी निवेश से धन लाभ की उम्मीद कर सकते हैं। पारगमन अवधि के दौरान आपके द्वारा तय किए गए सभी व्यावसायिक सौदे फलदायक होंगे और भविष्य में व्यवसाय के लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद मिलेगी। आप अधिक आरामदायक और शानदार जीवन व्यतीत करेंगे। महंगी वस्तुओं पर अधिक खर्च करने की संभावना है और उन सभी भौतिक सुखों का आनंद लेंगे जो आप चाहते हैं। पारगमन की अवधि आपको काम के मोर्चे पर अतिरिक्त प्रयास करने के लिए प्रेरित करेगी। कार्यस्थल पर अतिरिक्त समय तक काम करेंगे और ये प्रयास आपको फलदायी परिणाम देंगे। कार्यों को तेजी से पूरा किया जा सकेगा और प्रतिद्वंद्वी निष्क्रिय रहेंगे। काम की स्थिति में सुधार होगा और अपनी उपलब्धियों से खुश होंगे। मौजूदा हालत में सुधार या बदलाव से खुशी बढ़ेगी और संतुष्ट रहेंगे। नई चीज़ों को सीखने, अपनी रचनात्मकता और कौशल विकसित करने की दिशा में झुकाव होगा। पेशेवर पाठ्यक्रमों में शामिल हो सकते हैं जो आपका ज्ञान बढ़ाने में मदद करेंगे।

मिथुन राशि
शुक्र ग्रह मिथुन राशि जातकों की जन्म कुंडली के सप्तम भाव में गोचर कर रहा है। जो साझेदारी और विवाहित जीवन के लिए महत्वपूर्ण भाव है। मिथुन जातकों के लिए गोचर कम लाभकारी साबित होगा और मिश्रित परिणाम देगा। कार्यस्थल पर अपनी सद्भावना बनाए रखने के लिए आपको अतिरिक्त प्रयास और अतिरिक्त घंटे लगाने की आवश्यकता होगी। ईमानदारी से किये गए प्रयास आपकी स्थिति को बेहतर बनाने में मदद करेंगे। आपके क़रीबी व्यक्ति सहायक और सहयोगी नहीं होंगे। हो सकता है कि आपके विचार उनके साथ मेल न खाएं और आप बहस या विवाद में पद जाएँ। इसलिए सौहार्दपूर्ण संबंध बनाए रखने के लिए तर्क-वितर्क से बचना चाहिए। आपका अप्रत्याशित व्यवहार और कठोर शब्द प्रियजनों की भावनाओं को आहत करेंगे। इसलिए कुछ भी बोलने से पहले दो बार सोचें अन्यथा यह आपके रिश्ते को तनाव में डाल देगा। शांत रहें तथा स्थिति को और बिगड़ने के बजाय अपनी बारी का इंतजार करना करें।

कर्क राशि
कर्क राशि वालों की जन्म कुंडली में शुक्र छठे भाव में गोचर कर रहा है। इस भाव को ग्रह के लिए हानिकारक माना जाता है। क्योंकि यह धन और कल्याण का प्रतीक होता है। इसलिए शुक्र का पारगमन आपके लिए कम फ़ायदेमंद साबित रहेगा और कैंसर पीड़ितों को प्रतिकूल परिणाम देगा। इसलिए इस पारगमन के दौरान सावधान और सतर्क रहें। अपनी जागरूकता को शांत करने के लिए क़रीबी लोगों और प्रतिस्पर्धियों की सहायता ले सकते हैं। इस पारगमन के दौरान क़रीबी लोगों के साथ किन्हीं छोटे-छोटे मुद्दों पर कुछ ग़लतफ़हमी हो सकती है। जिससे स्थिति खराब हो सकती है और आपका स्वभाव चिड़चिड़ा हो सकता है। आप गुस्से में कठोर शब्दों का इस्तेमाल कर सकते हैं जो क़रीबी लोगों की भावनाओं को प्रभावित करेगा और उनके साथ आपके रिश्ते को तनाव में रखेगा। आपको यथासंभव शांत रहने की सलाह दी जाती है। यदि आप शांत और रचनाशील रहे तो व्यक्तिगत और व्यावसायिक संबंध सौहार्दपूर्ण रहेंगे। पारगमन की अवधि में आपको अप्रत्याशित और अवांछित मुद्दों का सामना करने की संभावना है। इन मुद्दों पर आपको ध्यान और चिंता दोनों करनी होगी। अगर आप इन्हें नज़रअंदाज़ करेंगे तो ये आपको भविष्य में बड़ी परेशानी में डाल सकते हैं।

सिंह राशि
सिंह राशि जातकों की जन्म कुंडली में शुक्र पारगमन के दौरान पंचम भाव में गोचर करेगा। पंचम भाव संतान, प्रसिद्धि, पद, ज्ञान, बुद्धि, प्रेम-प्रसंग और प्रतियोगिता में सफलता का कारक होता है। अतः यह गोचर लाभकारी साबित होगा और सिंह राशि के जातकों को अनुकूल परिणाम देगा। व्यक्तिगत संबंधों के लिए आशीर्वाद साबित होगा है। परिवार के साथ समय का आनंद लेंगे और उनके साथ खुश रहेंगे। आपके क़रीबी समर्थक सहायक होंगे और आपको अंदर-बाहर से समझेंगे। न केवल व्यक्तिगत जीवन में, बल्कि व्यवहारिक रिश्तों में भी यह गोचर अनुकूल परिणाम देगा। सहकर्मियों और वरिष्ठ अधिकारियों से सहयोग प्राप्त होगा। वे लक्ष्यों को पूरा करने और दक्षता के साथ सभी कार्यों को पूरा करने में आपका समर्थन करेंगे। गोचर आपको अच्छे भाग्य का आशीर्वाद भी देता है। व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में आपके कार्य तेजी से पूरे होंगे। आपके विरोधी स्पष्ट रूप से निष्क्रिय बने रहेंगे, आप उन पर विजय प्राप्त करने में क़ामयाब हो सकते हैं। इस दौरान आपके जीवन स्तर में वृद्धि होगी और समाज में अच्छा नाम और प्रसिद्धि भी मिलेगी। आप किसी वित्तीय लाभ की उम्मीद कर सकते हैं। पारगमन की अवधि में आपको पूर्व में किए गए निवेश से लाभकारी परिणाम मिलने की संभावना है।

कन्या राशि
कन्या राशि के जातकों के आपकी जन्म कुंडली में शुक्र चौथे भाव में गोचर करेगा। चौथा भाव माता, रिश्तेदारों, घरेलू वातावरण, संपत्ति, नाम, प्रसिद्धि, भावनाओं और छिपे हुए खज़ाने के लिए ज़िम्मेदार होता है। कन्या राशि के जातकों के लिए यह पारगमन लाभकारी साबित होगा और अनुकूल परिणाम देगा। पारगमन के दौरान व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में आपका मनोबल को बढ़ेगा। आपके क़रीबी व्यक्ति, सहकर्मी और वरिष्ठ अधिकारी हर परिस्थिति में सहयोगी रहेंगे। प्रयासों के वांछित परिणाम मिलेंगे और किए गए कार्यों के लिए पुरस्कार और सराहना भी मिलेगी। आप सबसे सहायक स्थितियों में होंगे, यहां तक ​​कि आपके विरोधी भी आपसे सहमत होंगे और सफलता की राह में रुकावटें पैदा नहीं करेंगे। पूर्व में किए गए निवेशों से आपको वित्तीय लाभ मिलने की संभावना है। पारगमन अवधि के दौरान आप जो भी व्यावसायिक सौदे करेंगे वे अनुकूल परिणाम देंगे। इस दौरान आपको शांत रहने की सलाह भी दी जाती है। किसी भी प्रकार की ज़िद करने से बचें। रिश्तों में सौहार्दता और मजबूती बनाये रखने के लिए पुरानी बातों को बुल जाएँ और आने वाली जिंदगी पर ध्यान लगाएँ।

तुला राशि
तुला राशि के जातकों की जन्म कुंडली में शुक्र तीसरे भाव में गोचर कर रहा है। यह भाव छोटे भाई-बहनों, चचेरे भाइयों, साहस, दृढ़ता, पड़ोसियों और संचार का कारक होता है। इनके लिए गोचर कम लाभकारी साबित होगा और प्रतिकूल परिणाम देगा। पारगमन के दौरान व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में कुछ बाधाएं आ सकती हैं। काम के मोर्चे और व्यक्तिगत जीवन में कार्य तभी पूरे होंगे जब आप ईमानदारी से प्रयास करेंगे। तय समय सीमा के कार्यों को पूरा करने में आपको कठिनाई होगी। इसलिए उन्हें पूरा करने के लिए आपको अतिरिक्त समय तक भी काम करना पद सकता है। आपको संसाधनों की कमी का अनुभव होगा जो आपके कार्य प्रगति में भी बाधक हो सकते हैं। इस दौरान आपके विरोधी सक्रिय रहेंगे और आपके कार्य में व्यवधान उत्पन्न करने की कोशिश करेंगे। इसलिए शांत रहें और धैर्य रखें क्योंकि आपके शिष्टाचार की कमी का फायदा विरोधी उठाएंगे। यदि आप अपना आपा खो देंगे तो वे आपसे अधिक सक्रिय हो जायेंगे जिससे आपके लक्ष्यों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। आप तनाव में जा सकते हैं और मानसिक शांति भी खो सकते हैं।

वृश्चिक राशि
वृश्चिक व्यक्तियों की जन्म कुंडली में शुक्र दूसरे भाव में गोचर कर रहा है। यह घर धन, परिवार, भाषण, मौद्रिक संसाधनों, महत्वाकांक्षा, कल्पना और अवलोकन की शक्ति का कारक होता है। वृश्चिक व्यक्तियों के लिए यह गोचर लाभकारी साबित होगा और अनुकूल परिणाम देगा। पारगमन के दौरान कार्यस्थल पर लाभ प्राप्त होगा है। आप कार्यस्थल पर अत्यधिक प्रेरित रहेंगे तथा पूर्णता और दक्षता के साथ काम करेंगे। आपके वरिष्ठ अधिकारी आपकी ईमानदारी और कार्य पर दक्षता से प्रभावित होंगे। आपकी साख और प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। आपके तत्काल बॉस आपके ईमानदार प्रयासों को पहचानेंगे और पुरस्कृत करेंगे। आप आसानी से लक्ष्यों को प्राप्त करने और कैरियर के लक्ष्यों को पूरा करने में सक्षम होंगे। आपके वरिष्ठ अधिकारी आपके कार्य प्रदर्शन और कार्यकुशलता से संतुष्ट होंगे। जैसे की शुक्र सुंदरता और भौतिक वस्तुओं के साथ जुड़ा हुआ है। इसलिए आप संबंधित उपहार प्राप्त कर सकते हैं। क़रीब लोगों और सहयोगियों से सुंदर कपड़े और अच्छे उपहार मिलने की संभावना है।

धनु राशि
चूँकि शुक्र का परागमन धनु राशि में ही हो रहा है। इसलिए धनु राशि जातकों के लिए ये परागमन कम लाभकारी रहेगा। धनु राशि के जातकों की जन्म कुंडली में शुक्र, प्रथम भाव में गोचर कर रहा है। ये भाव उपस्थिति, व्यक्तित्व, स्वास्थ्य, चरित्र, स्वभाव, दीर्घायु, बुद्धि, सम्मान, प्रतिष्ठा, भाग्य, धन और समृद्धि का कारक है। गोचर धनु व्यक्तियों को मिश्रित परिणाम देगा। शुक्र का परागमन आपके जीवन में खुशी का आश्वासन तो देता है, लेकिन साथ ही साथ आप उदास भी महसूस कर सकते हैं। आपको ईमानदार प्रयासों से भी अपेक्षित परिणाम प्राप्त होने की संभावना नहीं है। इसलिए आप तनाव ग्रस्त और उदास रहेंगे। पूर्व में किए गए निवेश से आपको अप्रत्याशित लाभ मिलने की संभावना है। इन लाभों से आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा और आप भविष्य के लाभों के लिए इसी तरह के निवेश के लिए इच्छुक हो सकते हैं। आपको अपने अंदर झांकने और अपनी संगत जांच करने के लिए मजबूत इच्छाशक्ति की जरूरत है। बुरी संगत से आपके निजी जीवन और करियर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। आपको ऐसे लोगों की संगति से दूर रहना चाहिए क्योंकि आपको उनसे कोई लाभ नहीं होने वाला है।

मकर राशि
मकर राशि के जातकों की जन्म कुंडली में बारह वें भाव में शुक्र परागमन के दौरान गोचर कर रहा है। यह भाव सजा, कारावास, दान देने, विवाह, विलासिता का आनंद लेने, जुर्माना और वैदिक बलिदान के लिए ज़िम्मेदार है। मकर राशि वालों के लिए यह गोचर कम लाभकारी साबित होगा और प्रतिकूल परिणाम देगा। आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति सावधान रहना होगा और एहतियाती उपाय करने होंगे। फिट और स्वस्थ रहने के लिए नियमित रूप से अपने आहार पर नजर रखें और व्यायाम करते रहें। काम के मोर्चे पर कुछ बाधाओं का सामना करने की संभावना है। काम में किये गए प्रयासों और लगन के बावज़ूद आपको वांछित परिणाम प्राप्त होने की संभावना नहीं है। इसलिए, आप पेशेवर जीवन में असंतुष्ट रहेंगे और कैरियर के लक्ष्यों को प्राप्त करने में कठिनाई महसूस करेंगे। परागमन के दौरान चोरी होने की संभावना भी है। आपको अपने सामान का ध्यान रखना होगा और कीमती चीजों को सुरक्षित स्थान पर रखना होगा। कोई यात्रा के दौरान भी आप अपने सामान की सुरक्षा के लिए स्वयं ज़िम्मेदार होंगे।

कुंभ राशि
कुंभ राशि जातकों की जन्म कुंडली में शुक्र ग्यारहवें भाव में गोचर कर रहा है। ये भाव लाभ, धन, समृद्धि, इच्छाओं की पूर्ति, मित्रों, इच्छाओं, अपेक्षाओं और बड़े भाई-बहनों से संबंधित होता है। कुंभ राशि वालों के लिए गोचर लाभकारी साबित होगा और अनुकूल परिणाम देगा। आपके गंभीर प्रयासों और कार्य दक्षता को वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा मान्यता दी जाएगी। आपको इस अवधि के दौरान वेतन प्राप्त होने की संभावना है। व्यवसाय करने वाले जातकों की नए स्रोतों से कमाई करने की संभावना हैं। आप अत्यधिक प्रेरित होंगे और कार्यस्थल पर अतिरिक्त प्रयास करेंगे। आप अपने प्रदर्शन से आश्वस्त और संतुष्ट होंगे। आत्मविश्वास और आत्म-प्रेरणा आपको समय पर पूर्णता के साथ कार्य करने में मदद करेगी। आय में  वृद्धि के कारण खाने-पीने चीजों और प्रियजनों के लिए कीमती उपहार खरीदने के लिए पैसे खर्च करने की इच्छा होगी। ओर झुकाव होगा। लेखन के प्रति आपका झुकाव होगा और अपनी भावनाओं को काव्यात्मक तरीके से साझा कर सकेंगे। ऐसा करने में आपको बहुत खुशी होगी।

मीन राशि
मीन राशि के जातकों की जन्म कुंडली में शुक्र दसवें भाव में गोचर कर रहा है। यह भाव पेशा, अधिकार, शक्ति, प्रसिद्धि, स्थिति, सफलता, हालात, कर्म, जीवन की महत्वाकांक्षा, पिता, नियोक्ताओं और वरिष्ठ अधिकारियों, व्यवसाय में सफलता और इनाम और मान्यता का कारक है। मीन राशि के व्यक्तियों को गोचर कम लाभदायक साबित होगा और मिश्रित परिणाम देगा। गोचर अवधि में आप व्यथित रहेंगे। आपकी सद्भावना की वजह से आपको कार्यस्थल पर काम अधिक मिलेगा। आपके वरिष्ठ आपसे अधिक अपेक्षा करेंगे और उनकी अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए आप तनाव ग्रस्त रहेंगे। नए लक्ष्यों और समय सीमा को पूरा करने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने होंगे। अति व्यस्त और व्यस्त कार्यक्रम के कारण आपका स्वास्थ्य भी प्रभावित होने की संभावना है। मानसिक शांति प्राप्त करने के लिए आपको योग और ध्यान के लिए समय निकालना होगा। कार्यों को समय पर पूरा करने के लिए अपनी योजनाओं को ठीक तरह से निष्पादित कर काम पर ध्यान देना पड़ेगा। अनुचित नियोजन से आपके प्राथमिकता वाले कार्य अधूरे रह जायेंगे जो अंततः आपके लक्ष्यों को प्रभावित करेगा। कार्य को पूरा करने के लिए आपको आत्मनिर्भर होना पड़ेगा। आपको दूसरों पर निर्भर नहीं होना चाहिए, विशेष रूप से विपरीत लिंगी के प्रति आपको उनसे कोई भी उपयोगी मदद मिलने की संभावना नहीं है। दूसरों पर निर्भरता कोई परिणाम नहीं देगी और बाद में आपके काम के बोझ को बढ़ा देगी।

अगर आप भी अपनी व्यक्तिगत कुंडली पर शुक्र परागमन का प्रभाव या अन्य कोई ज्योतिषीय सलाह लेना चाहते हैं तो आज ही हमारे ज्योतिषियों सलाह लें।

गणेश की कृपा से,
गणेशस्पीक्स.कॉम टीम

25 Nov 2019


View All blogs

More Articles